spot_img
29.1 C
New Delhi
Wednesday, June 16, 2021
spot_img

विवादो में घिरी दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी, सिरसा और कालका को पंथ से निकालने की मांग की

  • गुरुद्वारा कमेटी के वरिष्ठ सदस्य गुरमीत शंटी ने अकाल तख्त को लिखी चिटठी

  • अमिताभ बच्चन से 2 करोड़ रुपये लेने का मामला तूल पकड़ा

  • घिरी गुरुद्वारा कमेटी, चौतरफा विरोध शुरू, कमेटी ने साधी चुप्पी

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल: गुरुद्वारा श्री रकाबगंगज परिसर में खुले कोविड केयर सेंटर (Covid Care Center) के लिए अभिनेता अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) से 2 करोड़ रुपये लेने के मामले में दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी (Delhi gurudwara committee) घिर गई है। इसको लेकर कमेटी प्रबंधन के खिलाफ चौतरफा विरोध शुरू हो गया है। अब गुरुद्वारा कमेटी के सदस्य भी सवाल उठाने लगे हैं। कमेटी के पूर्व महासचिव एवं वरिष्ठ सदस्य गुरमीत सिंह शंटी (Gurmeet Singh Shunty) ने श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह (Harpreet Singh) को पत्र लिखकर कमेटी अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा (Manjinder Singh Sirsa) और महासचिव हरमीत सिंह कालका (Harmeet Singh Kalka) को पंथ से निकालने की मांग की है।

गुरमीत शंटी ने अमिताभ बच्चन के 1984 सिख दंगों में शामिल होने का किया दावा

गुरमीत शंटी (Gurmeet Singh Shunty) ने अपने पत्र में अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) के 1984 सिख दंगों में शामिल होने का दावा करते हुए अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) की शह पर दिल्ली में दंगों होने की बात कही है। शंटी ने पत्र में लिखा है कि सिखों के खून से भीगे हाथों वाले अमिताभ बच्चन से 2 करोड़ रुपये गुरु घर में दान के रूप में स्वीकार करना किसी बड़ी साजिश की ओर इशारा है। क्योंकि, इसी तरह से पहले भी बादल दल ने अकाल तख्त साहिब से डेरा सिरसा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim) को माफी दिलवाई थी। लेकिन सिख संगतों के भारी विरोध के बाद माफी वापिस ले ली गई थी।

सिख दंगों की पीडि़त निरप्रीत कौर ने अकाल तख्त को पत्र लिखकर कही ये बात

अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) के मामले में भी सिख संगत अपना विरोध सोशल मीडिया पर दर्ज करा रही है। बता दें कि इससे पहले 1984 सिख दंगों की पीडि़त निरप्रीत कौर (Nirpreet kaur) ने अकाल तख्त को पत्र लिखकर अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) से लिए पैसे वापस दिल्ली कमेटी से दिलवाने की मांग की थी।

सिख नरसंहार के शहीदों की हो रही बेअदबी को रोका जाए

खालसा एैड के रवि सिंह और निरप्रीत कौर ने इस मामले को प्रमुखता से उठाया है। लेकिन, कमेटी अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने सोशल मीडिया पर अमिताभ बच्चन की तारीफ इसलिए की है, ताकि सिख नरसंहार में अमिताभ बच्चन की भूमिका को भूल जाएं। इसलिए श्री अकाल तख्त साहिब की जिम्मेदारी बनती है कि सिरसा और कालका को तुरंत पंथ से निकाला जाए। साथ ही सिख नरसंहार के शहीदों की हो रही बेअदबी को रोका जा सके।

हरमीत कालका ने कहा विरोध करने वालों के पास कोई काम नहीं इसलिए वह विरोध कर रहे हैं

शंटी ने अपने पत्र में उम्मीद जताई है कि जत्थेदार हरप्रीत सिंह ज्ञानी इस पत्र को मेरे पहले के पत्रों की तरह कूडे की टोकरी में ना फेंककर इस पर गंभीरता से विचार करके कार्रवाई करेंगे। ताकि भविष्य में कोई कातिलों का पक्ष लेने की हिम्मत ना कर सके। इस संबंध में कमेटी प्रबंधन से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन कोई औपचारिक प्रतिक्रिया नहीं मिली है। एक दिन पहले कमेटी महासचिव हरमीत कालका ने कहा था कि विरोध करने वालों के पास कोई काम नहीं है इसलिए वह विरोध कर रहे हैं। उनका तो पहला मकसद लोगों की जान बचाना है।

Related Articles

epaper

Latest Articles