35 C
New Delhi
Sunday, May 22, 2022

कांग्रेस एवं सपा में हिन्दुओं के खिलाफ घृणा फैलाने की चल रही प्रतिस्पर्धा

नई दिल्ली /अदिति सिंह : भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने उत्तर प्रदेश में कांग्रेस और सपा के बीच हिन्दुओं के खिलाफ घृणा फैलाने की चल रही प्रतिस्पर्धा पर जमकर निशाना साधा है। साथ ही आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच प्रतिस्पर्धा चल रही है कि हिंदुओं के खिलाफ ज्यादा घृणा कौन उगल सकता है, और हिंदुओं के खिलाफ बोलने वालों को कौन सी पार्टी प्रश्रय दे सकती है। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ संबित पात्रा ने कहा कि कल कांग्रेस के यूपी प्रदेश अध्यक्ष की मौजूदगी में इत्तेहाद मिल्लत काउंसिल (आईएमसी) के अध्यक्ष मौलाना तौकीर रजा खान ने कांग्रेस को अपना समर्थन दिया।

–भाजपा ने दोनों दलों पर लगाए आरोप, प्रत्याशियों पर उठाए गंभीर सवाल
–यूपी में कांग्रेस-सपा हिंदू समाज को अपमानित कर रही : भाजपा

कांग्रेस पार्टी के अधिकारिक ट्विटर हैंडल ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा के साथ मौलाना तौकीर रजा खान की तस्वीर साझा करते हुए लिखा है, बीते दिनों आला हजरत बरेली शरीफ के मौलाना तौकीर रजा खां साहब की कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी से मुलाकत हुई थी। मौलाना तौकीर रजा खां ने उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में अपनी पार्टी से चुनाव ना लड़ाने का फैसला करते हुए उन्होंने अपनी पार्टी का पूरा समर्थन कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवारों को दिया है। पांचों राज्य में हो रहे चुनाव में भी उन्होंने अपने समर्थकों को कांग्रेस के समर्थन के लिए कहा है। डॉ पात्रा ने कहा कि चंद दिनों पहले, मीडिया ने इन्हीं मौलाना का वीडियो सार्वजनिक किया था, जिसमें वो हिंदुओं के खिलाफ जहर उगल रहे थे। वे कह रहे थे कि अगर कानून व्यवस्था उनके जवानों के हाथ में आ जाए तो हिंदुओं को हिंदुस्तान में रहने की जगह तक नहीं मिलेगी। वे ये भी कहते नजर आए कि हिंदुस्तान का नक्शा तक बदल देंगे। डॉ पात्रा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि हिंदुस्तान का नक्शा बदलने वाले लोग, जिन लोगों के मंसूबों में इस प्रकार का जहर भरा है कि वे हिंदुस्तान का नक्शा बदलना चाहते हैं, कानून व्यवस्था पलटना चाहते हैं। ऐसे लोगों से समर्थन लेना कांग्रेस पार्टी के लिए कोई नई बात नहीं है। उन्होंने कहा कि ये वही तौकीर रजा खान हैं, जिन्होंने सीएए का विरोध करते हुए कहा था हम तो अल्लाह वाले हैं, हम चाहेंगे तो खून की नदियां बहा देंगे। इस प्रकार की बदजुबानी करने वालों के साथ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी न सिर्फ खड़ी होती है बल्कि उनसे समर्थन प्राप्त करने का गुहार करती हैं और उन्हें ऐसे लोगों से समर्थन मिल भी जाता है।
डॉ पात्रा ने कहा कि समाजवादी पार्टी भी इस प्रकार की प्रतिस्पर्धा में जोर शोर से लगी है। कैराना से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी नाहिद हसन के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी ने आवाज उठाई थी, आज वो जेल में हैं। ये वही नाहिद हसन हैं, जिसने हिंदुओं के खिलाफ जहर उगला था और कैराना से हिंदुओं के पलायन के लिये जिम्मेदार थे। ये वही नाहिद हसन हैं जिन्होंने कहा था हिन्दुओं की दुकान और हिन्दू व्यापारियों से किसी प्रकार से संबंध नहीं रखना है। अगर हिन्दुओं से सामान खरीदना बंद कर देंगे तो उनके पास कैराना से पलायन के सिवाय और कोई विकल्प नहीं बचेगा। समाजवादी पार्टी ने इसी नाहिद हसन को अपना प्रत्याशी बनाया था। मेरठ से समाजवादी प्रत्याशी रफीक अंसारी किस प्रकार घृणा फ़ैलाने की बात करते रहे हैं और किस प्रकार के मामले उनके खिलाफ लंबित थे, यह सर्वविदित है। सपा के धौलाना प्रत्याशी हैं असलम चौधरी। दो समुदायों के बीच लगातार जहर उगलना, दो समुदायों को किस प्रकार से दंगों में झोंकना असलम चौधरी का काम रहा है। असलम चौधरी को भी समाजवादी पार्टी ने प्रमोट किया है। मोहर्रम अली पप्पू को समाजवादी पार्टी द्वारा टिकट दिया गया है और ये सहारनपुर गुरुद्वारा हिंसा के मास्टरमाइंड है। गुरुद्वारे में किस प्रकार से हिंसा करवाई थी मोहर्रम अली ने सभी ने देखा है।
भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि स्पष्ट होता है कि चाहे कांग्रेस के तौकीर रजा खान हो अथवा सपा का नाहिद हसन, इस रेडिकल सिंडिकेट का उद्देश्य एकमात्र यही है, किस प्रकार से दंगे भड़काना, हिन्दुओं को डराना, हिन्दुओं को बांटना तथा केवल और केवल अपने परिवार की राजनीति को आगे बढ़ाना।

राजनीतिक दल घृणा की राजनीति को आगे बढ़ा रहे

डॉ पात्रा ने कहा कि कुछ राजनीतिक दल घृणा की राजनीति को आगे बढ़ा रहे है। उसकी पराकाष्ठा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ जिस प्रकार के घृणित शब्द प्रयुक्त हो रहे हैं और जिस प्रकार का प्रयोग पंजाब में हुआ, वह गलत था। कल महाराष्ट्र में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री के लिए जिस प्रकार अपशब्दों का प्रयोग किया है, उन्हें दोहराया भी नहीं जा सकता। कांग्रेस पार्टी के बड़े बड़े नेता जिस प्रकार से जहर उगल रहे हैं, उससे स्पष्ट है कि पंजाब में प्रधानमंत्री की सुरक्षा में जो चुक हुई, वो प्रयोग था, संयोग नहीं।

Related Articles

epaper

Latest Articles