spot_img
27.1 C
New Delhi
Wednesday, September 29, 2021
spot_img

CISCE : कक्षा 10वीं में दिल्ली-NCR के शत प्रतिशत लड़के-लड़कियां उत्तीर्ण

12वीं कक्षा की परीक्षा में 99.93 प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए

नयी दिल्ली/ मोक्षिता : सीआईएससीई (CISCE) कक्षा 10वीं की परीक्षा में दिल्ली-एनसीआर के 100 प्रतिशत लड़के और लड़कियां उत्तीर्ण हुई हैं जबकि 12वीं कक्षा की परीक्षा में 99.93 प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए। काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल र्सिटफिकेट एग्जामिनेशन (CISCE) के परीक्षा परिणाम शनिवार को घोषित किए गए हैं। सीआईएससीई ने इस साल कोविड-19 की घातक दूसरी लहर को देखते हुए 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं रद्द कर दी थी। परिणाम बोर्ड द्वारा तय की गई वैकल्पिक मूल्यांकन नीति पर तैयार किए गए हैं । दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) के 48 स्कूलों के विद्यार्थियों को 10वीं कक्षा के लिए ‘इंडियन र्सिटफिकेट ऑफ सकेंडरी एजुकेशन (ICSE) की परीक्षा देनी थी, जबकि 37 स्कूल के विद्यार्थियों के 12वीं कक्षा के लिए ‘इंडियन स्कूल र्सिटफिकेट (ISE) की परीक्षा देनी थी। सीआईएससीई के मुख्य कार्यकारी एवं सचिव गेरी अराथून ने कहा, यह साल पूरे देश के लिए अत्यंत मुश्किल भरा रहा है, जिसमें कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर कहर बरपा रही है और जिंदगी के हर पहलू, खासकर शिक्षण क्षेत्र को प्रभावित कर रही है।

यह भी पढें…भारत की बेटी चानू ने रचा इतिहास, जीता देश का दिल, रचा ​इतिहास

उन्होंने कहा, सीआईएससीई ने गंभीर संकट और सभी बाधाओं और मुश्किल परिस्थितियों के बावजूद, दो कक्षाओं के परीक्षा परिणाम तैयार किए और उन्हें सारणीबद्ध किया है। दिल्ली-एनसीआर से कक्षा 10वीं के लिए कुल 5463 विद्यार्थी थे जिनमें से 53.35 प्रतिशत लड़के थे और 26.75 लड़कियां थी जबकि 12वीं कक्षा के लिए कुल 2,811 विद्यार्थी थे जिनमें से 50.44 प्रतिशत लड़के और 49.56 प्रतिशत लड़कियां थीं। कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों के मूल्यांकन के मापदंडों में शैक्षणिक वर्ष 2019-20 और 2020-21 के दौरान क्रमश: कक्षा 11वीं और 12वीं में विषयों में हासिल औसत अंकों के आधार पर अंक देना शामिल है। साथ में, इस कक्षा के अंतिम परिणाम की गणना करने में कक्षा 10वीं में अंग्रेजी और सर्वश्रेष्ठ चार विषयों के औसत अंक और 12वीं कक्षा के दौरान परियोजना और प्रायोगिक परीक्षा में हासिल अंकों पर भी विचार किया गया है। वहीं कक्षा 10वीं के परिणाम को विद्यार्थी द्वारा कक्षा नौंवी और 10वीं में विभिन्न परिक्षाओं और टेस्टों में हासिल औसत अंकों के अलावा परियोजना एवं प्रायोगिक कार्य समेत आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर सारणीबद्ध किया गया है।

Related Articles

epaper

Latest Articles