30 C
New Delhi
Sunday, March 7, 2021

राष्ट्रपति, उपराष्ट्रति, प्रधानमंत्री ने वाजपेयी को किया याद, दी श्रद्धांजलि

–वाजपेयी की जयंती पर उनके स्मारक सदैव अटल पर प्रार्थना सभा आयोजित
–राजनाथ सिंह, अमित शाह सहित शीर्ष कैबिनेट ने राजघाट पहुंची
— ‘संसद में अटल बिहारी वाजपेयी: एक स्मृति खंड नामक पुस्तक का विमोचन
–संसद में आप सांसदों ने पीएम के सामने की नारेबाजी, कहा- वापस हो कृषि कानून

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल: राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी समेत कई नेताओं ने भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि दी। इसको लेकर दिल्ली के राजघाट स्थित वाजपेयी के स्मारक सदैव अटल पर प्रार्थना सभा आयोजित की गई। इसमें राष्ट्रपति कोविन्द और प्रधानमंत्री मोदी के अलावा रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, गृहमंत्री अमित शाह, वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, हरदीप सिंह पुरी, नरेंद्र सिंह तोमर सहित शीर्ष केंद्रीय मंत्री भी स्मारक पर प्रार्थना सभा में मौजूद थे। बाद में प्रधानमंत्री मोदी ने एक ट्वीट में कहा कि वाजपेयी के दूरदर्शी नेतृत्व ने देश को विकास की अभूतपूर्व ऊंचाइयों पर पहुंचाया। उन्होंने कहा, पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को उनकी जन्म-जयंती पर शत-शत नमन। एक सशक्त और समृद्ध भारत के निर्माण के लिए उनके प्रयासों को सदैव स्मरण किया जाएगा।

उपराष्ट्रपति वैकेया नायडू ने कहा, अटल जी के विराट व्यक्तित्व, ओजस्वी वाणी, उनके द्वारा स्थापित मर्यादाओं, उनके स्नेहिल आत्मीय मार्गदर्शन को याद करता हूं। उनकी पावन स्मृति को सादर नमन करता हूं। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा अटल जी के विचार और देश की प्रगति के लिए उनका समर्पण हमें सदैव राष्ट्रसेवा के लिए शक्ति देते रहेंगे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा समेत अन्य लोगों ने भी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी। बता दें कि वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर 1924 को हुआ था। वह जनसंघ और भाजपा के संस्थापक सदस्य थे।

इस बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को संसद के केंद्रीय कक्ष में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और स्वतंत्रता सेनानी एवं शिक्षाविद पंडित मदन मोहन मालवीय की प्रतिमाओं पर पुष्पांजलि अॢपत कर उन्हें उनकी जयंती के अवसर पर श्रद्धांजलि दी। मोदी ने इस अवसर पर ‘संसद में अटल बिहारी वाजपेयी: एक स्मृति खंड नामक पुस्तक का विमोचन भी किया। इस मौके पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह, लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान और आम आदमी पार्टी (आप) सहित कुछ अन्य दलों के सांसद भी उपस्थित थे।

पुस्तक के विमोचन के तुरंत बाद आप सांसदों संजय सिंह और भगवंत मान ने तीन केंद्रीय कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की मांग को लेकर नारेबाजी की। जब ये सांसद नारेबाजी कर रहे थे उस वक्त प्रधानमंत्री मोदी, आजाद और चौधरी सहित कुछ अन्य नेताओं से बात कर रहे थे। लोकसभा सचिवालय द्वारा प्रकाशित पुस्तक में वाजपेयी के जीवन पर प्रकाश डालने सहित संसद में उनके द्वारा दिए उल्लेखनीय भाषण भी शामिल किए गए हैं। इस पुस्तक में उनके सार्वजनिक जीवन से जुड़ी कुछ दुर्लभ तस्वीरें भी हैं।
बता दें कि वाजपेयी को वर्ष 2015 में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। इससे पूर्व 1992 में उन्हें पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया गया था। वर्ष 1994 में उन्हें पं. गोविंद बल्लभ पंत उत्कृष्ट सांसद पुरस्कार प्रदान किया गया।

Related Articles

epaper

Latest Articles