14.7 C
New Delhi
Monday, January 25, 2021

PM: सामाजिक भ्रष्टाचार का मुख्य कारण है वंशवादी राजनीति

–राजनीति में निस्वार्थ और रचनात्मक योगदान दें युवा : प्रधानमंत्री
–पीएम ने युवाओं से किया वंशवादी व्यवस्था को जड़ से समाप्त करने का आह्वान
–राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव का पीएम मोदी ने किया समापन
–भ्रष्टाचार उन लोगों पर भारी बोझ बन गया है जिनकी विरासत भ्रष्टाचार ही थी
–एक उपनाम की बैसाखी के सहारे चुनाव जीतने के दिन समाप्त हो गए : PM
–वंशवाद की राजनीति की परेशानी अभी दूर होना बाकी है
–स्वामी विवेकानंद का प्रभाव और असर हमारे राष्ट्रीय जीवन में बरकरार 

नई दिल्ली/ खुशबू पाण्डेय : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यहां राष्ट्रीय युवा संसद में युवाओं को राजनीति में निस्वार्थ और रचनात्मक सहयोग देने के लिए प्रेरित किया। साथ ही कहा कि आज ईमानदार लोगों को सेवा करने और अनैतिक गतिविधियों के रूप में बनी राजनीति की पुरानी धारणाओं को बदलने का अवसर प्राप्त हो रहा है। आज ईमानदारी और कार्य प्रदर्शन समय की जरूरत बन गए हैं। इस संदर्भ में प्रधानमंत्री ने वंशवादी राजनीति के बारे में काफी विस्तार से बताया। साथ ही कहा कि भ्रष्टाचार उन लोगों पर भारी बोझ बन गया है जिनकी विरासत भ्रष्टाचार ही थी। उन्होंने युवाओं से वंशवादी व्यवस्था को जड़ से समाप्त करने का आह्वान किया। साथ ही कहा कि वंशवादी राजनीति एक लोकतांत्रिक व्यवस्था में अक्षमता और तानाशाही को जन्म देती है, क्योंकि ऐसे व्यक्ति परिवार की राजनीति और राजनीति में परिवार को बचाने की दिशा में काम करते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा आज एक उपनाम की बैसाखी के सहारे चुनाव जीतने के दिन समाप्त हो गए हैं, लेकिन वंशवाद की राजनीति की परेशानी अभी दूर होना बाकी है। वंशवादी राजनीति पहले राष्ट्र को आगे बढ़ाने के बजाय स्वयं और परिवार को बढ़ावा देती है। यह भारत में सामाजिक भ्रष्टाचार का एक प्रमुख कारण है। प्रधानमंत्री मोदी ने युवाओं से नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति द्वारा उपलब्ध कराए गए लचीलेपन और नवाचारी शिक्षण प्रारूप का लाभ उठाने का अनुरोध किया। साथ ही कहा कि हम देश में एक ऐसे तंत्र का सृजन करने की कोशिश कर रहे हैं, जिसकी अनुपस्थिति में अक्सर युवाओं को विदेशों की ओर देखने के लिए मजबूर होने पड़ता है।


प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार को राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस कार्यक्रम का आयोजन संसद के सेंट्रल हॉल में में किया गया। प्रधानमंत्री ने इस महोत्सव के तीन युवा राष्ट्रीय विजेताओं के विचारों को भी सुना। लोकसभा अध्यक्ष ओम विरला, केंद्रीय शिक्षा मंत्री और युवा कार्यक्रम एवं खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

स्वामी विवेकानंद का उनकी जयंती पर स्मरण करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि समय बीतने के बाद भी स्वामी विवेकानंद का प्रभाव और असर हमारे राष्ट्रीय जीवन में बरकरार है। राष्ट्रवाद और राष्ट्र-निर्माण के बारे में उनके विचार और जनता की सेवा व विश्व की सेवा करने के संबंध में उनकी शिक्षा हमें लगातार प्रेरित करती रहती है। प्रधानमंत्री ने व्यक्तिगत और संस्थानों में स्वामी के योगदान के बारे में भी बात की। उनके संपर्क में आने वाले व्यक्तियों ने संस्थानों का सृजन किया और बदले में नए संस्था-निर्माता भी बनाएं। इससे व्यक्तिगत विकास से संस्था-निर्माण और इसके विपरीतक्रम में सदगुण चक्र की भी शुरुआत हुई। यह भारत की एक बड़ी शक्ति है क्योंकि प्रधानमंत्री ने व्यक्तिगत उद्यमशीलता और बड़ी कंपनियों के बीच संबंधों को रेखांकित किया।

130 करोड़ भारतीय आज स्वयं अपना भाग्य लिख रहे हैं

भुज भूकंप के बाद के पुनर्निर्माण कार्यों का उदाहरण देते हुए, प्रधानमंत्री ने युवाओं को बताया कि आपदा में जो समाज अपना रास्ता खुद बनाना सीखता है, वह स्वयं अपना भाग्य लिखता है। इसलिए सभी 130 करोड़ भारतीय आज स्वयं अपना भाग्य लिख रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज के युवाओं द्वारा किया गया प्रत्येक प्रयास और नवाचार, ईमानदार प्रतिज्ञा, हमारे भविष्य की मजबूत आधारशिला रख रहा है।

युवाओं को दिया स्वामी विवेकानंद का मंत्र

प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि वह स्वामी विवेकानंद ही थे, जिन्होंने राष्ट्र की नींव के रूप में आत्मविश्वासी, स्पष्ट-हृदय वाले, निडर और साहसी युवाओं की पहचान की थी। प्रधानमंत्री ने युवाओं के लिए स्वामी विवेकानंद के मंत्रों को प्रस्तुत किया। स्वामी ने शारीरिक फिटनेस के लिए ‘मसल्स ऑफ आयरन एंड नवर््ज ऑफ स्टीलÓ, व्यक्तित्व विकास के लिए अपने आप में विश्वास और नेतृत्व और टीम वर्क के लिए, ‘सभी में विश्वासÓ करना बताया है।

Related Articles

Stay Connected

21,418FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles