spot_img
28.1 C
New Delhi
Sunday, June 13, 2021
spot_img

दिल्ली सरकार बैंकाक से 18 टैंकर और फ्रांस से 21 ऑक्सीजन के प्लांट आयात करेगी

-दिल्‍ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी दूर करने के लिए केजरीवाल सरकार का फैसला
– कल से टैंकर आने शुरू होंगे, इसके लिए केंद्र सरकार से प्लेन देने का अनुरोध किया
– सभी टैंकर आने के बाद ऑक्सीजन के परिवहन में आ रही परेशानी दूर हो जाएगी
– फ्रांस से आ रहे 21 ऑक्सीजन के प्लांट्स का तुरंत इस्तेमाल किया जा सकता

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व(Guidance) में दिल्ली सरकार ने दिल्ली में ऑक्सीजन की किल्लत को दूर करने के लिए कई अहम कदम(Essential steps) उठाए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार बैंकाक से 18 टैंकर और फ्रांस से 21 ऑक्सीजन के प्लांट आयात करने का निर्णय लिया है। टैंकर कल से आने शुरू हों जाएंगे। इनके आने के बाद ऑक्सीजन के परिवहन में आ रही परेशानी दूर हो जाएगी और हमें अपनी पूरी ऑक्सीजन मिलने लगेगी। सीएम ने कहा कि फ्रांस से आयात किए जा रहे 21 ऑक्सीजन के प्लांट का तुरंत इस्तेमाल(Immediate) किया जा सकता है। इन्हें अलग-अलग अस्पतालों(Hospital) में लगाया जाएगा। साथ ही, अगले एक महीने के अंदर दिल्ली में 44 ऑक्सीजन के प्लांट्स लगाए जाएंगे। इसमें 8 केंद्र के और 36 प्लांट दिल्ली सरकार के होंगे। सीएम ने कहा कि हम 10 मई तक 1200 अतिरिक्त आईसीयू बेड तैयार कर देंगे, इससे गंभीर मरीजों(Serious patient) को काफी राहत मिलेगी। हम सभी के साथ मिल कर काम कर रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि अगर हम सब मिलकर काम करेंगे, तो कोरोना पर जरूर जीत हासिल कर लेंगे।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज डिजिटल प्रेस का(Digital Press Confrence) कर बताया कि दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए कई सारे कदम उठाए जा रहे हैं। इस पर हम रात-दिन लगे हुए हैं। सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली सरकार द्वारा उठाए गए कुछ अहम कदमों की जानकारी देते हुए कहा कि यह देखने में आया है कि केंद्र सरकार ने जितनी ऑक्सीजन दिल्ली को अलॉट की है, हमें उसको भी प्राप्त करने में परेशानी इसलिए हो रही है, क्योंकि टैंकरों की बहुत कमी है। इस समय चारों तरफ टैंकरों की कमी है। ऑक्सीजन तो फिर भी इधर-उधर मिल जा रही है, लेकिन टैंकरों की बहुत कमी है। इसलिए दिल्ली सरकार ने बैंकॉक से 18 टैंकर आयात करने का निर्णय लिया है। यह टैंकर कल से आने चालू हो जाएंगे। केंद्र सरकार(Central Government) से हमने इसके लिए एयरपोर्ट(Airport) के प्लेन देने के लिए अनुरोध(Appeal) किया है। इस पर उनका काफी सकारात्मक रवैया रहा है। बातचीत चल रही है और मैं पूरी उम्मीद करता हूं कि बातचीत सफल रहेगी। इसमें केंद्र सरकार का भी पूरा सहयोग मिल रहा है। अगर कल से 18 टैंकर बैंकॉक से आने चालू हो जाएंगे और सभी टैंकर आ जाते हैं, तो जो ऑक्सीजन को ट्रांसपोर्ट करने की परेशानी आ रही थी, वह परेशानी दूर हो जाएगी और हमें अपनी पूरी ऑक्सीजन मिलनी चालू हो जाएगी।
सीएम अरविंद केजरीवाल ने आगे कहा कि हम लोग फ्रांस से 21 ऑक्सीजन के प्लांट आयात कर रहे हैं। यह प्लांट्स तुरंत इस्तेमाल करने के लिए तैयार हैं और इनका तुरंत इस्तेमाल शुरू किया जा सकता है। इन 21 प्लांट्वस को अलग-अलग अस्पतालों में लगा देंगे, तो उन अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी दूर करने में हम लोगों को मदद मिलेगी। पिछले चार-पांच दिनों में मैने देश के कई उद्योगपतियों(Industrialist) को चिट्ठी लिखी थी और उनसे मदद मांगी थी। साथ ही देश के सभी मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखी थी और उनसे मदद मांगी थी। इसके बाद हमें बहुत जबरदस्त सहयोग मिल रहा है। बहुत लोगों के ऑफर आए हैं। उन सबके साथ बातचीत चल रही है। बड़ी तेजी के साथ बहुत सारी चीजें आगे बढ़ रही हैं। उनमें से कई लोग मदद कर रहे हैं। अधिकतर लोगों ने एक ही शर्त रखी है कि हम अपना नाम नहीं बताना चाहते हैं, हम आपकी वैसे ही मदद करेंगे। यह तो और भी बड़ा बड़प्पन है। कहते हैं न कि जब आदमी किसी की दाएं हाथ से मदद करें, तो बाएं हाथ को भी पता नहीं चलना चाहिए कि उसने मदद की है। इस मनोभाव के साथ हमारा सब लोग मदद करने हैं। मैं उन सारी सरकारों का, सभी मुख्यमंत्री का, सभी उद्योगपतियों का, सभी समाजसेवी संस्थाओं का, सभी धार्मिक संस्थाओं का, जो बढ़-चढ़कर दिल्ली के लोगों की और दिल्ली सरकार की इस समय मदद कर रहे हैं, उन सब का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। ऑक्सीजन के प्लांट्स और टैंकर आयात करने में भी बहुत सारे लोगों का सहयोग है, तभी इतने कम समय में संभव हो पाया है। तभी हम टैंकर बैंकॉक से मंगा पा रहे हैं और फ्रांस से ऑक्सीजन के प्लांट मंगा पा रहे हैं।

मैं काफी घबरा गया था कि कहीं दिल्ली के अंदर कोई हादसा न हो जाए

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछले हफ्ते हमने देखा कि गुरुवार, शुक्रवार और शनिवार, 3 दिन ऐसे थे, जब दिल्ली में अस्पतालों में बहुत ज्यादा अफरा-तफरी हो गई थी। कहीं किसी अस्पताल में ऑक्सीजन खत्म होने वाली है, तो कभी किसी अस्पताल में ऑक्सीजन खत्म होने वाली है। मैं भी काफी घबरा गया था कि कहीं दिल्ली के अंदर कोई हादसा न हो जाए कि समय से ऑक्सीजन ही न पहुंचे और कई सारे लोगों की मृत्यु न हो जाए। हमने पूरी की पूरी रात जागकर बिताई। एक-एक फोन कॉल आता था, एसओएस आता था, मैसेज आता था कि यहां सीजन खत्म होने वाली है, उसको तुरंत कहीं न कहीं से इंतजाम करके हम लोग ऑक्सीजन भिजवाते थे, लेकिन उसके बाद से स्थिति में काफी सुधार हुआ है। पिछले 2 दिन में आप देखेंगे कि इस किस्म के एसओएस मैसेज अस्पतालों के कम आ रहे हैं।

30 अप्रैल तक यह 8 प्लांट्स लग कर तैयार हो जाएंगे

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि केंद्र सरकार भी कई सारे टैंकर आयात कर रही है। केंद्र सरकार ने दिल्ली के लिए पांच अलग से टैंकर हमें दिए हैं, उसके लिए भी मैं केंद्र सरकार का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। अगले एक महीने के अंदर दिल्ली में हम 44 ऑक्सीजन प्लांट लगाने जा रहे हैं। इसमें 8 प्लांट्स केंद्र सरकार लगा रही है। ऑक्सीजन प्लांट लगाने में बीच में कुछ देरी हो गई थी, इसके जो भी कारण रहे, लेकिन अब उम्मीद है कि संभवतः 30 अप्रैल तक यह 8 प्लांट्स लग कर तैयार हो जाएंगे और ऑक्सीजन के 36 प्लांट्स दिल्ली सरकार लगा रही है। इसमें से 21 प्लांट्स फ्रांस से रहे हैं और बाकी 15 प्लांट्स हमारे देश के हैं। इस तरह 36 ऑक्सीजन के प्लांट्स अगले एक महीने के अंदर दिल्ली सरकार लगा रही है। इन 44 प्लांट्स को अलग-अलग अस्पतालों में जब लगाया जाएगा, तो उससे ऑक्सीजन की सप्लाई में काफी सुधार होगा।

 डीआरडीओ के 500 आईसीयू बेड भर गए

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह देखने में आ रहा है कि यह वाली जो लहर आई है, यह ज्यादा खतरनाक है। एक तो यह बहुत तेजी से फैल रही है और जो लोग बीमार हो रहे हैं, वह ज्यादा गंभीर होते जा रहे हैं। इस वक्त सबसे ज्यादा डिमांड(Demand) आईसीयू बेड की है। मेरे पास जितने फोन आ रहे हैं, उनमें से ज्यादातर लोग आईसीयू बेड का इंतजाम करने की मांग करते हैं। इस समय सभी अस्पताल ओवरलोडेड हैं। हर अस्पताल अपनी क्षमता से ज्यादा काम कर रहा है। बेड भरे हुए हैं, आईसीयू बेड भरे हुए हैं। केंद्र सरकार ने हम लोगों को एयरपोर्ट के पास डीआरडीओ(DRDO) के 500 आईसीयू(ICU) बेड हम लोगों को बना कर दिए हैं। आपको यह जानकर ताज्जुब होगा कि वह प्लांट जैसे ही बनकर तैयार हुए, जैसी ही हमने इसकी घोषणा की, उसके 3 घंटे के अंदर 500 बेड भर गए। इतने गंभीर मरीज घूम रहे हैं, जो इलाज ढूंढ रहे हैं। मैं आज सुबह-सुबह में जीटीबी अस्पताल के पास रामलीला ग्राउंड(Ramleela Ground) का मुआयना करके आया हूं। वहां पर हम 500 आईसीयू तैयार कर रहे हैं। एलएनजेपी अस्पताल के सामने जो मुख्य रामलीला मैदान है, वहां पर भी हम 500 आईसीयू बेड तैयार कर रहे हैं और राधा स्वामी सत्संग(Radha Swami Satsang) में हम 200 आईसीयू बेड (ICUBed)तैयार कर रहे हैं। यह 1200 आईसीयू बेड गंभीर मरीजों की देखभाल के लिए 10 मई तक बनकर तैयार हो जाएंगे। मुझे लगता है कि इससे लोगों को भी बहुत राहत मिलेगी और पूरे सिस्टम को बहुत राहत मिलेगी, जो अभी पूरी तरह से तनाव में है। हम 24 घंटे लगे हुए हैं। सबके साथ मिलकर काम कर रहे हैं। देश में सभी राज्य सरकारों और केंद्र सरकार के साथ अलग-अलग समाजसेवी संस्थाओं, उद्योगपतियों समेत सबके साथ मिलकर काम कर रहे हैं। सबका सहयोग मिल रहा है और मेरी यही एक उम्मीद है कि अगर हम सब मिलकर काम करेंगे, तो कोई कारण नहीं है कि हम इस पर जीत नहीं पा सकते हैं।

 

KEYWORDS

FRANCE, BANGKOK, OXYGEN, OXYGENIMPORT, COVIDPATIENT, CENTRAL GOVERMENT DRDO, ICUBED, SYSTEM, NGO, RADHASWAMISATSANGGHAR, INDUSTRIALIST,

URL

KEJRIWAL GOVERMENT FAILS

Related Articles

epaper

Latest Articles