35.7 C
New Delhi
Sunday, April 21, 2024

PM मोदी ने कहा, दंड वाली नियुक्ति की धारणा को आकांक्षी नियुक्ति में बदला

नई दिल्ली /खुशबू पाण्डेय । प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी (Narendra Modi) ने आज नई दिल्ली के भारत मंडपम में आकांक्षी जिलो के लिए सप्ताह भर चलने वाले एक विशिष्ट कार्यक्रम संकल्प सप्ताह (resolution week) का शुभारंभ किया। प्रधानमंत्री मोदी ने इस अवसर पर आकांक्षी ब्लॉक कार्यक्रम पोर्टल का शुभारंभ भी किया और प्रदर्शनी का उदघाटन भी किया। प्रधानमंत्री ने तीन ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों से भी बातचीत की। उत्तरप्रदेश के बरेली में बाहेरी से अध्यापिका  रंजना अग्रवाल से बात करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने उनके ब्लॉक मे आयोजित चितंन शिविर के दौरान सबसे प्रभावशाली विचार के संबंध में जानकारी प्राप्त की। सुश्री रंजना अग्रवाल ने ब्लॉक में सर्वांगीण विकास कार्यक्रम का उल्लेख किया और सभी हितधारकों के सरकारी योजनाओं को जन आंदोलन में बदलने के लिए एक मंच पर आने के महत्व पर प्रकाश डाला।

— आकांक्षी ब्लॉकों पर चलने वाले कार्यक्रम संकल्प सप्ताह का शुभांरभ
—आकांक्षी ब्लॉक कार्यक्रम पोर्टल का शुभारंभ
—112आकांक्षी जिले अब प्रेरक जिले बन गए

प्रधानमंत्री ने स्कूलों में शिक्षा परिणामों में सुधार लाने के लिए बदलावों को लागू करने के संबंध में जानकारी ली। सुश्री अग्रवाल ने परंपरागत शिक्षण प्रणाली के स्थान पर गतिविधियों पर आधारित शिक्षण को अपनाने का उल्लेख किया और बाल सभा,संगीत की कक्षाओं,खेलों और शारीरिक प्रशिक्षण आदि आयोजित करने का उदाहरण दिया। उन्होंने स्मार्ट क्लॉसरुम और शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए प्रौद्योगिकी के प्रयोग का उल्लेख भी किया। उन्होंने अपने जिले के सभी 2,500 विद्यालयों में स्मार्ट क्लासरुम की उपलब्धता के संबंध में भी सूचित किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि विकसित भारत की एक प्रमुख जरुरत बच्चों को दी जाने वाली शिक्षा की गुणवत्ता होगी। उन्होंने कहा कि वो शिक्षकों की निष्ठा और सहभागिता से अभिभूत हैं। यह “समर्पण से सिद्धि” का मार्ग है।

जम्मू कश्मीर में पूंछ के मनकोट से सहायक पशु शल्य चिकित्सक डॉ. साजिद अहमद ने प्रवासी जनजातीय पशुओं के समक्ष आने वाली समस्याओं के संबंध में बारे में बताया और प्रवास के दौरान होने वाली समस्याओं और नुकसान को कम करने के उपायों पर जानकारी दी। उन्होने प्रधानमंत्री को अपने व्यक्तिगत अनुभवों को भी साझा किया । प्रधानमंत्री ने विद्यालयी शिक्षा और जमीनी अनुभव में अंतर के संबंध में जानकारी ली। डॉ. साजिद ने क्लॉसरुम में उपेक्षित की गई मजबूत स्थानीय नस्लों के बारे में बताया। प्रधानमंत्री को खुरपका रोग(फुट एंड माउथ) के लिए टीकाकरण कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी गई थी और उन्हें क्षेत्र में बड़े स्तर पर टीकाकरण संबंधी जानकारी दी गई। प्रधानमंत्री ने क्षेत्र के गुर्जरों के साथ अपनी निकटता का वर्णन किया,जो उन्हें हमेशा कच्छ के निवासियों की याद दिलाते हैं।

मेघालय में रेसूबेलपारा नग(गारो क्षेत्र) के कनिष्ठ ग्रामीण विकास अधिकारी श्री माइकेचार्ड चे मोमिन से बातचीत करते हुए पीएम मोदी ने क्षेत्र में बेहद खराब मौसम के दौरान होने वाली समस्याओं के समाधान के बारे में पूछा। श्री मोमिन ने आवश्यक वस्तुओं का स्टॉक करने के लिए प्रारंभिक आदेश जारी करने और प्रगति की निगरानी के लिए एक टीम बनाने का उल्लेख किया। जीवन की सुगमता में सुधार के लिए पीएम-आवास (ग्रामीण) में क्षेत्रीय डिजाइन और मालिक-संचालित निर्माण की शुरूआत से आउटपुट की गुणवत्ता में आए बदलावों के बारे में प्रधानमंत्री की पूछताछ पर, श्री मोमिन ने सकारात्मक जवाब दिया। प्रधानमंत्री के क्षेत्र में काजू के उत्पादन और विपणन के संबंध में पूछने पर श्री मोमिन ने कहा कि क्षेत्र में उत्पादित होने वाले काजू देश में सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता के हैं और इसका उत्पादन बढ़ाने के लिए मनरेगा और स्वंय-सहायता समूहों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। श्री मोमिन ने प्रधानमंत्री से क्षेत्र में काजू प्रसंस्करण की अधिक इकाईयों स्थापित करने का अनुरोध भी किया। प्रधानमंत्री श्री मोदी क्षेत्र में जागरुकता बढ़ाने के लिए संगीत की लोकप्रियता से भी प्रभावित हुए। प्रधानमंत्री ने आकांक्षी ब्लॉक और जिला कार्यक्रम में ग्राम पंचायतों की अहम भूमिका पर भी जोर डाला।

सभा को संबोधित करते हुए, प्रधान मंत्री ने आयोजन स्थल – भारत मंडपम और कार्यक्रम से उन लोगों का उल्लेख किया जो दूर-दराज के क्षेत्रों में विकास का ध्यान रख रहे हैं। उन्होंने कहा, यह सरकार की सोच का संकेत है कि इस तरह का जमावड़ा जी20 शिखर सम्मेलन स्थल पर हो रहा है, जहां एक महीने पहले ही विश्व मामलों की दिशा तय करने वाले लोग एकत्र हुए थे। प्रधानमंत्री ने जमीनी स्तर पर बदलाव लाने वालों का स्वागत किया। श्री मोदी ने जोर देकर कहा, “मेरे लिए यह सभा जी20 से कम नहीं है।”

उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम टीम भारत और सबका प्रयास की भावना की सफलता का प्रतीक है। यह कार्यक्रम भारत के भविष्य के लिए महत्वपूर्ण है तथा ‘संकल्प से सिद्धि’ इसमें निहित है।

प्रधानमंत्री   मोदी ने कहा कि स्वतंत्र भारत के किसी भी शीर्ष 10 कार्यक्रमों में आकांक्षी जिला कार्यक्रम का नाम सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा। आकांक्षी जिला कार्यक्रम ने 112 जिलों में लोगों को जीवन में बदलाव किया है। इस कार्यक्रम की सफलता ने आकांक्षी ब्लॉक कार्यक्रम की नींव रखी है और इस कार्यक्रम को विश्व भर से सराहना मिली है। प्रधानमंत्री ने कहा कि आकांक्षी जिला कार्यक्रम की बड़े स्तर पर सफलता प्राप्त करना सुनिश्चित है क्योंकि यह योजना ना सिर्फ अभूतपूर्व है बल्कि इसके लिए कार्य कर रहे लोग असाधारण हैं।

देश के सभी भागों और क्षेत्रों का ध्यान रखा जाना चाहिए

आकांक्षी जिला कार्यक्रम के 5 वर्ष पूरे होने पर प्रधानमंत्री ने कार्यक्रम के तीसरे पक्ष के मूल्यांकन पर प्रसन्नता व्यक्त की। प्रधानमंत्री ने कार्यक्रम की सरल रणनीति का उल्लेख करते हुए कहा कि ये शासन के चुनौतीपूर्ण कार्यों को पूरा करने के लिए सबक हैं। समग्र विकास के महत्व पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के सभी भागों और क्षेत्रों का ध्यान रखा जाना चाहिए। “सर्वसमावेशी विकास का अभाव, सभी तक पहुंच बनाना, सभी को लाभ पहुंचाना संख्यात्मक विकास तो दिखा सकता है लेकिन बुनियादी विकास नहीं होता है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हम हर जमीनी स्तर के पैरामीटर को कवर करते हुए आगे बढ़ें।

देश में ऐसे 100 ब्लॉकों की पहचान करने को कहा

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर उपस्थित विभागों के सचिवों से दो नई दिशाओं – हर राज्य का तेजी से विकास और पिछड़े जिलों की मदद – पर काम करने का आग्रह किया। उन्होंने उनसे देश में ऐसे 100 ब्लॉकों की पहचान करने को कहा जो उनके संबंधित विभागों में पिछड़ रहे हैं तथा उनकी स्थितियों में सुधार लाने की दिशा में काम करने को कहा। उन्होंने जोर देकर कहा कि जब 100 चिन्हित ब्लॉक देश के औसत से ऊपर चले जाएंगे तो विकास के सभी मानक बदल जाएंगे। उन्होंने सुझाव दिया कि केंद्र के सभी विभाग उन ब्लॉकों के विकास पर जोर दें जिनमें सुधार की गुंजाइश है। राज्य सरकारों की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए, प्रधान मंत्री ने 100 सबसे पिछड़े गांवों की पहचान करने और उन्हें सुधारने के लिए एक मॉडल बनाने का सुझाव दिया, जिसे अगले 1000 गांवों को विकसित करने के लिए दोहराया जा सकता है।

latest news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

epaper

Latest Articles