spot_img
22.1 C
New Delhi
Thursday, October 28, 2021
spot_img

कंगना रनौत ने किसानों को आंतकवादी एवं अलगाववादी बताया, भड़के सिख

—सिखों ने कंगना के मामले में ट्विटर को लीगल नोटिस भेजा
—सिखों के खिलाफ जहर उगलने वाले सभी लोग हमारे निशाने पर हैं : जीके
—किसानों पर पथराव करने वालों को फंडिंग कौन करता है ?

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल: फिल्मी नायिका कंगना रनौत द्वारा किसानों को आंतकवादी एवं अलगाववादी बताने पर जागो पार्टी ने कंगना का ट्विटर एकाउंट बंद करने के लिए ट्विटर के एम.डी. को लीगल नोटिस भेजा है। जागो पार्टी के अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके ने अपने वकील नगेन्द्र बेनीपाल द्वारा भेजे गये नोटिस में ट्विटर को नोटिस मिलने के तीन दिन के अंदर कंगना का एकाउंट बंद करने की चेतावनी दी है। इस बारे और जानकारी देते हुए जीके ने बताया कि सिखों के खिलाफ जहर उगलने वाले सभी लोग हमारे निशाने पर हैं। कंगना किसान आंदोलन के बाद से लगातार किसानों को आंतकवादी और देश विरोधी अपने ट्वीट द्वारा बता रही है। जबकि इस बारे में कंगना के पास कोई सबूत नहीं है। यह सीधे तौर पर सिखों के खिलाफ दूसरे समुदायों में नफरत पैदा करने का कारण बनी हुई है। इसलिए इसके ट्वीट बंद करना जरूरी है। जीके ने जानकारी दी कि बीते दिने सिंघू बार्डर पर सिखों के खिलाफ उकसावा भरपूर ब्यानबाजी एवं पथराव करने वाले विष्णु गार्डन के निवासी शिव बुद्धिराजा के खिलाफ थाना ग्रेटर कैलाश में शिकायत दी है। क्योंकि शिव बुद्धिराजा ने किसानों के खिलाफ ‘खबर इंडिया’ चैनल पर बोलते हुए सिखों को खत्म करने की ललकार मारी थी। इसलिए शिव बुद्धिराजा के साथ ही चैनल के खिलाफ भी आपराधिक साजिश की शिकायत दर्ज करवाई गई है।

इसे भी पढें…CBSE बोर्ड परीक्षा के तारीखों का ऐलान, चार मई से 10वीं, 12वीं की परीक्षाएं होगी शुरू

जीके ने सवाल किया कि जब कश्मीर में सुरक्षा बलों पर कश्मीरी नौजवान पथराव करते थे तो मीडिया चैनलों द्वारा कहा जाता था कि पाकिस्तान इन्हें फंडिंग देता है। पर आज यह चैनल शिव बुद्धिराजा जैसे दंगाईयों के खिलाफ यह सवाल नहीं पूछते कि इन्हें पथराव करने की फंडिंग कौन करता है? जीके ने इसके साथ ही हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर एवं केन्द्रीय सामाजिक कल्याण मंत्री थावर चंद गहलोत को मजदूर अधिकार संगठन की नेता नौदीप कौर की रिहाई के लिए पत्र भेजने का हवाला देते हुए बताया कि नौदीप कौर की बहन राजवीर कौर ने हमारे तक पहुंच की है क्याेंकि नौदीप को कुंडली इन्डस्ट्रीयल एरिया एसोसिएशन की शिकायत पर 12 जनवरी 2021 को कथित तौर पर पुलिस पर हमला करने के आरोप में जेल भेज दिया गया था।

राजवीर कौर ने बताया है कि नौदीप कौर मजदूर अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ रही थी। जिस कारण कारखानों के मालिकों ने पुलिस की मिलीभगत से नौदीप कौर को झूठे मामले में फंसाया है। इसलिए हमने मुख्यमंत्री हरियाणा को जांच कमेटी बना करके मामले की जांच करवाने की मांग की है। जीके ने साफ कहा कि यदि कंगना के खिलाफ ट्विटर कार्रवाई नहीं करता, दिल्ली पुलिस शिव बुद्धिराजा को गिरफ्तार नहीं करती और हरियाणा पुलिस नौदीप कौर के खिलाफ दर्ज झूठे मामले में उसको रिहा नहीं करती तो जागो पार्टी अपने वकीलों द्वारा इन सभी के खिलाफ आवश्यक कानूनी कार्यवाही करेंगी।

Related Articles

epaper

Latest Articles