13.6 C
New Delhi
Tuesday, January 26, 2021

दिल्ली ने केंद्र से मांगी 5000 करोड़ रुपये की मदद

  • दिल्ली में सैलरी देने को पैसे नहीं ,केंद्रीय वित्तमंत्री को पत्र लिखकर 5000 करोड़ की सहायता मांगी
  • आपदा राहत कोष से अन्य राज्यों को सहायता मिली, दिल्ली को भी मिले : डिप्टी सीएम
  • राजस्व संग्रह गत वर्ष की तुलना में 78% कम हुआ : सिसोदिया

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली ने केंद्र सरकार से 5000 करोड़ की आर्थिक सहायता मांगी है। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने 26 मई को केंद्रीय वित्तमंत्री को पत्र लिखा है। आज ऑनलाइन प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए सिसोदिया ने यह जानकारी दी। सिसोदिया ने बताया कि लॉकडाउन के कारण पूरे देश की अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ा है। दिल्ली पर भी इसका काफी असर हुआ है। दिल्ली सरकार ने अपने न्यूनतम खर्च की समीक्षा की है। इसके अनुसार केवल सैलरी तथा ऑफिस खर्च पर न्यूनतम 3500 करोड़ का मासिक खर्च है। विगत दो माह में जीएसटी से मात्र 500 करोड़ मासिक का संग्रह हुआ है।

जीएसटी तथा अन्य स्रोत मिलाकर प्रथम तिमाही में कुल 1735 करोड़ रुपये मात्र का संग्रह हुआ है। पिछले साल इस अवधि में 7799 करोड़ का राजस्व संग्रह हुआ था। इस साल राजस्व में 78 फीसदी की गिरावट आई है। सिसोदिया के अनुसार वर्तमान में दिल्ली को न्यूनतम 5000 करोड़ की आवश्यकता है। सिसोदिया ने कहा कि आपदा राहत कोष से अन्य राज्यों को केंद्र सरकार से मदद मिली है। लेकिन दिल्ली सरकार को कोई मदद नहीं मिली। सामान्य तौर पर भी केंद्र द्वारा दिल्ली सरकार को कोई आर्थिक सहायता नहीं दी जाती है। लेकिन अभी जब दिल्ली में राजस्व संग्रह नहीं हो रहा, तब केंद्र से मदद मिलना जरूरी है। इससे हम कर्मचारियों, शिक्षकों, डॉक्टर, इंजीनियर, सिविल डिफेंस के लोग तथा कोरोना राहत में जुटे अन्य कर्मियों को सैलरी का भुगतान कर पाएंगे।

यह भी पढ़ें: 200 ट्रेनें चलने को तैयार, 1 जून से भरेंगी फर्राटा

सिसोदिया ने 26 मई को केंद्रीय वित्तमंत्री के नाम पत्र में लिखा है कि कोरोना नियंत्रण में दिल्ली देश के अग्रणी राज्यों में है। दिल्ली अपना समस्त खर्च अपने संसाधनों से उठाती है। वित्त वर्ष 2020-21 में दिल्ली विधानसभा ने 65000 करोड़ का बजट पास किया है। इसमें 35500 करोड़ का खर्च स्थापना, लोकल बॉडीज को योगदान तथा ब्याज इत्यादि में होता है। सामान्य स्थिति में दिल्ली अपने संसाधनों से अपना खर्च उठाने में सक्षम है। लेकिन मौजूदा संकट में केंद्र की मदद आवश्यक है। केंद्र से 5000 करोड़ अनुदान मिलने पर दिल्ली नगर निगम को वेतन तथा स्थापना व्यय देने में भी सुविधा होगी।

सिसोदिया के अनुसार दिल्ली सरकार ने कोरोना से लड़ने के लिए अस्पतालों को अपग्रेड किया है। पीपीई, वेंटीलेटर, टेस्टिंग किट, सैनिटाइजर, एन-95 मास्क इत्यादि का समुचित प्रबंध किया है। जरूरतमंद लोगों के लिए भोजन तथा राशन वितरण के अलावा प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजने संबंधी रेलवे का किराया भी दिल्ली सरकार भुगतान कर रही है। उक्त आलोक में सिसोदिया ने केंद्र सरकार से 5000 करोड़ के अनुदान की मांग की है।

Related Articles

Stay Connected

21,424FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles