spot_img
29.1 C
New Delhi
Monday, August 2, 2021
spot_img

रिटायर्ड लेखपाल चलाता था कुकर्म की फैक्ट्री, 320 पोर्न वीडियो बरामद

–रिटायर लेखपाल रामबिहारी ने 50 से ज्यादा बच्चों के साथ की हैवानियत
–तीन और नाबालिगों ने वीरवार को दर्ज कराई रिपोर्ट
–कोतवाली के चंद फल्लांग पर चलता रहा नेटवर्क
–आरोपी के घर से हार्ड डिक्स, लैपटॉप और डीवीआर बरामद
–रिटायर्ड लेखपाल के घर से करीब 320 पोर्न वीडियो बरामद

लखनऊ/ टीम डिजिटल : ऊत्तर प्रदेश के उरई जिले में मासूम बच्चों के साथ हैवानियत कर उनके वीडियो बनाने वाले रिटायर लेखपाल रामबिहारी के कुकर्मो का दायरा जांच के साथ बढ़ता जा रहा है। बुधवार को शुरुआती जांच में पता चला था कि उसने 36 बच्चों संग हैवानियत की। गुरुवार शाम तक पुलिस और खुफिया एजेंसियों की जांच में यह संख्या 50 से ज्यादा हो गई है। इनमें से 18 बच्चों की शिनाख्त भी पुलिस ने कर ली है। हालांकि तीन नए शिनाख्त वाले बच्चों के साथ कुल 11 बच्चों की पहचान की बात ही पुलिस अभी स्वीकार कर रही है। उधर जांच में लगाई गई झांसी की फोरेंसिक टीम ने बुधवार देर रात रामबिहारी के घर से बरामद लैपटॅप, मोबाइल और हार्ड डिस्क कब्जे में ले ली। इसकी जांच में तमाम राज खुल रहे हैं, जिन्हें अभी सार्वजनिक नहीं किया गया है। फॉरेंसिक टीम को अब तक आरोपी के घर से हार्ड डिक्स, लैपटॉप और डीवीआर बरामद हुआ है जिसमें करीब 320 पोर्न वीडियो बरामद हुए हैं।
झांसी की फोरेंसिक टीम के प्रभारी शिवशंकर की निगरानी में लैपटॉप आदि की जांच की जा रही है। सूत्रों का कहना है कि इनमें रामबिहारी की तमाम घिनौनी हरकतें कैद हैं। एक-एक बच्चे के कई-कई वीडियो होने की तस्दीक हुई है। इससे यह भी साफ हो गया है कि एक बार नशा देने के बाद वह वीडियो की धमकी देकर उन बच्चों को आने पर मजबूर कर देता था। इन वीडियो के जरिए पुलिस रामबिहारी के मददगारों को तलाशने की कोशिश भी कर रही है। इस दिशा में कुछ सुराग मिले हैं। सूत्रों का कहना है कि इस लिस्ट में कुछ ऐसे प्रभावशाली लोग हो सकते हैं, जिन पर पुलिस सीधा हाथ डालने से कतरा रही है। इसलिए अभी तक किसी से पूछताछ नहीं हुई है।
हैवानियत के शिकार हुए बच्चों में से जिन 18 तक पुलिस अभी पहुंची है, उनमें भी सबके बयान नहीं हुए हैं। शुरुआती शिकायत करने वाले दो के अलावा कुछ बच्चों से पुलिस ने बात की है। उन्होंने रामबिहारी की हैवानियत की पुष्टि की है। बाकी बच्चों से भी पुलिस बयान लेगी।
अब तक की जांच में पुलिस को रामबिहारी के किसी मददगार का पता नहीं चला है। उसके शिकार बने तीन और बच्चों की पहचान कर ली गई है। बच्चों और उनके घरवालों से पुलिस ने संपर्क किया है। जल्द वह तहरीर देंगे। अगर वह किसी कारणवश तहरीर नहीं देते हैं, तो भी पुलिस के पास पर्याप्त साक्ष्य हैं। मौके से मिले हर सबूत व फुटेज को जांच में शामिल किया जाएगा। अगर कोई इस काम में उसका मददगार पाया गया तो उसे बख्शा नहीं जाएगा, भले ही वह कितना भी रसूखदार हो।
रामबिहारी कोतवाली से महज आधा किमी दूर बच्चों के शोषण का बड़ा नेटवर्क चलाता रहा लेकिन भनक नहीं लगा। पुलिस का सूचना तंत्र फेल रहा। इलाके में इसकी भी जबरदस्त चर्चा है। कहा जा रहा है कि रसूखदारों के संपर्क में रहने वाले रामबिहारी की तमाम शिकायतें थीं। वह आए दिन किसी न किसी विवाद में रहता था पर या तो पुलिस ने कभी इसे गंभीरता से नहीं लिया, या फिर पुलिस जान बूझकर आंखें बंद किए रही।

JE रामभवन 50 से अधिक बच्चों के यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार

इससे पहले बांदा में भी सिंचाई विभाग का एक जूनियर इंजीनियर रामभवन 50 से अधिक बच्चों के यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार हो चुका है। उसे 16 नवंबर को सीबीआई ने चित्रकूट स्थित उसके घर से गिरफ्तार किया था। इस प्रकरण में गुरुवार को एम्स के डॉक्टरों की टीम सीबीआई के साथ चित्रकूट पहुंची है। टीम पीड़ित बच्चों का मेडिकल करेगी। टीम में दो महिला और तीन पुरुष डॉक्टर शामिल हैं। सीबीआई ने अब तक 25 से ज्यादा बच्चों को चिन्हित किया है। जिनका लगातार दो दिनों तक मेडिकल टेस्ट होगा। मेडिकल के दौरान अहम सबूत जुटाए जाएंगे।

Related Articles

epaper

Latest Articles