spot_img
28.1 C
New Delhi
Wednesday, September 22, 2021
spot_img

दिल्ली में ठंड ने तोड़ा 119 साल का रेकॉर्ड, घरों में कैद हुए लोग

ठंड ने तोड़ा 119 साल का रेकॉर्ड, घरों में कैद हुए लोग
—सोमवार को दिल्ली में 1901 के बाद सबसे ठंडा दिन रहा।
– दिन भर न्यूनतम तापमान 3 डिग्री से भी कम रह रहा
—लगातार बढ़ रही ठंड का सबसे गहरा प्रभाव मरीजों पर पड़ रहा

(नीता बुधौलिया)
नई दिल्ली/ टीम डिजिटल :  दिल्ली में कड़ाके की ठंड ने पिछले 119 साल का रेकॉर्ड तोड़ दिया है। राष्ट्रीय राजधानी में 1901 के बाद सोमवार दिसंबर का सबसे ठंडा दिन रहा। मौसम विभाग के मुताबिक, सोमवार शाम साढ़े पांच बजे दिल्ली का अधिकतम तापमान 9.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया। इसके साथ ही दिल्ली के लोगों ने दिसंबर में सोमवार के दिन सबसे ज्यादा ठंडक का सामना किया। इससे पहले 1901 में दिसंबर महीने में 11.3 डिग्री तापमान दर्ज किया गया था। रीजनल वेदर फोरकास्टिंग सेंटर के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि आज तापमान साल के इस दिन रहने वाले सामान्य तापमान का भी आधा है। उन्होंने कहा, ‘आज दिसंबर महीने का सबसे ठंडा दिन दर्ज किया गया।’आईएमडी ने बताया कि आयानगर में अधिकतम तापमान 7.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि पालम में 9, लोधी रोड 9.2 दर्ज किया गया। वैज्ञानिकों का कहना है कि पिछले 22 साल में यह सबसे खतरनाक सर्दियों में एक है, जब दिन भर न्यूनतम तापमान 3 डिग्री से भी कम रह रहा है।


लगातार बढ़ रही ठंड का सबसे गहरा प्रभाव मरीजों पर पड़ रहा है। पिछले कई दिनों से सर्दी कम होने नाम नहीं ले रही है। ऐसे में दिल्ली के अस्पतालों में सांस लेने में तकलीफ और इससे जुड़ी अन्य बीमारी वाले मरीजों की संख्या बढ़ गई है। ऐम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया का कहना है कि ओपीडी में मरीजों की संख्या करीब 15-20 प्रतिशत बढ़ गई है। रणदीप गुलेरिया ने कहा, ‘इस समय दिल्ली में पहाड़ी इलाकों के मुकाबले ज्यादा सर्दी है।’ उन्होंने सुझाव दिया है कि इस खतरनाक सर्दी को देखते हुए लोगों को सतर्कता बरतनी चाहिए।

दोपहर की बात करें तो पालम का तापमान 9 डिग्री, आयानगर में 7.8 डिग्री और लोधी रोड पर 9.2 डिग्री दर्ज किया गया। सोमवार को AIIMS के डायरेक्टर ने भी कहा कि दिल्ली में पहाड़ों से भी ज्यादा ठंड पड़ रही है और ऐसे में लोगों में बीमारियां भी बढ़ रही हैं। खासतौर पर सांस के मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है।

नोएडा में दो दिन के लिए स्कूल बंद

गौतम बुद्ध नगर जिला प्रशासन ने जिले में कंपा देने वाली सर्दी और कोहरे के मद्देनजर सोमवार को नर्सरी से आठवीं तक के स्कूलों को दो दिन की छुट्टी करने का आदेश दिया। जिलाधिकारी बृजेश नारायण सिंह ने नर्सरी से लेकर कक्षा आठवीं तक के छात्रों के लिए 31 दिसंबर और एक जनवरी को छुट्टी करने का आदेश स्कूलों को दिया है। जिलाधिकारी ने बताया कि यह आदेश जिले के सभी सरकारी तथा निजी स्कूलों पर लागू होगा।

दिल्ली में रेड अलर्ट

शनिवार को राजधानी में ठंड ने कई सालों का रेकॉर्ड तोड़ दिया था। सुबह के समय न्यूनतम तापमान 2.4 डिग्री दर्ज किया गया था। शनिवार को ही दिल्ली में मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी कर दिया था। दिल्ली के कुछ इलाकों में तापमान 2 डिग्री से भी नीचे चला गया था। 1992 के बाद पहली बार सफदरजंग एन्क्लेव में इतना कम तापमान दर्ज किया गया। 1930 में यहां न्यूनतम तापमान 0.0 डिग्री सेल्सियस से नीचे दर्ज किया गया था।

बारिश की भविष्यवाणी

मौसम विभाग के मुताबिक 31 दिसंबर के बाद बारिश और ओलावृष्टि भी हो सकती है जो कि इस ठंड में आग में घी का काम करेगी। ठंड बढ़ने से कई रेकॉर्ड टूट सकते हैं। भीषण ठंड से दिल्ली में ट्रेन और विमान सेवा भी प्रभावित है। कोहरे की वजह से सोमवार को 530 फ्लाइट लेट हुईं तो 20 के मार्ग में परिवर्तन करना पड़ा। वहीं, कम दृश्यता की वजह से दो दर्जन से ज्यादा ट्रेन भी देरी से चल रही हैं।

कोहरे ने रोकी जहाहों की रपफतार, 361 उड़ानें प्रभावित

इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रिय हवाई अड्डे पर सोमवार को घने कोहरे के चलते करीब पांच घंटे विमानों का प्रस्थान और तकरीबन डेढ़ घंटे आगमन रुका रहा। इससे घरेलू व अंतरराष्ट्रीय कुल करीब 361 उड़ानें प्रभावित हुईं। वहीं, तकरीबन 21 उड़ानों को अहमदाबाद और जयपुर हवाई अड्डे पर परिवर्तित कर दिया गया। जबकि 40 उड़ानों को र्दद कर दिया गया। प्रभावित उड़ानों का हवाईअड्डे पर दोपहर 3:30 बजे तक खराब मौसम का असर दिखा। परिवर्तित किये गए विमानों को दोपहर बाद वापस लाया गया, लेकिन इस दौरान यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

पांच घंटे प्रस्थान और डेढ़ घंटे आगमन में पड़ा व्यवधान

हवाईअड्डे पर सुबह तीन बजे से ही सामान्य दृश्यता कम होनी शुरू हो गई थी। सुबह करीब 4:30 बजे रनवे 28-10 और 29-10 पर दृश्यता 50 मीटर थी। वहीं, इस दौरान सामान्य दृश्यता भी 50 मीटर थी। 10:30 बजे तक दृश्यता बढ़ती-घटती रहीं। सामान्य दृश्यता 50 से 500 मीटर के बीच रही और रनवे पर दृश्यता 75 से 1000 मीटर के बीच रही। सुबह 5:30 बजे से 10:30 के बीच हवाई अड्डे से प्रस्थान करने वाली उड़ानें और सुबह 6 बजे से 7:30 बजे तक उड़ानों का आगमन रुका रहा।

Related Articles

epaper

Latest Articles