spot_img
29.1 C
New Delhi
Thursday, June 17, 2021
spot_img

DSGMC चुनाव : पंजाब और सिंध बैंक कमर्चारियों ने सरना बंधुओं का किया समर्थन

—सिख पंथ की भलाई और सही तस्वीर पेश करने की दी सलाह
—सरना बंधुओं ने गुरुद्वारा कमेटी के वर्तमान हालात पर जताया अफसोस
—बनाना चाहते थे 550 बेड का आलीशान अस्पताल, बन गया डायलिसिस सेंटर

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : शिरोमणि अकाली दल दिल्ली के अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना की अगुवाई में पंजाब और सिंध बैंक के वर्तमान और पूर्व कमर्चारियों की बैठक बुलाई गयी। बैठक का उद्देश्य कमर्चारियों को पार्टी के कार्यकाल में ऐतिहासिक विकास कार्यो से अवगत कराने के साथ ही, आने वाले दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के चुनाव में पार्टी-विजन से अवगत कराना था।
बैंकर्स स्टॉफ को सम्बोधित करते हुए सरना ने बताया कि, प्रचार और जमीनी हकीकत में अंतर हैं । आज जीएचपीएस स्कूलों के अध्यापक रकाबगंज साहिब के पास अपने मेहनताना के लिए धरने प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन प्रबंधकों के पास मिलने का समय नहीं है। कमेटी से जुडे ऐतिहासिक स्कूल-कॉलेज एवं शैक्षणिक संस्थान खँडहर हो रहे हैं । बच्चें किसी भी कौम की नीवं होते हैं। आज वही नींव खोखली हो रही है। अपने विजन को गिनाते हुए पार्टी महासचिव हरविंदर सिंह सरना ने बताया कि,हम बच्चों के लिए एक अच्छी रोजगारपरक ट्रेनिंग सेंटर बनाना चाहते हैं। साथ ही चाहते हैं कि हमारे कर्मचारी जो हमारे बच्चे समान है, उनको समय से मेहनताना मिलना शुरू हो।

देखा था 550 बेड का आलीशान बाला साहिब कैंसर अस्पताल का सपना

सरना ने कहा कि जब वह सत्ता में थे तब 550 बेड का आलीशान बाला साहिब कैंसर अस्पताल का सपना देखा था, उसे आज डायलसिस मशीन के सहारे सिर्फ प्रचार किया जा रहा है। हमने भी अपने समय मे हैदराबाद और कानपुर में बड़े कैंसर अस्पताल को खड़ा करने में मदद की। लेकिन, कभी इस तरह का शोर-शराबा नहीं किया। सरना ने कहा कि सिक्खी एवं पंथ का बहुत नुकसान हो रहा है, इसके लिए सभी को एक मंच पर लाना बहुत जरूरी हो गया है।
इस मौके पर बैंकर समुदाय की तरफ से एसएस कोहली, मंजीत सिंह सारंग,जेएस बिंद्रा,सरदार मक्खन सिंह, कुलबीर सिंह, परमजीत सिंह घाबरी, तेजवीर सिंह विर्क,कुलबीर सिंह,परमजीत सिंह अंजान,हरजीत सिंह बेदी, सुजिन्दर सिंह, प्रितपाल सिंह, केपी सिंह आदि लोगों ने बैठक में पंथ की भलाई के लिए आगे क्या कदम उठाने चाहिए उसको लेकर अपने विचार सांझा किए।

Related Articles

epaper

Latest Articles