8 C
New Delhi
Thursday, January 28, 2021

गाजियाबाद के श्मशान घाट पर भीषण हादसा, 23 की मौत

—श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार में शामिल होने पहुंचे थे लोग, छत गिरी, दब गए
—UP के CM ने दिया जांच के आदेश, मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख का मुआवजा

गाजियाबाद/ टीम डिजिटल : दिल्ली से सटे गाजियाबाद जिले में रविवार को एक दर्दनाक हादसा हो गया है। श्मसान घाट पर अंतिम संस्कार में शामिल होने गए लोगों पर छत गिरने से 23 लोगों की मौत हो गई है जबकि कई की हालत गंभीर बताई जा रही है। हादसे के शिकार लोगों का इलाज गाजियाबाद जिला अस्पताल में चल रहा है। दरअसल, दयानंद कॉलोनी निवासी दयाराम की रात को बीमारी के चलते मौत हो गयी थी। उनके अंतिम संस्कार में 100 से ज्यादा मोहल्लेवासी व रिश्तेदार शामिल हुए थे। अंतिम संस्कार की अंतिम प्रक्रिया चल रही थी। पुजारी के आह्वान पर सभी लोग श्मशान घाट परिसर में बने भवन के अंदर खड़े होकर आत्म शांति पाठ कर रहे थे। इसी दौरान एक तरफ की जमीन धंस गयी। परिणामस्वरूप दीवार नीचे बैठ गयी और लेंटर गिर गया। किसी को भागने तक का मौका नहीं मिला।
हादसे में 40 से अधिक लोग दब गए। चीखपुकार के बीच कुछ लोगों ने बड़ी मुश्किल से भागकर अपनी जान बचाई। तुरंत घटना की जानकारी पुलिस और प्रशासन को दी गई। मौके पर पहुंच कर रेस्क्यू टीम ने लोगों को निकालना शुरू किया और इलाज के लिए गाजियाबाद जिला अस्पातल में भर्ती कराया गया। शुरुआत में बारिश के कारण बचाव कार्य में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। बता दें कि गाजियाबाद में सुबह से ही रुक-रुक कर बारिश हो रही है।

गाजियाबाद के जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने बताया करीब 30 लोग मलबे के अंदर मिले, जिनको उपचार के लिए एमएमजी अस्पताल भेजा गया है। 23 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। राहत कार्य तेजी से चल रहा है। आपदा प्रबंधन (NDRF) की टीम बचाव कार्य में जुटी है।
बता दें कि मुरादनगर में सुबह 3 बजे से साढ़े आठ बजे तक बारिश हुई। बीच मे कुछ देर बंद रही फिर बारिश शुरू हो गयी। जो भवन गिरा है, वह करीब दस साल पुराना है, नगरपालिका ने उसे बनाया था।
घटना की बावत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान करने के निर्देश दिए हैं और घटना पर गहरा शोक व्यक्त किया है। साथ ही सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे लोगों की सभी संभव मदद करें। सीएम योगी ने अधिकारियों से घटना पर रिपोर्ट भी मंगाई है।

जेसीबी से मलवा हटवाकर निकाले गए शव

मोदीनगर में रविवार को हुए हादसे में मारे गए लोगों के शवों को निकालने के लिए जेसीबी मंगवानी पड़ी। हादसा इतना दर्दनाक था कि देखने वालों के रोंगहटे खड़े हो गए। मौके पर पहुंचे प्रशासनिक अधिकारियों ने आनन-फानन जेसीबी मंगवाकर रेस्क्यू शुरू करवाया। जेसीबी से मलवा हटाने का काम शुरू हुआ। एक-एक करके 23 लोगों के शवों को बाहर निकाला गया।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जताया शोक

गाजियाबाद की घटना पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शोक जताया है। उन्होंने कहा, ‘गाजियाबाद के मुरादनगर स्थित श्मशान में छत गिरने की घटना अत्यन्त दुखद है। मृतकों के परिवार जन को मेरी शोक संवेदनाएं। मैं प्रार्थना करता हूं कि इस दुर्घटना में आहत लोग शीघ्र स्वस्थ हों। स्थानीय प्रशासन राहत और सहायता हेतु कार्यरत है।’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी जताया शोक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी गाजियाबाद की घटना पर गहरा शोक जताया है। उन्होंने लिखा, ‘उत्तर प्रदेश के मुरादनगर में हुए दुर्भाग्यपूर्ण हादसे की खबर से अत्यंत दुख पहुंचा है। राज्य सरकार राहत और बचाव कार्य में तत्परता से जुटी है। इस दुर्घटना में जान गंवाने वालों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं, साथ ही घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’

Related Articles

Stay Connected

21,426FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles