13.1 C
New Delhi
Tuesday, January 31, 2023

अरविंद केजरीवाल का दावा, दिल्ली में ऑक्सीजन की स्थिति नियंत्रण में, नहीं होने देंगे मौत

– होम आइसोलेशन में सभी मरीजों को हर हाल में ऑक्सीमीटर उपलब्ध कराई जाए
– 18 साल से अधिक उम्र के निवासियों को 3 महीने में वैक्सीन लगाने के लक्ष्य 
– सभी DC वैक्सीनेशन सेंटर्स और हंगर रिलीफ सेंटर्स का जायजा लें

नई दिल्ली /अदिति सिंह : मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज अपने आवास पर कोरोना को लेकर एक उच्च स्तरीय बैठक की। सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि दिल्ली में ऑक्सीजन की स्थिति नियंत्रण में आ रही है। इसलिए अब ऑक्सीजन की कमी के चलते एक भी मौत नहीं होनी चाहिए। ऑक्सीजन वितरण में आ रही सभी अड़चनों को दूर किया जाए और जितना बचा सकें, उतना ऑक्सीजन बचाएं। सीएम ने होम आइसोलेशन में रह रहे सभी मरीजों को हर हाल में ऑक्सीमीटर उपलब्ध कराने के सख्त निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि 18 साल से अधिक उम्र के सभी दिल्ली निवासियों को तीन महीने में वैक्सीन लगाने के लक्ष्य को पूरा किया जाए। सभी डीसी प्रतिदिन वैक्सीनेशन सेंटर्स और हंगर रिलीफ सेंटर्स का औचक निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लें। अगर हमने सभी को वैक्सीन की खुराक लगा दी तो, हम कोरोना की तीसरी लहर को दिल्ली में आने से रोक पाएंगे। बैठक में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और सभी जिलों के डीएम मौजूद रहे। बैठक में मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने इस बात पर बहुत नाराजगी जताई है कि होम आइसोलेशन के सभी मरीजों को अभी भी ऑक्सीमीटर उनके घर पर नहीं दिए जा रहे थे। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हर हाल में यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि होम आइसोलेशन में रह रहे सभी मरीजों को ऑक्सीमीटर उनके घर पर दिए जाएं। उन्होंने कहा है कि अब ऑक्सीजन आ गई है, तो अब दिल्ली में किसी को अभी ऑक्सीजन की कमी नहीं होनी चाहिए। दिल्ली में जितने भी अस्पताल हैं, वे अपने बेड्स बढ़ाएं और प्रत्येक जिलाधिकारी अपने-अपने क्षेत्र में नए ऑक्सीजन बेड्स की व्यवस्था करें। साथ ही, प्रत्येक डीएम को सुनिश्चित करना है कि दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी की वजह से किसी की भी मौत नहीं होनी चाहिए।

दिल्ली में बहुत बड़े स्तर पर ऑक्सीजन स्टोरेज की क्षमता बनानी है

सीएम  अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जो 48 ऑक्सीजन प्लांट्स आ रहे हैं, वो जैसे ही दिल्ली में पहुचें, उनका तुरंत इंस्टालेशन होना चाहिए। इन 48 ऑक्सीजन प्लांट्स की ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता 40 मिट्रिक टन की है। इससे दिल्ली की ऑक्सीजन आपूर्ति में और मदद मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें दीर्घकालिक योजना बनानी होगी। दिल्ली में बहुत बड़े स्तर पर ऑक्सीजन स्टोरेज की क्षमता बनानी है। उसमें भी विशेष स्टोरेज क्षमता बनाने के निर्देश दिए गए हैं। इस मीटिंग में अधिकारियों ने बताया कि इस वक्त सबसे बड़ी मुश्किल ऑक्सीजन की सप्लाई में आ रही है, तो दोनों कंपनियों से ऑक्सीजन की सप्लाई जल्दी से जल्दी देने के लिए कहा जाए।

हर दिन अपने क्षेत्र में हंगर रिलीफ सेंटर्स का दौरा करें DC

सभी डीसी को निर्देश दिए गए हैं कि वो अपने क्षेत्र में सभी वैक्सीनेशन सेंटर पर औचक निरीक्षण हर दिन करें, ताकि यह देखा जा सके कि वैक्सीनेशन सेंटर सही ढंग से चल रहे हैं या नहीं चल रहे हैं। साथ ही, सभी डीसी को यह भी निर्देश दिए गए हैं कि वे हर दिन अपने क्षेत्र में हंगर रिलीफ सेंटर्स का दौरा करें, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि गरीबों को किसी भी तरह की खाने की कोई दिक्कत नहीं हो रही है और शेल्टर होम्स, ओल्ड एज होम और अनाथालयों में सबको सारी सुविधाएं और इलाज मिल रही हैं। अगर हमने दिल्ली में सभी को वैक्सीन की खुराक लगा दी तो, हम कोरोना की तीसरी लहर को दिल्ली में आने से रोक पाएंगे। दिल्ली में बड़े स्तर पर हमें रिटायर्ड डॉक्टर्स, नर्सेज को भर्ती करने की जरुरत है। जो कोई भी समाज की मदद करना चाहते हैं, वो सरकार से जुड़ कर इस मुश्किल परिस्थिति में अपना योगदान दें।

Related Articles

epaper

Latest Articles