spot_img
28.1 C
New Delhi
Sunday, June 13, 2021
spot_img

दिल्ली में 18-44 आयु के वैक्सीनेशन पर संकट, सिर्फ 3 दिन की वैक्सीन शेष

  • वैक्सीन की कमी से दिल्ली में मजबूरन बंद करना पड़ सकता है वैक्सीनेशन केंद्र

  • केंद्र सरकार ने लिखा पत्र, मई में नहीं मिलेगी 18-45 आयुवर्ग के लिए वैक्सीन

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने सोमवार को डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से केंद्र सरकार से दिल्ली के लिए वैक्सीन की पर्याप्त आपूर्ति करने की मांग की। साथ ही उपमुख्यमंत्री ने वैक्सीन आवंटन प्रक्रिया में पारदर्शिता लाने के लिए सभी राज्यों को आवंटित किए गए वैक्सीन के डेटा को सार्वजनिक करने की मांग भी की। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में वैक्सीन की भारी कमी है। दिल्ली में 18+ के लिए सिर्फ़ तीन दिन के लिए वैक्सीन बची है। अगर केंद्र सरकार 18+ उम्र के लोगों के लिए वैक्सीन नहीं उपलब्ध कराती है तो हमें मजबूरन सारे वैक्सिनेशन सेंटर बंद करने पड़ेंगे। केंद्र सरकार द्वारा मिली एक चिट्ठी का हवाला देते हुए उपमुख्यमंत्री ने बताया कि केंद्र सरकार मई महीने में दिल्ली को 45+ आयुवर्ग के लिए 3.83 लाख वैक्सीन दे रही है। लेकिन 18-44 आयुवर्ग के लोगों के लिए कोई वैक्सीन नहीं मिल रही है।

मनीष सिसोदिया ने केंद्र के सामने रखी ये तीन मांगे

उपमुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार के सामने 3 मांग रखी। पहली, कि केंद्र सरकार 18-44 आयुवर्ग के लोगों के लिए पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध कराए या कम से कम 45+ आयुवर्ग के लिए जितनी वैक्सीन दे रहे है उतना 18-44 आयुवर्ग के लिए भी दे। दिल्ली सरकार उसे खरीदने के लिए तैयार है। दूसरी, भारत में जितनी भी वैक्सीन का उत्पादन हो रहा है और राज्यों को जितना आवंटन किया जा रहा है उसके आंकड़े सार्वजनिक किए जाए ताकि आवंटन प्रक्रिया में पारदर्शिता आ सके। पता चल सके कि राज्यों को कितनी वैक्सीन मिली, सरकारी अस्पतालों और निजी अस्पतालों को कितनी वैक्सीन मिली।
तीसरा, केंद्र सरकार बताए कि जून और जुलाई के महीने में दिल्ली को कितनी वैक्सीन मिलेगी ताकि उसके अनुसार दिल्ली सरकार वैक्सीनेशन की योजना बना सके।

45+ आयुवर्ग के लोगों के लिए वॉक-इन वैक्सीनेशन की सुविधा भी शुरू

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में वैक्सीन कार्यक्रम तेज़ी से चलाया जा रहा है आज 45+ आयुवर्ग के लोगों के लिए वैक्सीन केंद्रों को अस्पतालों से स्कूलों में शिफ्ट किया गया है ताकि वैक्सीनेशन को और गति मिल सके। साथ ही वॉक-इन वैक्सीनेशन की सुविधा भी शुरू की गई है। मतलब कि अब 45+ के लोगों को खुद से रजिस्ट्रेशन कराने की जरूरत नहीं होगी। उनका रजिस्ट्रेशन वैक्सीन केंद्र पर ही होगा। साथ ही 18-44 आयुवर्ग के लोगों का वैक्सीनेशन भी स्कूलों में तेजी से हो रहा है। लेकिन 18 + के लिए दिल्ली में केवल 3 दिन की वैक्सीन बाकी है. उपमुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार से सहयोग की अपेक्षा है ताकि दिल्ली में वैक्सीनेशन का कार्यक्रम न रुके।

दिल्ली सरकार के लिए वैक्सीनेशन डेटा एकत्र करना नहीं

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर की रफ्तार अब धीमी हो रही है। दिल्ली में संक्रमण दर कम हो रही है और कोरोना से होने वाले मौतों की संख्या भी घटी है। इससे अस्पतालों पर भी दबाब कम हुआ है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार को केंद्र द्वारा जितनी वैक्सीन उपलब्ध करवाई जा रही है दिल्ली सरकार तेज़ी के साथ उसे जनता को लगा रही है। दिल्ली सरकार के लिए वैक्सीन लगाना डेटा एकत्र करना नहीं है बल्कि दिल्ली के हर एक नागरिक को कोरोना के खतरे से सुरक्षित करना है।

Related Articles

epaper

Latest Articles