34.1 C
New Delhi
Monday, October 3, 2022

सिख समुदाय की सेवा भावना को दुनिया भर में जागरूक करने की जरूरत

नई दिल्ली /खुशबू पाण्डेय : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज शुक्रवार को अपने सरकारी आवास पर दिल्ली, पंजाब के अलावा देशभर के प्रमुख सिख नेताओं, जत्थेदारों, सिख जत्थेबंदियों के प्रमुख, दमदमी टकसाल के प्रतिनिधियों से मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने सिख समुदाय के कल्याण के लिए लगातार कदम उठाने तथा विशेष रूप से 26 दिसंबर को वीर बाल दिवस घोषित करने के माध्यम से चार साहिबजादे को सम्मानित करने के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया। प्रतिनिधिमंडल के प्रत्येक सदस्य ने प्रधानमंत्री को सिरोपाओ और सिरी साहिब से सम्मानित किया। पंजाब में रविवार को होने वाले विधानसभा चुनाव के पूर्व इस मुलाकात को अहम माना जा रहा है।

इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के कई क्षेत्रों में लोग चार साहिबजादे के योगदान और बलिदान के बारे में नहीं जानते हैं। उन्होंने याद करते हुए कहा कि जब भी उन्हें स्कूलों में और बच्चों के सामने कुछ कहने का मौका मिलता था, वे हमेशा चार साहिबजादे के बारे में बोलते थे। 26 दिसंबर को वीर बाल दिवस के रूप में मनाने का निर्णय, देश के कोने-कोने में बच्चों को उनके बारे में जागरूक बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

सिख समुदाय के कल्याण के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है केंद्र सरकार : प्रधानमंत्री
-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली एवं पंजाब के प्रमुख सिख नेताओं से की मुलाकात
-सिख नेताओं ने वीर बाल दिवस की घोषणा के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया
-वीर बाल दिवस चार साहिबजादे के योगदान और बलिदान के बारे में जागरूक करेगा

प्रधानमंत्री ने सिख समुदाय के नेताओं को धन्यवाद दिया और कहा कि उनके घर के दरवाजे उनके (सिख नेताओं) लिए हमेशा खुले हैं। उन्होंने पंजाब में अपने प्रवास के दौरान उनके साथ अपने संबंधों को तथा साथ बिताए समय को याद किया।
इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिख समुदाय की सेवा भावना की प्रशंसा की और कहा कि दुनिया को इसके बारे में और अधिक अवगत कराने की जरूरत है। प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार सिख समुदाय के कल्याण के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। उन्होंने इस संबंध में सरकार द्वारा उठाए गए विभिन्न कदमों के बारे में विस्तार से बताया। प्रधानमंत्री ने अफगानिस्तान से गुरुग्रंथ साहिब को पूरे सम्मान के साथ वापस लाने के लिए किए गए विशेष प्रबंधों के बारे में चर्चा की। उन्होंने सिख तीर्थयात्रियों के लिए करतारपुर साहिब कॉरिडोर को खोलने के लिए सरकार द्वारा राजनयिक स्तर पर उठाए गए विभिन्न कदमों के बारे में भी बताया।

इस मौके पर भाजपा के सिख नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि वीर बाल दिवस मनाने का निर्णय देश भर के बच्चों को चार साहिबजादे के बलिदानों से परिचित कराएगा। तख्त श्री पटना साहिब के जत्थेदार सिंह साहिब ज्ञानी रणजीत सिंह ने करतारपुर साहिब कॉरिडोर को फिर से खोलने और लंगर पर से जीएसटी हटाने जैसे कदम उठाने के लिए प्रधानमंत्री का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा सिख समुदाय के हितों के लिए उठाए गए विभिन्न कदम इस बात को दर्शाते हैं कि वे दिल से सिख हैं। राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष तरलोचन सिंह ने कहा कि आजादी के बाद यह पहला मौका है जब देश के विभाजन के दौरान बड़ी संख्या में अपने प्राणों की आहुति देने वाले सिख समुदाय के योगदानों को स्वीकार किया जा रहा है। उन्होंने सिख समुदाय के योगदानों को वैश्विक मंच पर ले जाने के लिए प्रधानमंत्री का धन्यवाद किया।

गुरुद्वारा प्रमुखों, तख्तों के जत्थेदार, डेरा प्रमुख रहे मौजूद

इस मौके पर सिख प्रतिनिधिमंडल में 38 सदस्य शामिल रहे। इसमें दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष हरमीत सिंह कालका, एवं महासचिव जगदीप सिंह कहलों, पद्मश्री बाबा बलबीर सिंह जी सींचेवाल (सुल्तानपुर लोधी), महंत करमजीत सिंह, अध्यक्ष सेवापंथी, यमुना नगर बाबा जोगा सिंह, डेरा बाबा जंग सिंह (नानकसर) करनाल, एसएसपी सिंह ओबेरॉय, अध्यक्ष, सरबत दा भल्ला ट्रस्ट, चंडीगढ़, संत बाबा अवतार सिंह जी धुरकोट, मोहाली, चंडीगढ़, संत बाबा प्रीतम सिंह राजपुरा, पंजाब, संत, बाबा मेजर सिंह, मुखी डेरा, बाबा तारा सिंह, अमृतसर, जत्थेदार बाबा साहिब सिंह जी , कार सेवा आनंदपुर साहिब, ज्ञानी रणजीत सिंह, प्रमुख ग्रंथी, गुरुद्वारा बंगला साहिब, नई दिल्ली, ज्ञानी हरनाम सिंह, प्रमुख ग्रंथी, गुरुद्वारा सीस गंज साहिब दिल्ली, सुरिंदर सिंह, नामधारी दरबार (भेनी साहिब), बाबा जस्सा सिंह, शिरोमणि अकाली बुद्ध दल, पंजवा तख्त, आर. हरभजन सिंह,

दमदमी टकसाल, चौक मेहता, संत बाबा रेशम सिंह, गुरुद्वारा नानक निरंकार चकपाखी, संत बाबा सुंदर सिंह जी, सेवा पंथी टीका, भाई राम किशन पटियाला, बाबा मेजर सिंह, दशमेश तरना दल, बलदेव सिंह, अध्यक्ष , कश्मीर गुरुद्वारा समिति, श्रीनगर, बाबा बेअंत सिंह जी, गुरुद्वारा लंगर दमदमा साहिब, रुद्र प्रयाग, आरएस आहूजा, अध्यक्ष, सिख फोरम, नई दिल्ली, इंद्रजीत सिंह, महासचिव तख्त श्री पटना साहिब, प्रभलीन सिंह, अध्यक्ष, युवा प्रगतिशील मंच, पटियाला, अमरजीत सिंह, उपाध्यक्ष, प्रमुख खालसा दीवान, अमृतसर, संत बाबा सुखदेव सिंह , निर्मल डेरा, बेर कलां, लुधियाना, मंजीत सिंह. भाटिया, अध्यक्ष, सिंह सभा गुरुद्वारा साहिब, इंदौर, सांसद अमनदीप सिंह, कलगीधर ट्रस्ट (बरू साहिब), कश्मीर सिंह, सिख इंटरनेशनल, पटियाला, प्रो. सरचंद सिंह खियाला, प्रवक्ता दमदमी टकसाल, चौक मेहता, हरपाल सिंह, अध्यक्ष, केंद्रीय समिति, पश्चिम बंगाल ,शैलेंद्र सिंह, अध्यक्ष झारखंड प्रदेश गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, रांची, हरपाल सिंह भाटिया, अध्यक्ष, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ गुरुद्वारा बोर्ड, भोपाल हरजीत सिंह दुआ, अध्यक्ष गुरुद्वारा ज्ञान गोदरी, हरिद्वार आदि मौजूद रहे।।

Related Articles

epaper

Latest Articles