spot_img
9.1 C
New Delhi
Tuesday, January 18, 2022
spot_img

कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ BJP ने की चौतरफा घेरेबंदी

spot_imgspot_img

-राहुल का ट्विटर अकाउंट फिर से बंद करने को लेकर बनाया दबाव
–दलित बच्ची की तस्वीर ट्विटर पर लगाने पर भड़के बीजेपी के चीफ
–राहुल गांधी का ‘राजनीतिक पर्यटन आजकल केरल में चल रहा है : जेपी नडडा

Indradev shukla

नई दिल्ली/ नेशनल ब्यूरो: भारतीय जनता पार्टी (BJP) के अध्यक्ष जे पी नड्डा ने राजधानी दिल्ली में नौ साल की एक बलात्कार पीडि़ता दलित बच्ची के माता-पिता की तस्वीर ट्विटर पर साझा करने के लिए पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को आड़े हाथों लिया। साथ ही उनके इस आचरण को उनकी ओछी राजनीति का जीता जागता प्रमाण करार दिया। बता दें कि दलित बच्ची की कथित तौर पर दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। राहुल गांधी ने बच्ची के परिजनों से मुलाकात के बाद उनके माता-पिता की तस्वीर ट्विटर पर साझा की थी। भाजपा ने इसे यौन अपराध से बच्चों की सुरक्षा (पॉक्सो) कानून का उल्लंघन करार देते हुए राहुल गांधी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। बाद में ट्विटर ने राहुल गांधी समेत कई कांग्रेस नेताओं का ट्विटर अकाउंट बंद (ब्लॉक) कर दिया था। भाजपा ने आज फिर से राहुल गांधी का ट्विटर अकाउंट बंद किए जाने की मांग की।

इसे भी पढें...रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने DRM एवं GM को दी चेतावनी, अफसर भूल जाएं करप्शन और बेइमानी

Indradev shukla

पार्टी ने कहा कि राहुल गांधी ने दावा किया था उन्होंने बच्ची के परिजनों की सहमति के बाद उनकी तस्वीर साझा की थी, जबकि उसकी मां ने दावा किया है कि राहुल गांधी ने ऐसी कोई सहमति नहीं ली थी।
केरल के कोझिकोड में पार्टी के जिला कार्यालय का उद्घाटन करने के बाद नड्डा ने कहा कि दिल्ली में एक बच्ची के साथ पिछले दिनों जो अमानवीय कृत्य हुआ, उसकी जितनी ङ्क्षनदा की जाए वह कम है, लेकिन इसका राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए था। उन्होंने कहा, संवेदनशीलता नगण्य हो, घमंड भरपूर हो और बेपरवाह जीवन शैली के साथ राजनीति में काम करने की आदत हो तो, ना नियम की ङ्क्षचता होती है ना कानून की।

इसे भी पढें...महिलाओं, लड़कियों को यौन गुलाम बनाता है तालिबान

उन्होंने कहा, हम सब लोग जानते हैं कि बिना परिवार के इजाजत के उनकी तस्वीर सार्वजनिक करना और बाद में झूठ बोलना, आज जब पीडि़ता की मां न सब कुछ सार्वजनिक कर दिया है तो यह उनकी (राहुल गांधी) ओछी राजनीति का जीता जागता प्रमाण है। नड्डा ने कहा कि राहुल गांधी का आजकल ‘राजनीतिक पर्यटन केरल में चल रहा है। उन्होंने कहा, मुझे दुख होता कि कुछ लोग राजनीतिक पर्यटक बनकर केरल जाते हैं। अमेठी से हारे तो वायानाड पहुंच गए। लेकिन प्रदेश बदल देने से नीयत और भावनाएं नहीं बदलतीं।
इस बीच, भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी इस मामले में राहुल गांधी पर निशाना साधा और मांग की कि पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष का ट्विटर अकाउंट फिर से बंद किया जाना चाहिए। भाजपा के राष्ट्रीय मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए पात्रा ने कहा, राहुल गांधी ने अपनी विश्वसनीयता खो दी है और वह आदतन झूठे हैं। जनता ने इनका (कांग्रेस) राजनीतिक अकाउंट बंद कर दिया है और अब ट्विटर को उनका अकाउंट बंद कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले दिल्ली में छोटी सी बच्ची के साथ दुष्कर्म हुआ था और इस मामले पर भी राहुल गांधी ने राजनीति की और कानून के दायरे से बाहर जाकर बच्ची के माता-पिता की तस्वीर को सोशल मीडिया पर डाला था। उन्होंने कहा, पीडि़ता की मां ने खुद बयान देकर कहा है कि हमारे परिवार ने तस्वीर सार्वजनिक करने की कोई हामी नहीं दी है। बच्ची की मां जब मीडिया से बात कर रही थीं, तब भी उन्होंने अपनी पहचान को छिपाया था। दुखद है कि राहुल गांधी और कांग्रेस ने देश से इतना बड़ा झूठ बोला है। पात्रा ने कहा कि जब राहुल गांधी ने पीडि़ता के परिवार की तस्वीर साझा की तब ट्विटर ने अपनी नीति के अनुसार कार्रवाई की थी। BJP CHIF ने कहा, तब राहुल गांधी ने देश से झूठ बोला था कि पीडि़ता के परिवार ने उनको स्वीकृति दी थी। कोई भी जिम्मेदार नेता ऐसा नहीं कर सकता।

केरल सरकार की जमकर आलोचना

नड्डा ने कोविड प्रबंधन को लेकर केरल सरकार की जमकर आलोचना की और कहा कि वहां की वामपंथी सरकार जिस ‘केरल मॉडल की दुहाई दे रही थी वह दरअसल उसके कुप्रबंधन का मॉडल है। उन्होंने कहा, आज कहां है वह मॉडल? क्या गलती हुई जो औसतन 20 हजार संक्रमण के मामले रोज यहां आ रहे हैं। आज भी एक लाख से अधिक संक्रमण के मामले हैं केरल में। यह कोविड प्रबंधन नहीं हैं बल्कि कुप्रबंधन है। यह केरल मॉडल नहीं है, बल्कि कुप्रबंधन का मॉडल है। उन्होंने दावा किया कि केरल में कोविड-19 की 70 प्रतिशत से अधिक एंटीजन जांच की गई जबकि जांच का सबसे बेहतर तरीका आरटी पीसीआर है। उन्होंने कहा, ”कोविड प्रबंधन में सरकार को अतिसक्रिय भूमिका निभानी थी, जो केरल की वामपंथी सरकार ने नहीं निभाई।

spot_imgspot_imgspot_img

Related Articles

epaper

spot_img

Latest Articles

spot_img