spot_img
8.1 C
New Delhi
Tuesday, January 25, 2022
spot_img

कोरोना से बिगड़ रहे हालात, प्रधानमंत्री मोदी ने संभाला मोर्चा, रहें सावधान!

spot_imgspot_img
Indradev shukla

नई दिल्ली /नेशनल ब्यूरो। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को देश में कोरोना महामारी की स्थिति की समीक्षा के लिए अधिकारियों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की। प्रधानमंत्री ने देश में कोविड-19 महामारी की स्थिति की समीक्षा बैठक में ओमिक्रॉन वैरिएंट के चलते बढ़ रहे कोविड मामलों के मद्देनजर तैयारियों पर विशेष ध्यान दिए जाने का निर्देश दिया। उन्होंने देश में कोविड-19 महामारी की स्थिति, स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे और लॉजिस्टिक को लेकर चल रही तैयारियों, देश में टीकाकरण अभियान की स्थिति और नए कोविड-19 वैरिएंट ओमिक्रॉन का आकलन करने पर विशेष जोर दिया। बैठक में स्वास्थ्य सचिव द्वारा वर्तमान में विश्व स्तर पर रिपोर्ट किए जा रहे मामलों में वृद्धि के बारे में एक विस्तृत रिपोर्ट भी पेश की। समीक्षा बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि निरंतर ‘जन आंदोलन’ महामारी के खिलाफ हमारी लड़ाई में महत्वपूर्ण कोविड-उपयुक्त व्यवहार पर केंद्रित है।

—पीएम ने बुलाई उच्च स्तरीय बैठक, किया कोरोना से निपटने पर मंथन
—जिला स्तर पर की जाएं तैयारियां, जल्द होगी मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जिला स्तर पर स्वास्थ्य ढांचे को तैयार करने का निर्देश दिया। साथ ही किशोरों के साथ-साथ सोमवार से शुरू हो रहे फ्रंटलाइन वर्कर, स्वास्थ्यकर्मी और 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को सतर्कता डोज लगाने के अभियान को मिशन मोड पर पूरा करने को कहा। पीएम मोदी ने जिला स्तर पर पर्याप्त स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे को सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने अधिकारियों से इस संबंध में राज्यों से समन्वय बनाए रखने को कहा। पीएम ने मिशन मोड में किशोरों के लिए वैक्सीन अभियान को और तेज करने का आग्रह किया। पीएम ने निर्देश दिया कि जिन जोन में ज्यादा मामले पाए जा रहे हैं वहां गहन नियंत्रण और सक्रिय निगरानी जारी रहनी चाहिए और वर्तमान में उच्च मामलों की रिपोर्ट करने वाले राज्यों को आवश्यक तकनीकी सहायता प्रदान की जानी चाहिए।
बता दें कि एक दिन में कोरोना के 1,59,632 नए मामले सामने आए हैं। यह बीते 224 दिन के दौरान आए सर्वाधिक दैनिक मामले हैं। पिछले साल 29 मई को कोरोना के 1,65,553 मामले आए थे। बीते 24 घंटे में संक्रमण से 327 लोगों की मौत हो गइ है जिससे महामारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 4,83,790 हो गई है। वहीं देश में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 5,90,611 हो गई है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्यों में हालात की समीक्षा के लिए जल्द ही मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाई जाएगी। बैठक में गृह मंत्री अमित शाह और स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया के साथ-साथ गृह, स्वास्थ्य, फार्मा व अन्य मंत्रालय के सचिव और वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। बैठक में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने देश-विदेश में ओमिक्रोन वैरिएंट के कारण कोरोना के बढ़ते मामलों की जानकारी दी। उन्होंने इस वैरिएंट की संक्रामकता और गंभीरता को लेकर दुनिया भर के अनुभवों को भी साझा किया। भूषण ने प्रधानमंत्री को बताया कि कोरोना पैकेज-दो के तहत राज्यों में स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत किया गया है। इसमें टेस्टिंग की क्षमता, आक्सीजन और आइसीयू बिस्तरों की उपलब्धता और जरूरी दवाइयों का स्टाक शामिल है। उन्होंने इसके बारे में राज्यवार विस्तृत ब्योरा भी पेश किया। इस पर प्रधानमंत्री ने जिला स्तर पर स्वास्थ्य ढांचे को तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयार करने और इसमें राज्यों की मदद करने का निर्देश दिया।
बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने केवल सात दिन के भीतर 31 प्रतिशत किशोरों को टीके की पहली डोज लगाने की तारीफ करते हुए इसे मिशन मोड पर जल्द से जल्द पूरा करने को कहा। तीन जनवरी से 15 से 18 साल के बीच के किशोरों का टीकाकरण शुरू हुआ था और अब तक करीब ढाई करोड़ डोज उन्हें लगाई जा चुकी है। प्रधानमंत्री ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में स्वास्थ्यकर्मियों, और फ्रंटलाइन वर्कर की भूमिका की तारीफ की और सोमवार से शुरू होने जा रहे सतर्कता डोज को भी मिशन मोड पर पूरा करने को कहा। प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना के नए वैरिएंट को देखते हुए टेस्टिंग, वैक्सीन और इलाज के क्षेत्र में लगातार नए वैज्ञानिक शोध की जरूरत बताई। इसके साथ ही जीनोम सीक्वेंसिंग का दायरा बढ़ाने को कहा ताकि नए वैरिएंट की तत्काल पहचान की जा सके।
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले दो साल से चल रही कोरोना महामारी के बीच सामान्य बीमारियों के इलाज पर ध्यान देने की जरूरत बताया। साथ ही कहा कि इसके लिए पर्याप्त बंदोबस्त होना चाहिए। उन्होंने ग्रामीण और दूरदराज के इलाकों में स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं में मदद करने के लिए टेलीमेडिसीन का इस्तेमाल करने को कहा। उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से इन इलाके के लोगों को आसानी से बेतहर मदद पहुंचाई जा सकती है।

ओमिक्रोन के 552 नए मामले आए

Indradev shukla

इस बीच ओमिक्रोन के 552 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद देश कोविड के इस नए वैरिएंट से संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 3,623 हो गई है। ओमिक्रोन के 3,623 मामलों में से 1,409 लोग या तो स्वस्थ हो गए हैं या देश से बाहर चले गए हैं। महाराष्ट्र में ओमि‍क्रोन के सबसे ज्‍यादा 1,009 मामले सामने आ चुके हैं। इसके बाद दिल्ली का नंबर है जहां 513 मामले सामने आए हैं। वहीं कर्नाटक में 441, राजस्थान में 373, केरल में 333 और गुजरात में 204 मामले सामने आए हैं।

फरवरी की शुरुआत में चरम पर होगी तीसरी लहर

भारतीय विज्ञान संस्थान और भारतीय सांख्यिकी संस्थान के वैज्ञानिकों का आकलन है जनवरी के अंत या फरवरी की शुरुआत में तीसरी लहर चरम पर होगी। इस दौरान देश में हर रोज कोरोना के 10 लाख तक नए मामले मिल सकते हैं। वैज्ञानिकों का यह भी कहना है कि महाराष्ट्र सबसे बुरी तरह प्रभावित हो सकता है। महाराष्‍ट्र में हर रोज कोरोना के 1,75,000 मामले मिल सकते हैं। देश के विभिन्‍न राज्यों में तीसरी लहर का चरम अलग अलग समय पर हो सकता है।

spot_imgspot_imgspot_img

Related Articles

epaper

spot_img

Latest Articles

spot_img