35 C
New Delhi
Sunday, May 22, 2022

दिल्ली सिख गुरुद्वारा कमेटी को 22 जनवरी को मिलेगा नया ‘सरदार ‘

नई दिल्ली/ अदिति सिंह : दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (DSGMC) की नई कार्यकारिणी के गठन का ऐलान मंगलवार को हो गया। दिल्ली गुरूद्वारा चुनाव निदेशालय ने 22 जनवरी की तारीख मुकर्रर कर दी है। लिहाजा, अब 22 जनवरी को दोपहर बाद कमेटी को नया अध्यक्ष मिल जाएगा। इसके लिए सुबह 11.30 बजे गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब के गुरू गोविंद सिंह भवन में गुरुद्वारा कमेटी के नव निर्वाचित सदस्यों की पहली बैठक होगी। इसी दिन दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के कार्यकारिणी बोर्ड का चुनाव किया जाएगा। साथ ही अध्यक्ष, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, महासचिव, सहित पांच पदाधिकारी एवं 10 कार्यकारिणी सदस्यों का चुनाव होगा। इस बावत गुरुद्वारा चुनाव निदेशक नरिंदर सिंह ने चुनाव नोटिस जारी कर दिया है। नरिंदर सिंह के मुताबिक दिल्ली गुरुद्वारा एक्ट-1971 के रूल 7 के तहत चुनाव प्रक्रिया पूरी की जाएगी। इस बावत सभी नवनिर्वाचित सदस्यों को चुनाव की तारीखों की बावत पत्र भेज दिया गया। बता दें कि 22 जनवरी को दोपहर सबसे पहले सभी 55 सदस्यों को शपथ दिलाई जाएगी। उसके बाद सभी लोग कमेटी के सदस्य घोषित हो जाएंगे।

-दिल्ली सरकार के गुरुद्वारा चुनाव निदेशालय ने जारी की अधिसूचना
–गुरुद्वारा कमेटी हाउस का कोरम पूरा, शनिवार को गठित होगी नई कमेटी
–22 अगस्त को हुआ था कमेटी का आम चुनाव, 25 को निकला था रिजल्ट
–अदालती पेंच के चलते 4 महीने से लटकता रहा नई कार्यकारिणी का गठन
–55 सदस्यों का है हाउस, 51 सदस्यों को वोटिंग का है अधिकार

कमेटी का हाउस 55 सदस्यों का है, जिसमें 46 सदस्य संगत के जरिये चुनकर आएं हैं। जबकि 9 सदस्य कोआप्शन एवं नामजद कोटे के तहत चुने गए हैं। गुरुद्वारा चुनाव निदेशक की ओर से पहले प्रोटम चेयरमैन चुना जाएगा। अगर एक से अधिक नाम प्रोटम चेयरमैन के लिए आया तो उसी समय मतदान करवाया जाएगा। इसके बाद चुनावी प्रक्रिया प्रोटम चेयरमेन के द्वारा की जाएगी। प्रोटम चेयरमैन ही कार्यकारिणी बोर्ड का चुनाव कराएगा। इसमें 5 पदाधिकारी एवं 10 कार्यकारिणी सदस्यों का चुनाव होगा। इसके बाद नई कार्यकारिणी घोषित कर दी जाएगी। बता दें कि प्रोटम चेयरमेन की कार्यकारिणी लिस्ट को गुरुद्वारा चुनाव निदेशक नोटिफाई करेंगे और बाद में उसका नोटिफिकेशन निकाला जाएगा।
जानकारी के मुताबिक गुरुद्वारा कमेटी का जनरल हाउस 55 सदस्यों का है, लेकिन इसमें वोट डालने का अधिकार सिर्फ 51 सदस्यों को ही दिया गया है। बचे 4 सदस्य अकाल तख्त के जत्थेदार होंगे, जो सदस्य के रूप में शपथ तो लेंगे, लेकिन वह किसी भी प्रक्रिया का हिस्सा नहीं बनेंगे। वह कमेटी मेें विशेष नुमाइंदे के रूप में रहेंगे। इस प्रक्रिया के पूरा होने के साथ ही दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में नई कार्यकारिणी का काम शुरू हो जाएगा।
बता दें कि दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के आम चुनाव 22 अगस्त 2021 को हुए थे और रिजल्ट 25 अगस्त 2021 को घोषित हुआ था। चुनाव घोषित होने के बाद अदालती उठापठक के चलते कमेटी का गठन 4 महीने से लटकता रहा। एक दर्जन से अधिक मामले अदालत भी पहुंच गए। योग्यता एवं अयोग्यता का मामला भी आया। इन सबसे लड़ते हुए मंगलवार को चुनाव निदेशालय सही मुकाम पर पहुंचा।

गुरुद्वारा कमेटी के तीन पूर्व अध्यक्षों ने किया शक्ति प्रदर्शन

इससे पहले दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के तीन पूर्व अध्यक्षों परमजीत सिंह सरना, हरविंदर सिंह सरना एवं मंजीत सिंह जीके ने कार्यकर्ताओं के साथ मंगलवार को दोपहर गुरुद्वारा चुनाव निदेशालय पर शक्ति प्रदर्शन किया। साथ ही कोरम पूरा होने के बावजूद चुनाव जल्द करवाने का दबाव बनाया। इस मौके पर दिल्ली गुरुद्वारा चुनाव निदेशक सरदार नरिंदर सिंह ने सिंह सभा के प्रतिनिधि के तौर पर सरदार सुरिंदर सिंह दारा के नाम का नोटिफिकेशन जारी कर दिया। इसके साथ ही 51 सदस्यीय सदन बनकर तैयार हो गया है। निदेशक ने भरोसा दिया कि बहुत जल्द कार्यकारिणी गठन को लेकर ऐलान हो जाएगा। इन नेताओं के घर पहुंचने के बाद ही चुनाव निदेशक ने 22 जनवरी की तारीख का ऐलान कर दिया। साथ ही चुनाव का पूरा सेड्यूल घोषित कर दिया। चुनाव निदेशक के इस नोटिफिकेशन के बाद दिल्ली कमेटी के नए सिरे से आम चुनाव करवाने का सपना देख रहे राजनीतिक नेताओं को गहरा झटका लगा है।

Related Articles

epaper

Latest Articles