spot_img
17.1 C
New Delhi
Tuesday, December 7, 2021
spot_img

DSGMC में हो रही है आर्थिक गड़बडी, निगरानी के लिए नियुक्त हो फाइनेंशियल रिसीवर

spot_imgspot_img

-परमजीत सिंह सरना ने दिल्ली के उपराज्यपाल को लिखा पत्र
–सरना का दावा, कार्यवाहक कमेटी ले रही है बड़े-बड़े फैसले
–रिसीवर नियुक्त होने से पकड़ी जा सकेंगी आर्थिक गड़बडिय़ां

Indradev shukla

नई दिल्ली /अदिति सिंह : दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के पूर्व अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना ने दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखकर दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में आर्थिक हालातों पर पारदर्षिता लाने के लिए फाइनेंशियल रिसीवर नियुक्त करने की मांग की है। सरना ने दावा किया कि कार्यवाहक कमेटी प्रबंधन के लोग सिर्फ रोजमर्रा के कामकाज ही संचालित कर सकते हैं, लेकिन वर्तमान प्रबंधन लाखों रुपये की खरीद फरोख्त कर रहा है। इसके अलावा कई आर्थिक गड़बडिय़ां भी हो रही है, लिहाजा इसकी देखभाल के लिए एक सरकारी अधिकारी की नियुक्ति आवश्यक हो गई है।
सरना के मुताबिक दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के आम चुनाव 25 अगस्त को हुए थे। दो महीने बीतने के बाद भी नई डीएसजीएमसी कमेटी अपने स्थायी रूप में नहीं आयी है। कई सदस्यों के गुरुमुखी टेस्ट में फेल होने से सदस्यता जाने का खतरा मंडरा रहा है। मामला कोर्ट के अधर में लटका है, जिसको लेकर सदस्य अपना दांव-पेंच लगाने में जुटे हैं।
इस पूरे मामले को लेकर शिरोमणि अकाली दल दिल्ली के प्रधान परमजीत सिंह सरना ने चिंता जाहिर की और अपने पार्टी सदस्यों के साथ मंथन बैठक भी की। बैठक में शिअदद के सहयोगी दल, जागो और अकाली लहर ने भी हिस्सा लिया। बैठक के बाद तीन पूर्व अध्यक्षों परमजीत सिंह सरना, हरविंदर सिंह सरना और मंजीत सिंह जीके ने दिल्ली के गवर्नर से भी मिलने की इच्छा जाहिर की है, जिससे पूरे मामले पर अवगत कराया जा सके।

कमेटी के फंड का दुरुपयोग कर रहे हैं सिरसा : सरना 

सरना ने कहा कि कमेटी के कार्यवाहक अध्यक्ष मनजिंदर सिरसा पंजाबी बाग सीट से चुनाव हार चुके हैं। साथ ही एसजीपीसी की ओर से नामित होने के बाद गुरुमुखी टेस्ट में अयोग्य घोषित हुए हैं। ऐसे में उन्हें तुरंत कमेटी छोड़ देनी चाहिए। लेकिन वह कमेटी पर काबिज हैं और कमेटी के फंड का दुरुपयोग कर रहे हैं। सरना ने आरोप लगाया कि उन्हें जानकारी मिली है कि शिरोमणि अकाली दल बादल के लोग कमेटी से पंजाब पैसा भेज रहे हैं। सदस्यों को महंगी गाडिय़ां दी जा रही हैं। यह सब कमेटी का भारी नुकसान कर रहे हैं। सरना ने दावा किया कि उपराज्यपाल से मांग की है कि मामले को संज्ञान में लेते हुए एक रिसीवर नियुक्त किया जाए, ताकि कमेटी में पारदर्षिता आ सके।

साफ-सुथरा कमिटी बनाने की मुहिम में जुडऩे के लिए सबसे निवेदन

Indradev shukla

शिरोमणि अकाली दल दिल्ली के अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना ने डीएसजीएमसी के अंदर के वर्तमान राजनीतिकरण पर चिंता जाहिर की, और उसको साफ-सुथरा बनाने की मुहिम में जुडऩे के लिए सबसे निवेदन किया। सरना का मानना है की जब तक बादल दल के लोगों को हटाया नहीं जाता, पारदर्शिता आना मुश्किल है और इसके लिए रिसीवर की नियुक्ति अति-आवश्यक है जब तक नई कमिटी गठित नहीं हो जाती।
बता दें कि दिल्ली कमेटी के कार्यवाहक अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने बुधवार को दिल्ली में एक पंथक सम्मेलन बुलाकर परमजीत सिंह सरना एवं जागो पार्टी के अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके पर हल्ला बोला था। साथ ही दावा किया था कि सरना कमेटी में सरकारी अधिकारी नियुक्त करवाना चाह रहे हैं, जिसे वह कभी पूरा नहीं होने देंगे।

spot_imgspot_imgspot_img

Related Articles

epaper

spot_img

Latest Articles

spot_img