41.8 C
New Delhi
Sunday, May 19, 2024

महिलाओं पर हैं केंद्रित हैं गहलोत सरकार की कई योजनाएं

जयपुर/ कल्याण कुमार । राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार की विभिन्न योजनायें महिला केन्द्रित हैं, जो उनके सर्वांगीण विकास के लिए प्रतिबद्धता का परिचायक है। राज्य के विकास तथा सुशासन में महिलाओं की भागीदारी अधिक से अधिक हो, राज्य सरकार यह सुनिश्चित कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले तीन वर्षो में महिला और बालिकाओं के कल्याण के लिये राज्य सरकार द्वारा बजट में 52 घोषणाएं की गई है। गहलोत ने शुक्रवार को महिला समानता दिवस पर महिलाओं की सामाजिक और आॢथक उन्नति के लिए महिला निधि का लोकार्पण किया। इससे महिलाओं को रोजमर्रा की आवश्यकताओं के अलावा व्यवसाय को बढ़ाने व उद्यमिता के लिए सुलभ ऋण उपलब्ध हो सकेगा।

—तीन वर्षो में महिला और बालिकाओं के कल्याण के लिये 52 घोषणाएं की गई

मुख्यमंत्री ने कहा कि बजट 2022-23 में महिला निधि की स्थापना राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद के माध्यम से करने की घोषणा की थी। तेलंगाना के बाद राजस्थान देश का दूसरा राज्य है, जहां महिला निधि की स्थापना की गई है। उन्होंने कहा कि महिला स्वयं सहायता समूह को मजबूत बनाने, बैकों से ऋण दिलाने, गरीब, सम्पत्तिहीन और सीमांत महिलाओं की आय बढ़ाने व कौशल विकास कर महिलाओं की सामाजिक और आॢथक उन्नति के लिए महिला निधि की स्थापना की गई है। उन्होंने कहा कि इस योजना के अंतर्गत 40,000 रुपये तक के ऋण 48 घंटे में एवं 40,000 रुपये से अधिक के ऋण 15 दिवस की समय सीमा में आवेदित सदस्यों के समूह के बैंक खाते में जमा हो जाएंगे।

महिलाओं पर हैं केंद्रित हैं गहलोत सरकार की कई योजनाएं

गहलोत ने कहा कि वर्तमान में राज्य के 33 जिलों में दो लाख 70 हजार स्वयं सहायता समूहों का गठन किया जा चुका है, जिसमें 30 लाख परिवार जुड़े हुए हैं। वित्तीय वर्ष 2022-23 में 50 हजार स्वयं सहायता समूहों का गठन किया जाना प्रस्तावित है, जिनमें लगभग 6 लाख परिवारों को जोड़ा जाएगा। राज्य में कुल 36 लाख परिवारों को उनकी आवश्यकताओं के आधार पर चरणबद्ध तरीके से राजस्थान महिला निधि से लाभ मिलेगा। गहलोत ने महिला समानता दिवस पर आयोजित राज्य स्तरीय समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार प्रदेश की महिलाओं एवं बालिकाओं को सुरक्षा प्रदान करने, उन्हें आत्मरक्षा की दष्टि से मजबूत बनाने तथा अपने अधिकारों और कानूनों के बारे में सजग करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने इस अवसर पर 6 जिलों के 386 स्वयं सहायता समूहों की सदस्यों को एक करोड़ 42 लाख रूपये की राशि राजस्थान महिला निधि से ऋण के रूप में प्रदान की। उन्होंने राजीविका कम्यूनिटी कैडर की 8 महिलाओं को भी पुरस्कृत किया। गहलोत ने कहा कि शिक्षा क्षेत्र में राजस्थान नए कीॢतमान स्थापित कर रहा है। इसी का सफल परिणाम है कि आज उच्च शिक्षा में लड़कों से ज्यादा लड़कियां प्रवेश ले रही हैं। कार्यक्रम में अमेजान के साथ उत्पादों के आनलाइन विक्रय के लिए एमओयू करार किया गया। इससे 15,000 से अधिक महिला उद्यमियों और स्वयं सहायता समूहों द्वारा बनाए गए उत्पादों को ऑनलाइन मार्केटप्लेस पर सूचीबद्ध किया जाएगा और देश भर के लाखों अमेजन ग्राहकों को उपलब्ध कराया जाएगा।

 

latest news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

epaper

Latest Articles