37.5 C
New Delhi
Monday, May 23, 2022

बंगाल के बीरभूम की घटना को लेकर BJP हुई आक्रामक, CM ममता पर घेरेबंदी

नई दिल्ली /नेशनल ब्यूरो : पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में घटित घटना को लेकर सियासत तेज हो गई है। भारतीय जनता पार्टी पूरी तरह से आक्रामक हो गई है और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर घेरेबंदी करते हुए हमला बोला है। साथ ही घटना की निष्पक्ष जांच के लिए सीबीआई जांच की मांग की। इस मसले को लेकर पश्चिम बंगाल के भाजपा सांसदों का एक प्रतिनिधिमंडल केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलकर बीरभूम घटना से उन्हें अवगत कराया है। केंद्र सरकार घटनाओं को लेकर सख्त और गंभीर हो गई है। गृहमंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल सरकार से 72 घंटे के भीतर इस घटना की विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। साथ ही, उन्होंने प्रदेश के मुख्य सचिव से भी बात की है। घटनाक्रम की जांच के लिए जल्द ही एक प्रतिनिधिमंडल पश्चिम बंगाल की कानून-व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा करने के लिए वहां जाएगा। भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने मंगलवार को पूरे घटनाक्रम के लिए पांच सदस्यीय समिति का गठन किया है।

–गृहमंत्री अमित शाह ने 72 घंटे में मांगी घटना की विस्तृत रिपोर्ट
-बंगाल भाजपा के सांसदों ने शाह से की मुलाकात, सौंपा ज्ञापन
-भाजपा ने घटना की जांच के लिए बनाई 5 सदस्यीय कमेटी
-घटना की सीबीआई जांच की मांग, तुरंत इस्तीफा दें ममता बनर्जी : भाजपा

कमेटी घटना स्थल पर जाकर तथ्यों की जानकारी एकत्रित कर अपनी रिपोर्ट शीघ्र राष्ट्रीय अध्यक्ष को सौंपेगी।
कमेटी में यूपी के पूर्व डीजीपी एवं राज्यसभा सांसद बृजलाल, पूर्व पुलिस आयुक्त मुबंई एवं लोकसभा सांसद सत्यपाल सिंह, पूर्व आईपीएस एवं राज्यसभा सांसद केसी राममूर्ति, बंगाल के प्रदेश अध्यक्ष एवं लोकसभा सांसद सुकांतो मजूमदार, पूर्व आईपीएस एवं राष्ट्रीय प्रवक्ता भारती घोष को रखा गया है।

इस बीच भारतीय जनता पार्टी ने ममता बनर्जी से अपने पद से इस्तीफा मांग लिया है। साथ ही बीरभूम घटना की सीबीआई द्वारा निष्पक्ष जांच हो, ताकि घटना की सत्यता सामने आ सके। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव भाटिया, सांसद एवं पश्चिम बंगाल प्रदेश महासचिव लॉकेट चटर्जी ने ममता बनर्जी सरकार को आड़े हाथों लिया। साथ ही कहा कि पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में कल रात एक टीएमसी नेता की हत्या के बाद जो हुआ, वो शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता। वो बेहद दु:खद और चिंताजनक हैं। पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। बंगाल में सबसे ज्यादा अपराध वो लोग करते हैं, जिन्हें वहां की सत्तारूढ़ ममता बनर्जी का राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है।

इन असामाजिक तत्वों ने कल रात 10-12 घरों के बाहर दरवाजे पर ताला लगा दिया ताकि उन घरों में जब आग लगाई जाए, तो उन घरों में रहने वाले निर्दोष लोग भाग न पाएं। अब तक 10 लोगों की मौतें हुई हैं, जिसमें महिलाएं और छोटे छोटे बच्चे भी शामिल हैं। एक ही घर से 7 शव निकाले गए हैं। वहां अराजकता ऐसी कि जब फायर ब्रिगेड की टीम आग पर नियंत्रण पाने के लिए घटना स्थल पर पहुंची तो उन्हें कुछ स्थानीय लोगों ने आग बुझाने से भी रोका।
भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश में जिस प्रकार लोगों के घर जलाये जा रहे हैं, निर्दोष लोगों की नृशंस हत्याएं हो रही हैं, ऐसी स्थिति में राज्य की कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी किसकी है? क्या पश्चिम बंगाल में इंसान की जान की कोई कीमत नहीं है? पश्चिम बंगाल में लोगों पर बम ऐसे फेंके जाते हैं कि बम कोई खिलौना हो। उन्होंने कहा कि सबसे दुखद बात है कि जो असामाजिक तत्व इस प्रकार की घटनाओं को अंजाम देते हैं, उन्हें सजा मिलनी तो दूर की बात, आम जनता को यह सन्देश दिया जाता है कि ये लोग टीएमसी के ही हैं, इनसे डर के रहना, अगर विरोध करने की हिम्मत की तो तुम्हारे घर जला दिए जाएंगे, नृशंस हत्या की जायेगी। अब यह स्पष्ट हो गया है कि इंसाफ की तराजू पर टीएमसी के गुंडे भारी पड़ रहे हैं।


भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में जो घटना घटी वह बहुत दुखद है। 2 मई के बाद पूरे देश ने देखा कि विधानसभा चुनाव के बाद हुई हिंसा में तृणमूल कांग्रेस द्वारा भाजपा के 100 के आसपास कार्यकर्ताओं की हत्या की गई। पूरा पश्चिम बंगाल आज बारूद के ढेर पर बैठा है। हम सबको पुराना कश्मीर याद है। लेकिन, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आने के बाद कश्मीर कैसे बदल गया और कितना सुंदर हो गया है ये भी हम सबने देखा है। परंतु अब पश्चिम बंगाल पुराने कश्मीर की तरह बनता जा रहा है। भाजपा सांसद ने कहा कि बीरभूम की घटना पर लीपापोती करने के लिए ममता बनर्जी ने एसआईटी के गठन की घोषणा की है।

Related Articles

epaper

Latest Articles