spot_img
29.1 C
New Delhi
Sunday, August 1, 2021
spot_img

NRC के मुद्दे पर गृहमंत्री अमित शाह से मिली ममता बनर्जी

–असम के मसले पर सौंपा ज्ञापन, जांच की मांग
–पश्चिम बंगाल में नागरिक रजिस्टर की जरूरत नहीं : ममता
–कहा-केंद्र और राज्यों का मिलकर काम करना एक संवैधानिक जिम्मेदारी

(नीता बुधौलिया)

नई दिल्ली, 19 सितंबर  : तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने के एक दिन बाद वीरवार को भाजपा अध्यक्ष एवं गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की। इस दौरान असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) के मुद्दे पर चर्चा की और इस मुद्दे पर एक ज्ञापन भी सौंपा। यह मुलाकात दोपहर को नार्थ ब्लाक स्थित गृहमंत्रालय में हुई है। ममता करीब आधे घंटे तक मीटिंग की। मुलाकात के बाद ममता बनर्जी ने मीडिया से कहा कि केंद्र और राज्यों का मिलकर काम करना एक संवैधानिक जिम्मेदारी है।

इस दौरान असम में एनआरसी का मुद्दा भी उठाया और कहा कि असम में जिन 19 लाख लोगों का नाम रजिस्टर में शामिल नहीं किया गया है उनमें हिंदी भाषी, बंगला भाषी, और गुरखा शामिल हैं। कई वास्तविक मतदाताओं के नाम भी इस रजिस्टर में नहीं है। उनके जीवन में इससे अनिश्चितता आ गर्ठ है। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी विरोध जताया है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि गृहमंत्री ने पश्चिम बंगाल में नागरिक रजिस्टर के बारे में कुछ नहीं कहा। उन्होंने इस मुद्दे पर अपना रूख स्पष्ट करते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल में नागरिक रजिस्टर की जरूरत नहीं है। दोनों नेताओं के बीच पश्चिम बंगाल का नाम बदलने के बारे में भी चर्चा हुई।

मुलाकात के दौरान बंगलादेश से लगती सीमा से संबंधित विषयों पर भी बातचीत हुई। बता दें कि अमित शाह के गृहमंत्री बनने के बाद ममता बनर्जी की यह पहली औपचारिक मुलाकात है। ममता बनर्जी ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी और उन्हें राज्य में कोयला परियोजना के उद्घाटन के लिए आने का निमंत्रण दिया था।

आईपीएस राजीव कुमार को बचाने की कोशिश : सूत्र

उधर, सूत्रों की माने तो ममता बनर्जी और अमित शाह की मुलाकात को लेकर ऐसी अटकलें लग रही हैं कि यह कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त राजीव कुमार को बचाने की कोशिश है। कुमार सीबीआई के निशाने पर हैं और उन्हें शुक्रवार को 11 बजे तक पेश होने का आदेश दिया गया है। वीरवार को उनकी तलाश में कई जगह छापेमारी भी हुई है। राजीव कुमार केा ममता बनर्जी का करीबी माना जाता है। ममता राष्ट्रीय राजधानी के तीन दिवसीय दौरे पर आईं हैं। उन्होंने इसे दो सरकारों के बीच हुई बैठक बताया और कहा कि ज्यादा चर्चा राज्य के विकास मुद्दों पर हुई।

Related Articles

epaper

Latest Articles