35 C
New Delhi
Sunday, May 22, 2022

प्रधानमंत्री ने कहा, ग्रामीण अर्थव्यवस्था का बड़ा आधार है महिला शक्ति

नई दिल्ली /खुशबू पाण्डेय : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि उनकी सरकार ने इस बार के बजट में देश में हर व्यक्ति, हर क्षेत्र तक सुविधाएं पहुंचाने की वृहद योजना प्रस्तुत की है ताकि किसी भी क्षेत्र में ऐसा एक भी व्यक्ति न बचे जो इन सुविधाओं से वंचित हो। प्रधानमंत्री ने इसी संदर्भ में बजट 2022-23 में पीएम आवास योजना, ग्रामीण सड़क योजना, जल जीवन मिशन, नॉर्थ ईस्ट की कनेक्टिविटी, गांवों की ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी जैसी योजनाओं के लिए किए गए प्रावधानों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि यह बजट ग्रामीण क्षेत्रों, पूर्वोत्तर के सीमांत क्षेत्रों और विकास की प्रतीक्षा कर रहे जिलों में सुूविधाओं की प्रतीक्षा समाप्त करने की दिशा में प्रयासों का ही हिस्सा है।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बुधवार को ग्रामीण विकास पर केंद्रीय बजट के सकारात्मक प्रभाव पर आयोजित एक वेबिनार को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास हमारी सरकार की पॉलिसी और एक्शन का प्रेरणा सूत्र है। आजादी का अमृत काल के लिए हमारे वादों को सभी के प्रयासों से ही पूरा किया जाएगा और हर कोई उस प्रयास को तभी कर पाएगा जब प्रत्येक व्यक्ति, वर्ग और क्षेत्र को विकास का पूरा लाभ मिलेगा।

—महिलाओं की भागीदारी को और ज्यादा विस्तार देने की जरूरत :
—देश में हर व्यक्ति, हर क्षेत्र तक सुविधाएं पहुंचाने की वृहद योजना पेश
-ग्रामीण विकास पर केंद्रीय बजट के सकारात्मक प्रभाव पर वेबिनार में बोले पीएम मोदी
-ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी से गांवों में स्किल्ड युवाओं का एक बड़ा पूल तैयार होगा
-राजस्व विभाग पर ग्रामीण लोगों की निर्भरता कम से कम हो : मोदी
-योजनाओं में शत-प्रतिशत कवरेज के लिए, नई तकनीक पर ध्यान देना होगा

प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास पहल (पीएम-डिवाइन) से पूर्वोत्तर क्षेत्र में बुनियादी सुविधाएं शत-प्रतिशत सुनिश्चित होंगी। इसी तरह, स्वामित्व योजना के तहत 40 लाख से अधिक संपत्ति कार्ड जारी किए जा चुके हैं, जिससे गांवों में आवासों और भूमि के उचित सीमांकन में मदद मिल रही है। विशिष्ट भूमि पहचान पिन जैसे उपायों से राजस्व अधिकारियों पर ग्रामीण लोगों की निर्भरता कम होगी। उन्होंने राज्य सरकारों से भूमि अभिलेखों और सीमांकन समाधानों को आधुनिक तकनीक से जोडऩे के लिए समय-सीमा के साथ काम करने को कहा। उन्होंने कहा, विभिन्न योजनाओं में शत-प्रतिशत कवरेज के लिए, हमें नई तकनीक पर ध्यान देना होगा, ताकि परियोजनाओं को शीघ्रता से पूरा किया जा सके और गुणवत्ता से भी समझौता नहीं हो।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत लगभग 4 करोड़ कनेक्शन देने का टारगेट हमने रखा है। इस टारगेट को हासिल करने के लिए आपको अपनी मेहनत और बढ़ानी होगी। हमें 2024 तक हर घर में नल का पानी पहुंचाना है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि गांवों की डिजिटल कनेक्टिविटी अब एक एस्पिरेशन भर नहीं है, बल्कि आज की जरूरत है। उन्होंने कहा, ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी से गांवों में सुविधाएं ही नहीं मिलेंगी, बल्कि ये गांवों में स्किल्ड युवाओं का एक बड़ा पूल तैयार करने में भी मदद करेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में क्षमताओं को बढ़ाने के लिए ब्रॉडबैंड सेवा क्षेत्र का विस्तार करेगा।
प्रधानमंत्री ने कहा कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था का एक बड़ा आधार हमारी महिला शक्ति है। उन्होंने कहा, फाइनेंशियल इंक्लुजन ने परिवारों में महिलाओं की आर्थिक फैसलों में अधिक भागीदारी सुनिश्चित की है। सेल्फ हेल्प ग्रुप्स के माध्यम से महिलाओं की इस भागीदारी को और ज्यादा विस्तार दिए जाने की जरूरत है।

प्रधानमंत्री ने दिया सुझाव, गांवों का मनाएं जन्मदिन

प्रधानमंत्री ने सुझाव दिया कि ग्रामीण मुद्दों के लिए जिम्मेदार सभी एजेंसियां नियमित अंतराल पर एक साथ बैठें, ताकि तालमेल और समन्वय सुनिश्चित किया जा सके, इससे मदद मिलेगी। पैसे की उपलब्धता से बड़ी समस्या यह जागरूक भागीदारी और समन्वय की कमी होना है। उन्होंने सीमावर्ती गांवों को विभिन्न प्रतियोगिताओं का स्थल बनाने, सेवानिवृत्त सरकारी अधिकारियों को उनके गांवों को अपने प्रशासनिक अनुभव से लाभान्वित करने जैसे कई नवीन तरीके सुझाए। उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि गांव के जन्मदिन के रूप में एक दिन तय करने और गांव की समस्याओं को हल करने की भावना के साथ इसे मनाने से लोगों का अपने गांव से लगाव मजबूत होगा और ग्रामीण जीवन समृद्ध होगा।

Related Articles

epaper

Latest Articles