7 C
New Delhi
Wednesday, January 27, 2021

दिल्ली के सिखों ने नकारा खालिस्तान के लिए ‘जनमत संग्रह’

सिखों ने देश को तोडऩे वाली अलगाववादी शक्तियों को नकारा
–सिख फॉर जस्टिस के दिल्ली को खालिस्तान बनाने का दावा फुस्स
–गुरुद्वारों में प्रबंधन और पुलिस की सख्ती से नहीं हुआ अरदास समागम
–बंगला साहिब व शीशगंज गुरुद्वारे में खास निगरानी

नई दिल्ली /टीम डिजिटल : सिख फॉर जस्टिस द्वारा दिल्ली को खालिस्तान बनाने के किए गए दावे के बीच रविवार को जनमत संग्रह करवाने की उनकी मुहिम फुस्स हो गई। गुरुद्वारा बंगला साहिब और गुरुद्वारा शीशगंज साहिब में कमेटी प्रबंधन, दिल्ली पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों के सतर्क रहने के कारण कोई भी खालिस्तान समर्थक रेफरेंडम- 2020 की मुहिम को शुरू करने की हिम्मत नहीं जुटा पाया। हालांकि, अमरीका बैठे सिख फॉर जस्टिस के समर्थकों के द्वारा कुछ वीडियो और फोटो को काट छांटकर यह दिखाने की कोशिश की गई कि गुरुद्वारा बंगला साहिब के लंगर हाल के बाहर रेफरेंडम-2020 केे समर्थन में पोस्टर लगे हैं और सिख उसका समर्थन कर रहे हैं। लेकिन, जल्द ही सोशल मीडिया के ट्वीटर पर उसके फोटो वीडियो नकली होने के भी पोस्ट चल गई। जिससे सिख फॉर जस्टिस के दावों की हवा निकल गई। इसके साथ ही पंजाब के बाद हरियाणा और दिल्ली में भी सिख फॉर जस्टिस को समर्थन ना मिलने से यह तय हो गया है कि भारत का सिख अपने देश के साथ खड़ा है, और देश को तोडऩे वाली अलगाववादी शक्तियों को दिल्ली के सिखों ने नकार दिया है। सूत्रों के मुताबिक रविवार को दोनों गुरुद्वारा बंगला साहिब में सादी वर्दी में पुलिस और कमेटी के सेवादार पूरी चौकसी के साथ हर आने जाने वालों पर नजर रख रहे थे। यहां तक कि कमेटी ने अशोका रोड पर बंगला साहिब की दीवार पर अपने स्टाफ की खास डयूटी लगाई हुई थी। ताकि, कोई खालिस्तान समर्थक पोस्टर ना लगा सके। गुरुद्वारा बंगला साहिब के चेयरमैन परमजीत सिंह चंडोक के मुताबिक सब शांति पूर्वक रहा। संगत आती जाती रही, लेकिन किसी को वहां रुकने नहीं दिया गया। सिख फॉर जस्टिस के दावे हवा हवाई निकले। प्रशासन ने बहुत अच्छा साथ दिया, किसी भी संगत को असुविधा भी नहीं हुई।

भारत के साथ हैं दिल्ली के सिख : मंजीत

रेफरेंडम-20 20 का सबसे पहले विरोध करने वाले धार्मिक पार्टी जागो के अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके ने कहा कि गुर पतवंत सिंह पन्नू को अब सच्चाई देख लेनी चाहिए, कि दिल्ली का सिख किसके साथ है। वो पाकिस्तान समर्थित आईएसआई का ऐजेंट बनकर भारत को जो तोडऩे का सपना देखना चाहता है वह दिल्ली के सिख पूरा नहीं होने देंगे। जीके ने ही तीन दिन पूर्व पाकिस्तानी दूतावात के बाहर रेफरेंडम 2020 का विरोध करते हुए प्रदर्शन भी किया था।

देश की भावना के साथ जुड़ा है सिख : सिरसा

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि सिख देश की भावना के साथ जुड़ा है। देशभर से लोगों ने उन्हें फोन कर कहा कि इस मसले को लेकर किसी भी तरह का देश विरोधी ताकतों को सपोर्ट नहीं होना चाहिए। उन्होंने वही किया जो दिल्ली और देश के सिख चाहते हैं। दिल्ली के गुरुद्वारों में माहौल नहीं बिगडऩा चाहिए और ना ही तनाव होना चाहिए, इसकी पूरी कोशिश की गई।

Related Articles

Stay Connected

21,422FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles