spot_img
8.1 C
New Delhi
Tuesday, January 25, 2022
spot_img

सरकारी स्कूल की पांच छात्राओं से सामूहिक दुष्कर्म, 2 सगी बहनें

spot_imgspot_img
Indradev shukla

जयपुर /टीम डिजिटल : राजस्थान के अलवर जिले के एक सरकारी स्कूल की पांच छात्राओं ने अपने स्कूल के प्रधानाध्यापक सहित 15 शिक्षकों के खिलाफ यौन उत्पीडऩ एवं सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाया है। पुलिस ने स्कूल के पूरे स्टाफ के खिलाफ भादसं की सम्बद्ध धाराओं एवं पॉक्सो अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है और मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल गठित किया है। पुलिस को संदेह है कि यह स्कूल के एक पूर्व अध्यापक का बदला लेने का काम हो सकता है। इस अध्यापक को पिछले वर्ष तीन लड़कियों के साथ छेड़छाड़ के मामले में गिरफ्तार किया गया था। भिवाड़ी के पुलिस अधीक्षक राममूॢत जोशी ने कहा कि मामले की गहन जांच के लिये एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है। उन्होंने बताया कि अलवर के भिवाड़ी के मांढण थाने में मंगलवार रात पांच महिला सहित 15 शिक्षकों के खिलाफ तीन प्राथमिकी दर्ज की गई थी। उन्होंने बताया कि स्कूल के पूरे स्टाफ को प्राथमिकी में आरोपी बनाया गया है। मामले की जांच के लिये एसआईटी का गठन किया गया है। छात्राओं के परिजनों ने मेडिकल जांच कराने से इनकार कर दिया है और उनके बयान अदालत में दर्ज किये जायेंगे और मामले की गहन जांच की जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्या में मामला गवाहों के उत्पीडऩ का लगता है।

—प्रधानाध्यापक सहित 15 शिक्षकों के खिलाफ मामला दर्ज
—पुलिस ने जांच के लिए विशेष जांच दल गठित किया

Indradev shukla

उन्होंने कहा,स्कूल का एक निलंबित शिक्षक को पिछले साल दिसंबर में तीन छात्राओं के साथ छेड़छाड़ की शिकायत पर गिरफ्तार किया गया था। मामले की जांच चल रही है और पुलिस ने अदालत में चार्जशीट दाखिल कर दी है। बीती रात प्राथमिकी में दर्ज किए सभी कर्मचारियों ने उस शिक्षक के खिलाफ बयान दिया था। निलंबित शिक्षक को हाल ही में जमानत मिली हैं। उन्होंने कहा कि प्राथमिक जांच से पता चला है कि शिक्षक ने पांच छात्राओं के परिवार के सदस्यों को स्कूल के कर्मचारियों के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिये राजी किया और वह उन्हें इस उद्देश्य से मंगलवार रात थाने ले गया हालांकि वह स्वयं थाने में नहीं गया। उन्होंने बताया कि मैंने गांव में जाकर ग्रामीणों और परिवार के सदस्यों से बात की। प्राथमिक जांच के आधार पर यह गवाहों के उत्पीडन का मामला प्रतीत होता है। एसआईटी मामले की जांच करेगी और जांच के नतीजे के आधार पर आगे की कार्रवाई तय की जायेगी। मांढ़ण के थानाधिकारी मुकेश कुमार ने बताया कि नाबालिग लड़कियों ने आरोप लगाया है कि शिक्षक, महिला शिक्षिका की मदद से उनके साथ दुष्कर्म करते थे। अलग-अलग आरोपियों के खिलाफ तीन प्राथमिकी दर्ज की गयी हैं। उन्होंने कहा कि एक प्राथमिकी में पीडि़त दो बहनें हैं जबकि अन्य दो मामलों में एक-एक पीडि़त है। वहीं पुलिस के आला अधिकारी बुधवार को स्कूल और गांव पहुंचे और ग्रामीणों से बात की।

वसुंधरा राजे ने भी ऐसे मामलों सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाया

पुलिस के अनुसार,पूर्व शिक्षक की भूमिका सामने आई है। आशंका है कि उसने कर्मचारियों के खिलाफ साजिश रची। हालांकि मामले की गहनता से जांच की जा रही है। वहीं मामला सामने आने के बाद भाजपा के नेताओं ने कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी ऐसे मामलों सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाया, जबकि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां ने अलवर के जिला कलेक्टर और भिवाड़ी के पुलिस अधीक्षक से बात कर मामले की जानकारी ली। एक बयान के अनुसार पूनियां ने आरोपियों के खिलाफ कानून सख्त कार्रवाई की मांग की हैद्य साथ ही पूनियां ने राज्य सरकार से मांग की है कि इस मामले पर तुरंत संज्ञान लेकर पीडि़ता व उनके परिवार को न्याय सुनिश्चित करें और दुष्र्किमयों के खिलाफ कानूनन कड़ी कार्रवाई हो।

spot_imgspot_imgspot_img

Related Articles

epaper

spot_img

Latest Articles

spot_img