spot_img
29.1 C
New Delhi
Wednesday, June 16, 2021
spot_img

दिल्ली सरकार का इंटीग्रेटेड कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर चालू

  • कोरोना से संबंधित सभी डेटा वास्तविक समय के आधार पर एकत्र किया जाएगा
  • अगर सरकार हवा में निर्णय लेगी, तो वह कभी भी सफल नहीं होंगे
  • हम कोरोना की संभावित तीसरी लहर को लेकर तैयार हैं
  • हमने एक हजार आईसीयू बेड बढ़ा दिए हैं, आगे भी हमारी तैयारी जारी रहेगी

नई दिल्ली, टीम डिजिटल: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Chief Minister Arvind Kejriwal) ने दिल्ली सरकार द्वारा पालिका केंद्र स्थित एनडीएनसी बिल्डिंग में स्थापित इंटीग्रेटेड कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का दौरा कर जायजा किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि सेंटर पर कोरोना से संबंधित हर तरह का डेटा वास्तविक समय के आधार पर एकत्र किया जाएगा। यहां अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन, वैक्सीनेशन और कोविड प्रबंधन से संबंधित डेटा को एकत्र कर मिलान और विश्लेषण किया जा सकेगा।
सीएम ने कहा कि अगर सरकार हवा में निर्णय लेगी है, तो वह कभी भी सफल नहीं होंगे, लेकिन वही निर्णय डेटा के आधार पर लेगी, तो वह सार्थक और प्रभावशाली होंगे। हम कोरोना की संभावित तीसरी लहर को लेकर तैयार हैं। हमने अभी एक हजार आईसीयू बेड बढ़ाए हैं और आगे भी हमारी तैयारी जारी रहेगी। सीएम ने कहा कि सभी का वैकसीनेशन (Vaccination) बहुत जरूरी है। कई देशों का अनुभव बताता है कि बड़े स्तर पर वैक्सीनेशन करने से कोरोना को कम किया जा सकता है। हमने कोविशील्ड और कोवैक्सीन (Covshield and covaxine) की 67-67 लाख वैक्सीन मांगी है और लगभग इतनी ही वैक्सीन के लिए स्पूतनिक को भी लिखा है।

सीएम केजरीवाल ने ट्वीट कर दी कमांड एंड कंट्रोल सेंटर शुरु होने की जानकारी

सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, दिल्ली सरकार ने एक एकीकृत कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (आईसीसीसी) शुरू किया है। यहां अस्पतालों, ऑक्सीजन (Oxygen), टीकाकरण और कोविड प्रबंधन के अन्य पहलुओं से संबंधित डेटा को वास्तविक समय के आधार पर एकत्र, मिलान और विश्लेषण किया जाता है। यह हमें निर्णय लेने में मदद करेगा।

इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर क्यों शुरु किया गया

इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज यहां पर कोरोना के प्रबंधन के लिए दिल्ली सरकार का इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (Integrated Command and Control Center) चालू हुआ है। इसमें पूरी दिल्ली से कोरोना से संबंधित किस्म-किस्म का डेटा वास्तविक समय के आधार पर एकत्र किया जाएगा। सीएम ने कहा कि वास्तविक समय (रियल टाइम) का मतलब यह है कि अभी इस वक्त कहां पर क्या चल रहा है, वह इस सेंटर में एकत्र होगा। अगर हम ऑक्सीजन की बात करें, तो इस वक्त किस अस्पताल में कितनी ऑक्सीजन है, कौन सा हमारा ऑक्सीजन का टैंकर निकल चुका है और वह कहां तक पहुंचा है, उसकी जीपीएस से ट्रैकिंग होगी। वहीं, अगर हम अस्पतालों की बात करें, तो इस वक्त किस अस्पताल में कितने बेड खाली हैं, कितने आईसीयू के बेड खाली हैं, कितने ऑक्सीजन के बेड खाली हैं। उसी तरह, कितने लोगों को वैक्सीन लग चुकी है, कितने लोगों को किस उम्र समूह (एज ग्रुप) में वैक्सीन लग चुकी है। इस सेंटर पर वैक्सीन, ऑक्सीजन और हॉस्पिटल से संबंधित डेटा एकत्र होगा। साथ ही, किस एरिया में कितने मरीज हैं, कितने एक्टिव मरीज है और कितने मरीज ठीक हो चुके हैं, यह सारा डेटा यहां पर एकत्र होना शुरू हुआ है।

हवा में लिए गए निर्णय कभी भी सफल नहीं होंते- सीएम केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह बहुत ही अच्छी शुरुआत है, क्योंकि सरकार अगर हवा में निर्णय लेती है, तो वे निर्णय कभी भी सफल नहीं होंते हैं, लेकिन सरकार अगर वही निर्णय डेटा के आधार पर लेगी, तो वह निर्णय सार्थक और प्रभावशाली होंगे। अभी यह शुरूआत है। हम जैसे-जैसे आगे बढ़ेंगे और भी डेटा चारों तरफ से एकत्र करके इसको और मजबूत करेंगे। मैं समझता हूं कि यह आपने आप में बहुत ही अच्छा प्रयास है। जितने भी अधिकारियों ने रात-दिन मेहनत करके इसको सफल बनाया है, उन सबको मैं शुभकामनाएं देना चाहता हूं।

तीसरी लहर के लिए हम पूरी तरह तैयार- मुख्यमंत्री केजरीवाल

सीएम ने आगे कहा कि इस सेंटर से सभी तरह के अस्पताल शामिल हैं। इसमें कोविड के निजी और सरकारी अस्पताल, कोविड केयर सेंटर समेत सभी छोटे-बड़े अस्पताल शामिल हैं। इंटीग्रेटेड कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में एकत्र डेटा कोविड में लगे सभी अधिकारियों के पास उपलब्ध होगा, जिससे वे समय पर सही निर्णय ले सकेंगे। सीएम ने कोरोना के तीसरी लहर के संबंध में कहा कि हम पूरी तरह से तैयार हैं। अगर हम दूसरी लहर को एक तरह से देखें, तो दिल्ली के अंदर अब केस काफी कम होते जा रहे हैं, लेकिन हमारे प्रयास कम नहीं हो रहे हैं। कल ही हमने एलएनजेपी (Lnjp) के सामने 500 आईसीयू बेड चालू किए हैं। तीन दिन पहले भी हमने 500 आईसीयू बेड चालू किए थे। साथ ही, हम लोग अभी और नए ऑक्सीजन बेड बनाने जा रहे हैं। हमारे प्रयास किसी भी हालत में कम नहीं होंगे, क्योंकि इस बीमारी का कुछ भी नहीं पता है कि कब यह अपना सिर उठा दे और कब यह कम हो जाए। इसलिए हमारी सारी तैयारी जारी रहेगी।

वैक्सीन के संदर्भ में डॉ. रेड्डी को लिखा पत्र

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि केस कम होने के बाद भी कोविड प्रबंधन के लिए बनाए गए कोविड केयर सेंटर (Covid Care Center) समेत सभी तैयारियां आगे भी स्थायी रूप से बनी रहेंगी। साथ ही, इनको अभी और सुदृढ़ किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी लोगों का वैक्सीनेशन बहुत जरूरी है। दूसरे देशों का अनुभव भी यही बताता है। विशेष तौर पर यूके और यूएस आदि के अनुभव से मिल रहा है अगर बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन किया जाए, तो कोरोना को कम किया जा सकता है। हम देख रहे हैं कि केंद्र सरकार भी इसमें पूरी कोशिश कर रही है और राज्य सरकारें भी पूरी कोशिश कर रही हैं। मैं समझता हूं कि जैसे-जैसे वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ेगी, वैसे-वैसे वैक्सीनेशन का कार्यक्रम भी अपनी गति पकड़ेगा। सीएम ने कहा कि स्पूतनिक कंपनी से संपर्क किया है। डॉ. रेड्डी कंपनी के भारत में डीलर है। हमने डाॅ. रेड्डी को पत्र लिखा है, लेकिन अभी उनकी तरफ से कोई ठोस जवाब नहीं आया है कि वे कितनी वैक्सीन कब दे सकते हैं? हम लोगों ने कोविशील्ड की 67 लाख, कोवैक्सीन की भी 67 लाख वैक्सीन मांगी है और लगभग इतनी ही स्पूतनिक वैक्सीन के लिए भी लिखा है कि कितनी दे सकते हैं और कब-कब दे सकते हैं।

Related Articles

epaper

Latest Articles