spot_img
20.1 C
New Delhi
Monday, October 25, 2021
spot_img

गुरुद्वारों, मंदिरों सहित सभी धार्मिक स्थलों पर मास्क हो अनिवार्य

–भाजपा के राष्ट्रीय सचिव आरपी सिंह ने सभी धार्मिक स्थानों से की अपील
–पंजाब के गुरुद्वारों में मास्क नहीं है अनिवार्य, फैल रहा है संक्रमण
–सभी राज्य सरकारों से भी लगाई गुहार, मास्क करें अनिवार्य

नई दिल्ली / टीम डिजिटल : भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय सचिव सरदार आरपी सिंह ने दिल्ली सहित देशभर के मंदिर, गुरुद्वारों सहित सभी धार्मिक स्थलों में श्रद्वालुओं के प्रवेश पर मास्क अनिवार्य करने की अपील की है। साथ ही इस बावत स्थानीय राज्य सरकारों एवं धार्मिक स्थानों के प्रमुखों से सख्ती करने को कहा है। दरअसल आरपी सिंह के भाई और तख्त श्री पटना साहिब कमेटी के सदस्य सुरिंदर सिंह रुमाले वाले का कोरोना से निधन हो गया है। रुमाले वाले चीफ खालसा दीवान के अवैतनिक सचिव भी थे और श्री दरबार साहिब अमृतसर में रोजाना सुबह सवैये पढ़ते थे। बताया जा रहा है कि श्री दरबार साहिब अमृतसर में मत्था टेकने जाने वाले श्रद्वालुओं के लिए मास्क लगाना अनिवार्य नहीं है। जिस वजह से रोजाना श्री दरबार साहिब जाने वाले रुमाले वाले को कोरोना होने की आशंका व्यक्त की जा रही है। इसी बात पर चिंता जताते हुए सरदार आरपी सिंह ने सभी धार्मिक संस्थानों में प्रवेश से पहले मास्क अनिवार्य करने की बात कही है। हालांकि, दिल्ली के सभी गुरुद्वारों में दाखिल होने से पहले बाकायदा सैनेटाइज कराया जाता है, और बिना मास्क के संगतों को दाखिल नहीं होने दिया जाता है।

साथ ही सिर पर बांधने वाला रूमाल भी अब गुरुद्वारों से नहीं मिलते हैं, वह भी सभी श्रद्वालुओं को घर से लाने जरूरी है। इसलिए संक्रमण को रोकने के लिए श्री दरबार साहिब में भी एहतियात बरता जाना जरूरी है। अब देखना होगा कि शिरोमणि कमेटी आरपी सिंह की इस मुहिम पर क्या फैसला लेती है। इस बावत आरपी सिंह ने शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल और शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष गोविंद ङ्क्षसह लोंगोवाल को भी अपील की है। इसके अलावा दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा सहित सभी धार्मिक स्थलों के अध्यक्षों, महंतों को भी अपील की है। बता दें कि सुरिंदर सिंह रुमाले वाले पिछले लगभग 50 साल से दरबार साहिब सुबह सवैये पढ़ते थे। श्री गुरु ग्रंथ साहिब के प्रकाश से पहले सवैये पढऩे की परंपरा गुरु काल से चली आ रही है।
कोरोना संक्रमण के चलते दिल्ली के गुरुद्वारों के लंगर हाल भी फिलहाल बंद हैं क्योंकि लंगर बांटने के दौरान कोरोना के संक्रमण का खतरा हो सकता है। हालांकि कढ़ा प्रसाद बांटा जा रहा है लेकिन उसके लिए भी एहतियात बरती जा रही है। प्रसाद बांट रहे सेवादारों ने हाथ में दस्ताना लगा रखा है ताकि किसी भी संगत को केाई संक्रमण फैलने का खतरा ना रहे।

Related Articles

epaper

Latest Articles