35.1 C
New Delhi
Sunday, May 26, 2024

गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूलों में मिलती है संस्कार के साथ शिक्षा, लें दाखिला

नई दिल्ली/ अदिति सिंह: दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (DSGMC)के अध्यक्ष सरदार हरमीत सिंह कालका (Harmeet Singh Kalka)और महासचिव सरदार जगदीप सिंह काहलों ने गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूलों में दाखिला के लिए सभी का आहृवान किया। साथ ही विद्यार्थियों के माता-पिता व स्टाफ को निमंत्रण दिया कि अपने-अपने इलाके से अधिक से अधिक बच्चों को गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूलों (Guru Harikrishna Public School)में दाखिला लेने के लिए प्रेरित करें। गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूलों में सामान्य शिक्षा के साथ-साथ गुरमति शिक्षा व संस्कारी विद्या भी पढ़ाई जाती है। इससे बच्चे गुरसिक्खी के साथ न केवल जुड़ते हैं बल्कि ज़िंदगी में सफल भी होते हैं।उन्होंने कहा कि कोरोना काल ने स्कूलों को बहुत नुकसान पहुंचाया है। स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या कम होने से स्कूल आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं।

—स्कूलों में दाखिले के लिए गुरुद्वारा कमेटी ने किया सभी का आहृवान
—कोरोना के चलते स्कूलों में गतिविधियां ठप हो गई थीं, पुनः शुरु हुईं
—गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूल तिलक नगर में फुलकारी कार्यक्रम आयोजित
—कोरोना के चलते स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या कम, आर्थिक संकट

कालका एवं काहलों दिल्ली के तिलक नगर स्थित गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूल में आयोजित फुलकारी फेस्ट 2023 कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे थे। इस मौके पर उन्होंने कहा कि कोरोना के चलते गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूलों में जो गतिविधियां बंद हो गई थीं वह सभी अब पुनः शुरु हो गई हैं।
सरदार कालका और सरदार काहलों ने कहा कि यदि स्कूलों में छात्रों की संख्या बढ़ेगी तो स्कूलों की आमदनी भी बढ़ेगी और वे आर्थिक संकट से उबर सकेंगे। उन्होंने फुलकारी कार्यक्रम आयोजित करने के लिए स्कूल के स्टाफ और छात्रों को भी बधाई दी और कहा कि इस तरह के कार्यक्रम आयोजित करने से बच्चों का सर्वांगीण विकास सुनिश्चित किया जा सकता है।
उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वजों ने गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूल इसलिए स्थापित किए थे ताकि हमारे बच्चे सामान्य शिक्षा के साथ-साथ गुरुमति शिक्षा प्राप्त कर सकें और एक बेहतर इंसान बनकर जीवन गुरु जीवन यापन कर सकें। फिर चाहे नृत्य की बात हो या अन्य गतिविधयां हों, अपनी मातृभाषा को बचाने की बात हो, ये सब यहां सिखाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यकों पर होने वाले हमलों से तभी बचा जा सकता है जब हम अपने बच्चों को कम उम्र से ही गुरमति विद्या क्या है, हमारे संस्कार क्या हैं, यह सिखाएंगे, तभी बच्चे गुरमति के साथ जुड़ेंगे।
इस मौके पर दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के उपाध्यक्ष आत्मा सिंह लुबाना, धर्म प्रचार कमेटी के प्रधान जसप्रीत सिंह करमसर, सर्वजीत सिंह विरक, मनजीत सिंह औलख, गुरदेव सिंह, दलजीत सिंह सरना, रमनजोत सिंह मीता, इंद्रप्रीत सिंह मोंटी, गुरदयाल सिंह, कंवलजीत सिंह डर्बी, रमनप्रीत सिंह थापर, अमरीक सिंह व दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के अन्य सदस्यों के साथ-साथ स्टाफ व बच्चों के अभिभावक उपस्थित रहे।

latest news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

epaper

Latest Articles