37.5 C
New Delhi
Monday, May 23, 2022

यूपी में SHO ने किया शर्मसार, पुलिस थाने में किया किशोरी से बलात्कार

लखनऊ /नेशनल ब्यूरो । उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले में सामूहिक बलात्कार की शिकायत करने थाने गई 13 साल की लड़की के साथ कथित रूप से दुष्कर्म करने के आरोपी थानाध्यक्ष सहित मामले के सभी छह आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। ललितपुर जिले के पाली थाने के थानाध्यक्ष व मुख्य आरोपी तिलकधारी सरोज को निलंबित कर दिया गया है जबकि थाने में घटना के वक्त तैनात अन्य पुलिसर्किमयों को लाइन हाजिर कर दिया गया है। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने घटना पर स्वत: संज्ञान लेते हुए प्रदेश के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी कर चार हफ्ते के अंदर रिपोर्ट देने को कहा है। प्रयागराज के अपर पुलिस महानिदेशक प्रेम प्रकाश ने बताया कि मुख्य आरोप निलंबित थानाध्यक्ष तिलकधारी सरोज को प्रयागराज में इलाहाबाद उ’च न्यायालय के नजदीक से गिरफ्तार किया गया। पुलिस सूत्रों ने बताया कि लड़की की मां का आरोप है कि 22 अप्रैल को चार लोग उसकी बेटी को भोपाल ले गए थे जहां उन्होंने तीन दिनों तक उसके साथ बलात्कार किया और बाद में उसे पाली थाने के बाहर छोड़कर भाग गए। उन्होंने बताया कि उस दिन थानाध्यक्ष तिलकधारी सरोज ने लड़की को उसकी मौसी को सौंप दिया लेकिन 27 अप्रैल बयान दर्ज करने के बहाने उसने किशोरी को थाने बुलाया और उसके साथ बलात्कार किया।

–सामुहिक बलात्कार की शिकायत करने आयी थी 13 साल की लड़की
– मुख्य आरोपी थानाध्यक्ष सहित छह लोग गिरफ्तार,पूरे थाने पर कारवाई
—विपक्षी दलों ने यूपी सरकार पर की घेरेबंदी, उठाए गंभीर सवाल

कानपुर जोन के अपर पुलिस महानिदेशक भानु भास्कर ने बताया कि आरोपी थानाध्यक्ष तिलकधारी सरोज को निलंबित कर दिया गया है और थाने में उस वक्त तैनात अन्य सभी पुलिसर्किमयों को लाइन हाजिर किया गया है। उन्होंने बताया कि घटना के संबंध में तितलधारी और किशोरी की मौसी सहित कुछ छह लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। भास्कर ने बताया कि झांसी के पुलिस उप महानिरीक्षक जोगेन्द्र कुमार को मामले की जांच कर 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट देने को कहा गया है। इस बीच विपक्षी दलों ने इस मामले को लेकर प्रदेश सरकार को घेरा है।

मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी (सपा) ने टवीट कर कहा, भाजपा सरकार में सबसे बड़ा सवाल यह है कि किस पर भरोसा किया जाए किस पर नहीं? ललितपुर में बलात्कार की शिकायत करने पहुंची नाबालिग से थाने में ही थानाध्यक्ष ने दङ्क्षरदगी (बलात्कार) की। अब सीएम (मुख्यमंत्री) बताएं पीडि़त बेटियां जाएं तो जाएं कहां? पीडि़ता की सुरक्षा का इंतजाम कर दोषियों को मिले कठोरतम सजा। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ललितपुर जाकर पीडि़त लड़की के परिजन से मुलाकात की। बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने भी घटना की कड़ी ङ्क्षनदा की है। उन्होंने टवीट किया है, ललितपुर के पाली थाने में पुलिस द्वारा की गई एक नाबालिग लड़की के साथ गैंगरेप (सामूहिक बलात्कार) की घटना अति शर्मनाक। सरकार इस मामले को गम्भीरता से लें तथा दोषियों के विरूद्ध सख्त कानूनी कार्यवाही करे। बसपा की यह मांग है। राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के सचिव अनिल दुबे ने इस घटना को प्रदेश की पुलिस पर एक बदनुमा दाग करार देते हुए इस घटना में शामिल सभी पुलिसर्किमयों को बर्खास्त करने की मांग की है। कांग्रेस महासचिव और पार्टी की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाद्रा ने भी सिलसिलेवार टवीट कर इस घटना पर सरकार का घेराव किया।

उन्होंने कहा, ललितपुर में एक 13 साल की बच्ची के साथ गैंगरेप (सामूहिक बलात्कार) और फिर शिकायत लेकर जाने पर थानेदार द्वारा बलात्कार की घटना दिखाती है कि बुलडोजर के शोर में कानून व्यवस्था के असल सुधारों को कैसे दबाया जा रहा है। अगर महिलाओं के लिए थाने ही सुरक्षित नहीं होंगे तो वो शिकायत लेकर जाएंगी कहां? राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने इस घटना का संज्ञान लेते हुए प्रदेश के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी कर चार हफ्ते के अंदर जवाब मांगा है। इस बीच, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने विपक्षी दलों से कहा कि वे आपराधिक मामलों का राजनीतिकरण न करें। उन्होंने कहा, पीडि़ता हमारी बेटी है और उसके साथ कुछ गलत हुआ है तो सरकार सख्त कार्रवाई करेगी और दोषी को किसी कीमत पर नहीं बख्शेगी। उन्होंने कहा, Þसरकार इस मामले को फास्ट ट्रैक अदालत में ले जाएगी और घटना में शामिल पुलिसर्किमयों के खिलाफ इतनी सख्त कार्रवाई होगी कि उनकी अगली पीढिय़ां तक कराह उठेंगी। उनके खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई होगी और किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा।

Related Articles

epaper

Latest Articles