25.8 C
New Delhi
Sunday, March 7, 2021

श्री गुरु तेग बहादुर के 400वें प्रकाश पर्व को समर्पित सिक्का जारी

–सरना ने भरी हुंकार, हमें अपने खोये वक्त को वापस लाना है, एकजुट हो पंथ
–दिल्ली में गुरूद्वारा व्यवस्था, सिख पंथ को बचाना है तो बदल दें सत्ता : सरना
–सिक्के में गुरु तेगबहादुर एवं गुरुद्वारा शीशगंज साहिब की फोटो अंकित
–ननकाना साहिब नरसंहार के शताब्दी को याद करने के लिए होगा आयोजन

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : सिखों के नवें गुरु श्री गुरु तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व को समर्पित स्मारक सिक्का आज यहां शनिवार को सिख समाज से जुड़े लोगों ने जारी किया। इसका आयोजन परमजीत सिंह सरना की अगुवाई वाली पार्टी शिरोमणि अकाली दल (दिल्ली) ने किया। सिक्के में गुरु तेगबहादुर जी और गुरुद्वारा सीसगंज साहिब जी की फोटो अंकित किया गया है।
इस मौके पर राज्य सभा संासद एवं अकाली दल डेमोके्रटिक के अध्यक्ष सुखदेव सिंह ढींडसा ने कहा कि श्री गुरु तेग बहादुर के 400वें प्रकाश पर्व को जिस तरह से सिक्का जारी करके मनाया जा रहा है, वह पहली बार देखने को मिल रहा है, यह काबिले तारीफ है।
इस मौके पर उद्योगपति डॉ राजिंदर सिंह चड्ढा ने कहा कि शिरोमणि अकाली दल दिल्ली ने बिना किसी लोभ और नाम के गुरु घर की सेवा में सहयोग कर रही है।

यह भी पढें…गुरुद्वारा कमेटी का खजाना खाली, 1700 कर्मचारियों का PF जमा ​नहीं, नोटिस जारी

इस मौके पर शिरोमणि अकाली दल दिल्ली के प्रधान परमजीत सिंह सरना ने सिख संस्थाओं को फिर से खड़ा करने पर जोर दिया, जो 19वीं सदी के अंत और 20वीं सदी की शुरुआत में सिख आंदोलन के दौरान बनाई गई थीं। सरदार सरना ने दिल्ली के सिख समुदाय को आगाह किया कि वे वर्तमान सत्ताधारी दल की चाल से बचे। सोशल मीडिया पर थिएटर करने वाले लोग गुरुद्वारा कमेटी चुनावों के बाद कहीं भी नहीं दिखेंगे। उन्होंने कहा कि कमेटी के ऐतिहसिक स्कूल, कॉलेज और तकनीकी संस्थान जो मेहनत से खड़े किए थे, अब सबकुछ बर्बाद हो रहे है। उनको कोई पूछने वाला नहंीं है। सिक्खी तार-तार हो रही है। आज सेवा के नाम पर संगत को सिर्फ बहलाया जा रहा है। शैक्षणिक संस्थानों केे अध्यापक और कमर्चारियों को समय पर वेतन नहीं है मिल रही।

यह भी पढें…DSGMC: गुरुद्वारा कमेटी में सियासी भगदड़, अब दो वरिष्ठ सदस्यों ने छोड़ी पार्टी

सरदार परमजीत ङ्क्षसह सरना ने इस मौके पर ऐलान किया कि उनकी पार्टी इसी महीने से धार्मिक कार्यक्रमों की एक श्रृंखला कर ननकाना साहिब नरसंहार के शताब्दी को याद करेगी। सरना ने सिख जगत से अपील किया कि यदि गुरूद्वारा व्यवस्था और सिख पंथ को बचाना है तो वर्तमान सत्ताधारी दल को उखाड़ फेंकने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हमें अपने खोये वक्त को वापस लाना है। इसके लिए सभी को एकजुट होना होगा। कार्यक्रम में तख्त श्री पटना साहिब कमेटी के पूर्व अध्यक्ष हरविंदर ङ्क्षसह सरना, जसबीर सिंह बारू साहिब, के.सी सिंह, के.टी.एस तुलसी, प्रोफेसर सुखप्रीत सिंह आदि लोगों ने भी समागम को संबोधित किया।
इस मौके पर गुरुद्वारा कमेटी के पूर्व महासचिव गुरमीत सिंह शंटी, दिल्ली सरकार के अल्पसंख्यक सेल के सदस्य अजीत पाल सिंह, राजिंदर सिंह चटठा, कमेटी सदस्य कुलवंत सिंह बाठ, बलदेव सिंह, जतिंदर सिंह साहनी, करतार सिंह चावला, सुखबीर सिंह कालरा, मनमोहन सिंह, कुलतारन सिंह सहित दिल्ली के औद्योगिक घरानों एवं पंथ से जुड़ेे लोग मौजूद रहे।

Related Articles

epaper

Latest Articles