spot_img
28.1 C
New Delhi
Friday, October 22, 2021
spot_img

दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के 125 बेड के कोविड हास्पिटल पर लगी रोक

-चुनाव आचार संहिता के चलते अदालत ने दिया दखल
–13 अगस्त को शुरू होना था अस्पताल, बांटे जा चुके हैं निमंत्रण कार्ड
–22 अगस्त को है चुनाव, रोड़ शो निकालने पर लगी पाबंदी

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : दिल्ली सिख गुरूद्वारा कमेटी के आम चुनावों के बीच सत्ताधारी दल की ओर से शुरू किए गए 125 बेड के कोविड हास्पिटल पर ग्रहण लग गया। विरोधी दलों द्वारा चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करने की शिकायत के बाद गुरुद्वारा चुनाव निदेशालय ने 13 अगस्त को शुरू होने वाले अस्पताल पर रोक लगा दिया। इसी को आधार बनाकर अदालत ने भी बुधवार को अपना फैसला सुनाया। इसके अलावा सत्ताधारी दल चुनाव तक अब कोई भी लोक लुभावन घोषणाएं नहीं कर पाएगा। गुरुद्वारा चुनाव निदेशालय एवं अदालत के दखल से सत्ताधारी दल शिरोमणि अकाली दल (बादल) को तगड़ा झटका लगा है। पार्टी कई महीनों से अस्पताल को बनवाने में जुटी हुई थी। यहां तक की उदघाटन के लिए निमंत्रण कार्ड भी बांटे जा चुके हैं। बता दें कि दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के 22 अगस्त को चुनाव होने वाले हैं। वोटों की गिनती 25 अगस्त को होगी। चुनाव के दौरान दिल्ली कमेटी द्वारा किए जा रहे लुभावने घोषणाओं का विरोध करते हुए साहिब जीत सिंह बिंद्रा ने गुरुद्वारा चुनाव निदेशालय का दरवाजा खटखटाया था। साथ ही चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन होने की बात कही थी।
इसके अलावा दिल्ली पुलिस ने दिल्ली कमेटी चुनाव प्रचार के संबंध में दिशा-निर्देश जारी किए हैं। पुलिस ने सभी प्रत्याशियों एवं सियासी दलों को कहा है कि चुनाव के दौरान कोई भी प्रत्याशी रोड़ शो नहीं निकालेगा। इसकी मंजूरी नहीं है। इसके अलावा जनसभा को भी मंजूरी नहीं मिली है। साथ ही डोर टू डोर प्रचार के दौरान सिर्फ 4 लोग ही मौजूद रहेंगे। इसको लेकर दिल्ली पुलिस ने सभी क्षेत्रों में प्रत्याशियों को बुलाकर नियम को स्पष्ट कर दिया है। इस बावत बुधवार को क्षेत्रीय पुलिस ने कई वार्डों के प्रत्याशियों के साथ बैठक भी की है।
अदालत एवं गुरुद्वारा चुनाव आयोग के फैसले से सत्ताधारी दल को जहां झटका लगा है, वहीं विपक्षी दल के नेता खुश हैं। विपक्षी दलों को डर सता रहा था कि कहीं कमेटी यह अस्पताल शुरू करवा कर संगत का दिल ना लूट ले। सभी विपक्षी दलों ने इस फैसले को सही ठहराते हुए अदालत के फैसले का सम्मान किया है।

सरना ने रूकवाया 125 बेड का श्री गुरु हरिकृष्ण अस्पताल का कार्य : सिरसा

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा है कि 125 बेड का श्री गुरु हरिकृष्ण अस्पताल कोरोना काल में लोगों की सेवा के लिए तैयार है , लेकिन पूर्व अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना ने इसके आरंभ होने में जो बाधा उत्पन्न की है वह जल्द ही कानूनी तरीके से दूर की जाएगी। सिरसा ने कहा कि संगतों के सहयोग से तैयार अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस अस्पताल की शुरुआत में केवल 48 घंटे ही रह गये थे। सरना ने अस्पताल की शुरुआत रुकवा कर श्री गुरु हरिकृष्ण साहिब जी के साथ विश्वासघात किया है। सरना ने बाबा हरबंस सिंह जी कार सेवा वाले व बाबा बचन सिंह जी कार सेवा वालों तथा दिल्ली की संगत के साथ विश्वासघात किया है। उन्होंने कहा कि हम इस मामले में कानूनी सलाह ले रहे हैं और जल्द ही यह बाधा कानूनी तरीके से दूर कर अस्पताल संगत को समर्पित किया जाएगा ताकि कोरोना काल में किसी मरीज को परेशानी का सामना ना करना पड़े।
सिरसा ने यह भी ऐलान किया कि अस्पताल में की जा रही सुखमनी साहिब के पाठ की सेवा इसी तरह जारी रहेगा। उन्होंने पूर्व अध्यक्ष हरविंदर सिंह सरना द्वारा संगत को बिकाऊ बताने के बयान की भी निंदा की। कमेटी के महासचिव हरमीत सिंह कालका ने कहा कि कोरोना काल में परमजीत सिंह सरना ने संगत की पीठ में छुरा घोंपा है। संगत को इस समय स्वास्थ्य सुविधा की बहुत अधिक जरूरत है व दिल्ली कमेटी ने यह सुविधा देने का प्रयास किया है पर केवल वोटों की खातिर सरना ने ऐसी तुच्छ हरकत की है जो बेहद निंदनीय है।

Related Articles

epaper

Latest Articles