spot_img
15.1 C
New Delhi
Wednesday, January 26, 2022
spot_img

देश को आत्मनिर्भर बनाने में महिलाओं की भूमिका होगी अहम : प्रधानमंत्री

spot_imgspot_img

—उज्ज्वला योजना से महिलाओं का जीवन रोशन हुआ: प्रधानमंत्री
—प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूपी के महोबा में उज्ज्वला 2.0 का शुभारंभ किया

Indradev shukla

(खुशबू पाण्डेय)
नई दिल्ली/ महोबा : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को महिला सशक्तिकरण पर बल देते हुए कहा कि अगले 25 सालों में देश को आत्मनिर्भर बनाने में महिलाओं की भूमिका अहम होगी। प्रधानमंत्री मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए महोबा में उज्जवला योजना के दूसरे चरण का शुभारंभ करने के अवसर पर कहा कि राष्ट्र निर्माण में महिलाओं के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने उपलब्धियों के अनेक कीर्तिमान स्थापित किए लेकिन आजादी के साथ दशक बाद भी उनकी स्थिति खराब बनी रही। एनडीए सरकार ने आधी आबादी के महत्व के मद्देनजर महिलाओं से जुड़ी योजनाओं को मिशन मोड पर लेकर कार्य किया। उन्होंने कहा कि 5 साल में उज्ज्वला योजना में पूरे देश की आठ करोड़ महिलाओं को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन प्रदान कर धुआं रहित ईंधन से जोड़ा गया है। स्वाधीनता की 50 वीं वर्षगांठ पर इन दिनों देश में चल रहे आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम और भाई-बहन के पवित्र प्रेम के प्रतीक रक्षाबंधन के त्यौहार पर सरकार ने उज्ज्वला का शुभारंभ करके उन एक करोड़ परिवारों की महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन का तोहफा देने का लक्ष्य तय किया है जो इसे हासिल कर पाने में अभी तक वंचित रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज महोबा कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री ने उज्ज्वला के लाभार्थियों से बातचीत भी की।

Indradev shukla

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें रक्षाबंधन से पहले यूपी की बहनों को संबोधित करते हुए बहुत खुशी हो रही है। उन्होंने कहा कि उज्ज्वला योजना से जिन लोगों का जीवन रोशन हुआ है, उनकी संख्या अभूतपूर्व है और इनमें बड़ी संख्या महिलाओं की हैं। यह योजना, 2016 में यूपी के बलिया, स्वतंत्रता संग्राम के प्रणेता मंगल पांडे की भूमि से शुरू की गई थी। उन्होंने कहा कि आज उज्ज्वला का दूसरा संस्करण भी यूपी की वीरभूमि-महोबा से शुरू किया गया है। उन्होंने बुंदेलखंड की धरती के एक और सपूत मेजर ध्यान चंद या दद्दा ध्यान चंद का स्मरण किया। उन्होंने कहा कि देश के सर्वोच्च खेल पुरस्कार का नाम अब मेजर ध्यान चंद खेल रत्न पुरस्कार हो गया है। उन्होंने कहा कि इससे उन लाखों लोगों को प्रेरणा मिलेगी, जो खेल में आगे बढ़ना चाहते हैं। प्रधानमंत्री ने इस बात पर अफसोस व्यक्त किया कि घर, बिजली, पानी, शौचालय, गैस, सड़क, अस्पताल और स्कूल ऐसी अनेक मूल आवश्यकताएं है जिनकी पूर्ति के लिए देशवासियों को दशकों तक इंतजार करना पड़ा। ऐसी कई चीजों को दशकों पहले देशवासियों को सुलभ कराया जा सकता था।

उन्होंने कहा कि हमारी बेटियां घर और रसोई से बाहर निकलकर राष्ट्र निर्माण में व्यापक योगदान तभी दे पाएंगी, जब पहले घर और रसोई से जुड़ी समस्याएं हल होंगी। इसलिए बीते 6-7 सालों में सरकार ने ऐसे हर समाधान के लिए मिशन मोड पर काम किया है। उन्होंने ऐसी कई उपलब्धियां गिनाईं जैसे कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत देश भर में करोड़ों शौचालय बनवाए जा रहे हैं; गरीब परिवारों के लिए 2 करोड़ से भी अधिक घर, इनमें से ज्यादातर महिलाओं के नाम पर; ग्रामीण सड़कें; 3 करोड़ परिवारों को मिला बिजली कनेक्शन; आयुष्मान भारत के तहत 50 करोड़ लोगों को 5 लाख रुपये तक के चिकित्सा उपचार के लिए कवर दिया जा रहा है; मातृ वंदना योजना के तहत गर्भावस्था के दौरान टीकाकरण एवं पोषण के लिए प्रत्यक्ष धन अंतरण; कोरोना काल में महिलाओं के जन धन खातों में सरकार द्वारा 30 हजार करोड़ रुपये जमा किए गए; जल जीवन मिशन के तहत हमारी बहनों को पाइप से जल मिल रहा है। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं से महिलाओं के जीवन में व्यापक बदलाव आया है।

बहनों के सशक्तिकरण के संकल्प को उज्ज्वला योजना ने बहुत बड़ा बल दिया

प्रधानमंत्री ने कहा कि बहनों के स्वास्थ्य, सुविधा और सशक्तिकरण के इस संकल्प को उज्ज्वला योजना ने बहुत बड़ा बल दिया है। योजना के पहले चरण में 8 करोड़ गरीब, दलित, वंचित, पिछड़े, आदिवासी परिवारों की बहनों को मुफ्त गैस कनेक्शन दिया गया। उन्होंने कहा कि इस मुफ्त गैस कनेक्शन का कितना लाभ हुआ है, ये हमने कोरोना काल में देखा है। उज्ज्वला योजना से एलपीजी गैस के बुनियादी ढांचे का कई गुना विस्तार सुनिश्चित हुआ है। पिछले 6-7 वर्षों के दौरान 11 हजार से भी अधिक एलपीजी वितरण केंद्र खोले गए हैं। उत्तर प्रदेश में इन केंद्रों की संख्या वर्ष 2014 के 2 हजार से बढ़कर 4 हजार हो गई है।

मजदूरों को निवास प्रमाण-पत्र के लिए भटकने की जरूरत नहीं

प्रधानमंत्री ने कहा कि हम शत-प्रतिशत गैस कवरेज के बहुत करीब हैं क्योंकि वर्ष 2014 में कुल जितने गैस कनेक्शन थे उससे कहीं अधिक गैस कनेक्शन पिछले 7 वर्षों के दौरान दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि बुंदेलखंड सहित पूरे उत्तर प्रदेश और अन्य राज्यों से कई लोग काम के लिए गांव से शहर या दूसरे राज्यों में चले गए। वहां उन्हें निवास प्रमाण-पत्र की समस्या का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि उज्ज्वला 2.0 योजना ऐसे ही लाखों परिवारों को सबसे अधिक राहत पहुंचाएगी। उन्होंने कहा कि अब अन्य जगहों से आए इन मजदूरों को निवास प्रमाण-पत्र के लिए दर-दर भटकने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार को प्रवासी मजदूरों की ईमानदारी पर पूरा भरोसा है। गैस कनेक्शन प्राप्त करने के लिए आपको सिर्फ अपने पते के बारे में खुद लिखकर देना होगा।

spot_imgspot_imgspot_img

Related Articles

epaper

spot_img

Latest Articles

spot_img