spot_img
31.1 C
New Delhi
Friday, October 22, 2021
spot_img

160 पाक शरणार्थी नागरिकता के इंतजार में बैठे

-पाकिस्तान शरणार्थी हिन्दू व सिख परिवार नागरिकता के इंतजार 
–16 दिन में 60 परिवार दिल्ली पहुंचे, सरकार से की गुहार
–दिल्ली कमेटी अध्यक्ष सिरसा ने की गृहमंत्री अमित शाह से बात

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल: दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने गुरुद्वारा मजनू का टीला के दक्षिण छोर पर झुग्गी झोपड़ी में रह रहे पाकिस्तानी हिन्दू सिख शरणार्थीयों को तत्काल नागरिकता प्रदान करने का सरकार से अपील की है। इस बावत उन्होंने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मदद मांगी है।

सिरसा ने पाकिस्तान से आये हिन्दू सिख शरणार्थियों के साथ मुलाकात की। बाद में सभी मीडिया के समक्ष आकर अपनी बात रखी। उन्होंने बताया क फरवरी 2 से 16 फरवरी 2020 के बीच लगभग 60 परिवार पाकिस्तान से नई दिल्ली पहुंचे हैं, जबकि 10 शरणार्थी परिवार पिछले कल ही पाकिस्तान से नई दिल्ली आये हैं। इस समय लगभग 160 शरणार्थी परिवार भारतीय नागरिकता की आशा में दिल्ली में कठिन परिस्थितियों में अपना जीवन यापन कर रहे हैं।

शरणार्थी परिवारों के काफी सदस्य व्यवसायिक तौर पर कुशल पेशेवर हंै तथा वह अपनी सेवाओं के माध्यम से देश के विकास व अर्थव्यवस्था में अपना योगदान देना चाहते हैं। इनमें से ज्यादातर अपने संबंधित व्यवसायों में कार्य करते हुए अपनी नियमित जीवन शैली शुरु करना चाहते हैं। इस सिलसिले में गृहमंत्री अमित शाह से उनको प्राथमिकता के आधार पर नागरिकता प्रदान करने का अनुरोध किया।
सिरसा ने कहा कि इस संबंध में अमित शाह से चर्चा भी की है। साथ ही उनका सकारात्मक दृष्टिकोण है। सिरसा ने पाकिस्तान से आये हिन्दू सिख शरणार्थी परिवारों के युवक-युवतियों द्वारा भारतीय सेना तथा अर्धसैनिक बलों में अपनीे सेवाएं देने की रूचि जाहिर की है तांकि वह भारत माता की सेवा कर सकें व दुशमन पाकिस्तान को सीमा पर करारा जवाब दे सकें।

कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने पाकिस्तान से आये परिवारों की वीजा शर्तों में छूट देने का अनुरोध किया। साथ ही कहा कि इस समय उनकी वीजा शर्तों के अनुरूप वह मात्र दिल्ली या हरिद्वार में ही रह सकते हैं तथा उन्हें किसी भी अन्य स्थान पर जाने की अनुमति नहीं है। उन्होंने कहा कि इन परिवारों के सदस्यों को देश के विभिन्न हिस्सों में आने जाने की खुली छूट होनी चाहिए तांकि वह रोजगार शिक्षा, आदि के लिए देश के बाकी हिस्सों में बस सकें। इन परिवारों का एक शिष्टमंडल शीघ्र ही गृहमंत्री अमित शाह से मिलकर उन्हें नागरिकता संशोधन एक्ट के लिए धन्यवाद देगा, जिसकी वजह से उनका भारत में रहने का सपना साकार होगा।

दो महीनों में 53 हिंदू-सिख लड़कियों के साथ जबरदस्ती हुई

कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने बताया कि पाकिस्तान में पिछले दो महीनों में 53 हिन्दू सिख लड़कियों का अपहरण करके उनकी इच्छा के विरूद्ध जबरदस्ती विवाह करके उन्हें इस्लाम धर्म कबूल करने पर मजबूर किया गया है। कल ही सिंध प्रांत में 17 वर्षीय हिन्दू लड़की कोमल कुमारी का अपहरण किया गया है तथा उन्हें शक है कि उसका भी धर्म परिवर्तित करके जबरन शादी करवा दी जायेगी। उन्होंने कहा कि अंतराष्ट्रीय दबाव व अनेक मानवाधिकार संगठनों द्वारा पुरजोर कोशिश के बावजूद जगजीत कौर और महक कुमारी के जबरन धर्म परिवर्तन और शादी के मामलों में अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

Related Articles

epaper

Latest Articles