26 C
New Delhi
Saturday, April 10, 2021

भारतीय रेलवे ने आइसोलेशन कोच में बदले 2500 कोच

भारतीय रेलवे ने बेहद कम समय में  हासिल किया शुरुआती आधा लक्ष्य
-आपात स्थिति के लिए तैयार हुए 4000 आइसोलेशन बिस्तर
–रोजाना औसतन 375 कोच में किया गया बदलाव

नई दिल्ली / टीम डिजिटल : भारतीय रेलवे ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए अपनी पूरी ताकत और संसाधन लगा दिए हैं। रेलवे ने बहुत कम समय में अपने 5,000 कोच को आइसोलेशन (एकांत) कोच में तब्दील करने के शुरुआती लक्ष्य में 2,500 कोच के साथ आधा लक्ष्य हासिल कर लिया है।
लॉक डाउन के दौर में जब कार्यबल संबंधी संसाधन सीमित बने हुए हैं और उनका समझ-बूझ से इस्तेमाल किया जाना जरूरी है, बावजूद इसके रेलवे के विभिन्न मंडल कार्यालयों ने इतने कम समय में असंभव से लग रहे इस कार्य को लगभग पूरा कर लिया है। लगभग 2,500 कोचों में बदलाव के साथ अब 4,000 आइसोलेशन बेड आपात स्थिति के लिए तैयार हैं।

रेलवे प्रवक्ता की माने तो एक बार नमूने को जैसे ही मंजूरी मिली, मंडल रेलवे कार्यालयों ने तेजी से बदलाव का काम शुरू कर दिया था। भारतीय रेलवे के रोजाना औसतन 375 कोचों में बदलाव किया जा रहा है। देश के 133 स्थानों पर यह काम किया जा रहा है। प्रवक्ता के मुताबिक पूर्व में जारी किए गए चिकित्सा परामर्शों के तहत इन कोचों में सभी सुविधाएं हैं।

जरूरतों और नियमों के तहत सर्वश्रेष्ठ विश्राम और चिकित्सा निगरानी सुनिश्चित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। बता दें कि कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा किए जा रहे प्रयासों के पूरक के तौर पर इन आइसोलेशन कोचों को सिर्फ आपात स्थिति के लिए तैयार किया जा रहा है।

Related Articles

epaper

Latest Articles