30 C
New Delhi
Sunday, March 7, 2021

UP : दिव्यांग महिला की नाबालिग बेटी को ढूंढने के लिए पुलिस ने मांगी रिश्वत

—दारोगा ने रखी शर्त, पुलिस की गाड़ी में डीजल भरवा दें तो उसकी बेटी को ढूंढेंगे
—महिला ने रिश्तेदारों से उधार लेकर दारोगा को दिए 15 हजार रुपये
—एक माह से दिव्यांग महिला की 15 साल की बेटी का अपहरण कर लिया गया था
—महिला से पैसे लेने वाले चौकी इंचार्ज राजपाल सिंह पर गिरी गाज, किया निलंबित

कानपुर /टीम डिजिटल : उत्तर प्रदेश की योगी सरकार राज्य में महिलाओं की सुरक्षा, संरक्षा और हर क्षेत्र में महिलाअेां की सहभागिता बढाने के लिए विशेष पहल कर रखी है, लेकिन सरकार की हनक जमीन पर नहीं पहुंच पा रही है। यही कारण है कि महिलाओं के प्रति गलत व्यवहार अभी भी हो रहा है। इसकी एक बानगी कानपुर जिले में देखने को मिली, जहां दिव्यांग महिला से उसकी गुमशुदा नाबालिग बेटी को ढूंढने के लिये पुलिस ने अपने वाहन में डीजल भरवाने के लिए जबरन पैसे एैठ लिए। महिला द्वारा शिकायत करने और मामला उपर तक पहुंचने के बाद हालांकि वाहन में डीजन भरवाने वाले सनिगंवा पुलिस चौकी के प्रभारी को मंगलवार को निलंबित कर दिया गया है। लेकिन, सरकारी सिस्टम पर सवाल जरूर उठ गया है।
पुलिस उप महानिरीक्षक कानपुर प्रीतेंद्र सिंह ने बताया कि चौकी प्रभारी सब इंस्पेक्टर राजपाल सिंह को प्रथम दृष्टया दोषी पाते हुये उनके खिलाफ कार्रवाई की गयी है।

इसे भी पढें…पति बनाता था अप्राकृतिक यौन संबंध, नवविवाहिता पत्नी ने मांगा तलाक

उन्होंने बताया कि छावनी क्षेत्र के सहायक पुलिस अधीक्षक निखिल पाठक को इस मामले की जांच की जिम्मेदारी सौंपते हुये उनसे कहा गया कि मामले की विस्तृत जांच रिपोर्ट उनके समक्ष एक निर्धारित समय सीमा में पूरा कर प्रस्तुत करें। रिपोर्ट आ जाने के बाद चौकी प्रभारी के खिलाफ अग्रिम कार्यवाही की जायेंगी । पुलिस उप महानिरीक्षक ने बताया कि सोमवार को एक महिला ने उनसे शिकायत में दावा किया कि एक माह पूर्व उसके एक रिश्तेदार द्वारा कथित रूप से उसकी 15 साल की बेटी का अपहरण कर लिया गया था। चौकी प्रभारी राजपाल सिंह ने कहा कि वह पुलिस की गाड़ी में डीजल भरवा दें तो उसकी बेटी को ढूंढेंगे। महिला का आरोप है कि उसने अपने रिश्तेदारों से 10 से 15 हजार रूपये उधार मांग कर पुलिस को डीजल के लिये पैसे दिये।

इसे भी पढें…42 % लड़कियों को एक घंटे से कम मोबाइल फोन इस्तेमाल करने की अनुमति

इस मामले को गंभीरता से लेते हुये पुलिस उप महानिरीक्षक ने मामले की जांच के निर्देश दिये और प्रथम दृष्टया आरोप सही पाये गये। उन्होंने बताया कि सोमवार को सब इंस्पेक्टर राजपाल यादव को पुलिस चौकी से हटा कर पुलिस लाइन से संबद्ध कर दिया गया और मंगलवार को जांच रिपोर्ट आने के बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया। पुलिस अधीक्षक नगर शिवा जी ने बताया कि दिव्यांग महिला की 15 साल की बेटी को उसके किसी नजदीकी रिश्तेदार ने एक माह पहले अपहरण कर लिया था। महिला ने इस संबंध में चकेरी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई थी और सनिगंवा पुलिस चौकी के पुलिसर्किमयों के पास बेटी को ढूंढने के लिये गुहार लगा रही थी।महिला का आरोप है कि पुलिसर्किमयों को हजारों रूपये डीजल के लिये देने के बाद वह बेटी को ढूंढने के लिये तैयार हुये ।

Related Articles

epaper

Latest Articles