spot_img
17.1 C
New Delhi
Tuesday, December 7, 2021
spot_img

प्रधानमंत्री : कठिन लक्ष्य हासिल करना जानता है नया भारत

spot_imgspot_img

— प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को किया संबोधित
—आज चारों तरफ एक विश्वास है, उत्साह है, उमंग है : PM
—समाज से लेकर अर्थव्यवस्था तक, हर तबके में आशावाद नजर आता है

Indradev shukla

नयी दिल्ली /नेशनल ब्यूरो : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि पिछले नौ महीनों में कोविड-19 रोधी टीके की 100 करोड़ खुराक देने में भारत की सफलता उन लोगों को पुरजोर जवाब है जो उसकी क्षमताओं पर सवाल उठा रहे थे । उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि नया भारत कठिन लक्ष्य निर्धारित कर उन्हें हासिल करना जानता है। प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि आज चारों तरफ एक विश्वास है, उत्साह है, उमंग है तथा समाज से लेकर अर्थव्यवस्था तक, हर तबके में आशावाद नजर आता है। उन्होंने लोगों से आगामी त्योहारों के दौरान भी मास्क पहनने सहित कोविड-19 संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करने और किसी तरह की लापरवाही न करने की अपील की। मोदी ने कहा कि विशेषज्ञ और देश-विदेश की अनेक एजेंसियां भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर बहुत सकारात्मक हैं। उन्होंने कहा कि आज भारतीय कंपनियों में ना सिर्फ रिकॉर्ड निवेश आ रहा है, बल्कि युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर भी बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्टार्ट-अप्स में रिकॉर्ड निवेश के साथ ही रिकॉर्ड स्टार्ट-अप्स, यूनिकॉर्न बन रहे हैं तथा आवास क्षेत्र में भी नई ऊर्जा दिख रही है।

इस बारे में सरकार के आलोचकों पर तंज करते हुए मोदी ने याद दिलाया कि जब देश ने अपनी एकजुटता को ऊर्जा देने के लिए ताली, थाली बजाई, दिये जलाए, तब कुछ लोगों ने कहा था कि क्या इससे बीमारी भाग जाएगी? उन्होंने कहा, लेकिन हम सभी को उसमें देश की एकता दिखी, सामूहिक शक्ति का जागरण दिखा तथा इसी ताकत ने कोविड वैक्सीनेशन में आज देश को इतने कम समय में 100 करोड़ तक पहुंचाया है। मोदी ने महामारी के खिलाफ लड़ाई में पूर्व में भारत की क्षमता को लेकर व्यक्त की गई आशंकाओं का भी जिक्र किया । उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी की शुरुआत में ये भी आशंकाएं व्यक्त की जा रही थीं कि भारत जैसे लोकतंत्र में इस महामारी से लडऩा बहुत मुश्किल होगा। उन्होंने कहा कि भारत के लिए, भारत के लोगों के लिए ये भी कहा जा रहा था कि इतना संयम, इतना अनुशासन यहाँ कैसे चलेगा और यहाँ ज्यादातर लोग टीका लगवाने ही नहीं आएंगे। मोदी ने कहा, लेकिन भारत के लोगों ने 100 करोड़ वैक्सीन डोज (खुराक) लेकर ऐसे लोगों को निरुत्तर कर दिया है। उन्होंने कहा कि टीके की 100 करोड़ खुराक केवल एक आंकड़ा नहीं है बल्कि यह देश के सामथ्र्य का प्रतिङ्क्षबब और इतिहास के नए अध्याय की रचना है। उन्होंने कहा, ये उस नए भारत की तस्वीर है जो कठिन लक्ष्य निर्धारित कर, उन्हें हासिल करना जानता है। ये उस नए भारत की तस्वीर है जो अपने संकल्पों की सिद्धि के लिए परिश्रम की पराकाष्ठा करता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कोविड महामारी की शुरूआत में इससे मुकाबले को लेकर तरह-तरह की आशंकाएं व्यक्त की जा रही थी । उन्होंने कहा कहा कि भारत ने जिस तेजी से 100 करोड़ का आंकड़ा पार किया है, उसकी सराहना भी हो रही है। लेकिन, इस विश्लेषण में एक बात अक्सर छूट जाती है कि हमने ये शुरुआत कहां से की है! मोदी ने कहा कि दुनिया के दूसरे बड़े देशों के लिए टीके पर शोध करना, खोजना, इसमें दशकों से उनकी महारथ थी जबकि भारत, अधिकतर इन देशों के बनाए टीके पर ही निर्भर रहता था और बाहर से मंगवाता था । उन्होंने कहा, इसी वजह से जब 100 साल की सबसे बड़ी महामारी आई, तो भारत पर सवाल उठने लगे कि क्या भारत इस वैश्विक महामारी से लड़ पाएगा? भारत दूसरे देशों से इतनी वैक्सीन खरीदने का पैसा कहां से लाएगा? भारत को वैक्सीन कब मिलेगी? भारत के लोगों को वैक्सीन मिलेगी भी या नहीं? उन्होंने कहा कि लेकिन आज ये 100 करोड़ वैक्सीन खुराक, हर सवाल का जवाब दे रहे हैं। कोविड-19 टीकाकरण का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, यह हमारे लिए गर्व की बात है कि हमारा टीकाकरण अभियान विज्ञान-जनित, विज्ञान-संचालित और विज्ञान-आधारित है।

वैक्सीनेशन अभियान पर वीआईपी संस्कृति हावी न होने दिया

Indradev shukla

देश में कोविड-19 रोधी टीकाकरण के 100 करोड़ के आंकड़े को पार करने के एक दिन बाद मोदी ने कहा कि भारत का पूरा टीकाकरण कार्यक्रम विज्ञान की कोख में जन्मा है, वैज्ञानिक आधारों पर पनपा है और वैज्ञानिक तरीकों से चारों दिशाओं में पहुंचा है। प्रधानमंत्री ने कहा,हमारे लिए लोकतंत्र का मतलब है-‘सबका साथ और सबको साथ लेकर देश ने’सबको वैक्सीन’,मुफ्त वैक्सीन का अभियान शुरू किया। मोदी ने कहा कि गरीब-अमीर, गांव-शहर, दूर-सुदूर, देश का एक ही मंत्र रहा कि- अगर बीमारी भेदभाव नहीं करती, तो वैक्सीन में भी भेदभाव नहीं हो सकता। प्रधानमंत्री ने कहा, इसलिए, ये सुनिश्चित किया गया कि वैक्सीनेशन (टीकाकरण) अभियान पर वीआईपी संस्कृति हावी न हो। कोई कितने ही बड़े पद पर क्यों ना रहा हो, कितना ही धनी क्यों ना रहा हो, उसे वैक्सीन सामान्य नागरिकों की तरह ही मिलेगी। उन्होंने कहा कि हमारे देश ने कोविन प्लेटफार्म की जो व्यवस्था बनाई है, वह भी विश्व में आकर्षण का केंद्र है। मोदी ने कहा कि भारत में बने कोविन प्लेटफ़ॉर्म ने, न केवल आम लोगों को सहूलियत दी, बल्कि हमारे चिकित्सा र्किमयों के काम को भी आसान बनाया।

त्योहारों को पूरी सतर्कता के साथ ही मनाने का आग्रह किया

प्रधानमंत्री ने लोगों से त्योहारों को पूरी सतर्कता के साथ ही मनाने और कोविड प्रोटोकाल का पालन करने का आग्रह किया । मोदी ने कहा, हमें सतत सावधान रहने की जरूरत है। हमें लापरवाह नहीं होना है। कवच कितना ही उत्तम हो, कवच कितना ही आधुनिक हो, कवच से सुरक्षा की पूरी गारंटी हो, तो भी जब तक युद्ध चल रहा है, हथियार नहीं डाले जाते।उन्होंने कहा कि मास्क पहनने को एक सहज स्वभाव बनाना ही होगा। जिनको अभी तक वैक्सीन नहीं लगी है, वो इसे सर्वोच्च प्राथमिकता दें तथा जिन्हें वैक्सीन लग गई है, वो दूसरों को प्रेरित करें।

spot_imgspot_imgspot_img

Related Articles

epaper

spot_img

Latest Articles

spot_img