34.1 C
New Delhi
Tuesday, July 23, 2024

एैक्शन में दिल्ली सरकार, ऑक्सीजन फिलिंग प्लांट्स में अधिकारी तैनात

—सरकार ने की ड्रग्स निरीक्षकों की नियुक्ति, नियंत्रण कक्ष स्थापित
—रेमेडेसिविर दवा वितरकों व स्टॉकिस्टों की सूची जारी
-ड्रग इंस्पेक्टर करेंगे टोसिलिजुमाब और फेविपिरावीर की निगरानी
– दवाओं की बिक्री व स्टॉक स्थिति की निगरानी करने के दिए निर्देश

नई दिल्ली/ भारती भडाना : सीएम अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली सरकार ने कोविड-19 महामारी का प्रभावी तरीके से सामना करने के लिए दवा प्रबंधन को लेकर कुछ बड़े और अहम कदम उठाए हैं। दिल्ली सरकार ने 29 रेमडेसिविर वितरकों की सूची जारी की है, जिनकी निगरानी ड्रग इंस्पेक्टरों द्वारा की जाएगी और मेडिकल ऑक्सीजन की खरीद और वितरण प्रक्रिया की जांच करने के लिए ऑक्सीजन फिलिंग प्लांटों में 9 अधिकारियों को तैनात किया गया है। रेमेडेसिविर, टोसीलिजुमाब इंजेक्शन और फेविपिरावीर टैबलेट सहित कई दवाओं और इंजेक्शनों की बढ़ती मांग के मद्देनजर सीएम केजरीवाल ने अधिक से अधिक संख्या में जिलों के लिए ड्रग कंट्रोल रूम स्थापित करने के निर्देश दिए हैं, जिनके लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है।

यह भी पढें… दिल्ली में हालात बेकाबू, सरकार ने लगाया 6 दिन का लॉकडाउन

ऑक्सीजन संयंत्रों में प्रत्येक अधिकारी को विशेष ड्यूटी पर तैनात अधिकारी को रोजना एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिया गया है। सबसे पहले, 28 रेमडेसिविर वितरकों और स्टॉकिस्टों की एक सूची जारी की गई है। इन वितरकों की निगरानी और निरीक्षण ड्रग निरीक्षकों द्वारा की जाएगी, जो खरीद प्रक्रिया की देखरेख करेंगे और यह भी सुनिश्चित करेंगे कि डीलरों द्वारा प्राप्त सभी आपूर्ति रिकॉर्ड में दर्ज की जाएं और सूची नियमित रूप से अपडेट की जाए। साथ ही वे यह बताएंगे कि ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट-1940 के तहत रेमेडिसविर फॉर्मूलेशन को निर्धारित और उचित रूप से बनाए रखा जाना चाहिए। इंस्पेक्टर रेमेडिसविर इंजेक्शन की बिक्री और वितरण के बारे में रोजाना रिपोर्ट देंगे। दूसरा, ऑक्सीजन फिलिंग संयंत्रों, मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर और लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) आपूर्तिकर्ताओं के लिए 9 अधिकारियों की तैनाती की गई है।

यह भी पढें…गुरूद्वारों के लंगर हॉल में रहेंगे कोरोना पीड़ित, DSGMC ने की सरकार से पेशकश

अधिकारी फिलर (भराव) एजेंसी द्वारा खरीद प्रक्रिया पीएफ मेडिकल ऑक्सीजन की देखरेख करेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि प्राप्त ऑक्सीजन की मात्रा दर्ज की जाए और ठीक से पंजीकृत की जाए। प्रत्येक अधिकारी को इस बारे में रोजाना एक रिपोर्ट विशेष ड्यूटी पर तैनात अधिकारी को प्रस्तुत करना होता है। तीसरा, सभी ड्रग इंस्पेक्टरों को यह भी निर्देशित किया गया है कि वे टॉकिलिजुमाब इंजेक्शन, फेविपिराविर टैबलेट्स की बिक्री और स्टॉक की स्थिति की निगरानी करें और अन्य दवाओं का इस्तेमाल कोविड प्रबंधन में रोजाना ठीक से किया जाए, जिनकी जिम्मेदारी उन्हें सौंपी गई है। अंत में, कोविड मामलों में अचानक वृद्धि के कारण कोविड प्रबंधन दवाओं की भारी कमी के चलते दिल्ली सरकार के औषधि नियंत्रण विभाग द्वारा आम जनता की सुविधा के लिए नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है।

*ड्रग्स कंट्रोल रूम का हेल्पलाइन नंबर*

नियंत्रण कक्ष-1 (कड़कड़डूमा प्रधान कार्यालय)
पूर्व, उत्तर पूर्व, दक्षिण, मध्य, नई दिल्ली और उत्तर जिले के लिए
हेल्पलाइन नंबर- 011-22393705

कंट्रोल रूम 2 (लॉरेंस रोड जोनल ऑफिस)
उत्तर पश्चिम, दक्षिण पश्चिम, वीट जिलों के लिए
हेल्पलाइन नंबर- 9494129281, 9000098558

latest news

Related Articles

epaper

Latest Articles