spot_img
21.1 C
New Delhi
Tuesday, October 19, 2021
spot_img

देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस का संचालन बंद

–दिल्ली-लखनऊ और मुबंई-अहमदाबाद के बीच नहीं चलेगी ट्रेन
–रेलवे बोर्ड ने अगले आदेश तक के लिए ट्रेनों का संचालन रोका
–ट्रेन में नहीं हो रहा था 40 फीसदी भी टिकटों की बुकिंग

नई दिल्ली /टीम डिजिटल : भारतीय रेलवे ने देश की पहली कारपोरेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस का संचालन आज से अगले आदेश तक बंद कर दिया है। लखनऊ-नई दिल्ली और अहमदाबाद-मुंबई के बीच चलने वाली तेजस ट्रेनों का संचालन आईआरसीटीसी के जिम्मे था, जोकि कोरोना काल की भेंट चढ़ती नजर आ रही है। पिछले कुछ दिनों से दोनों ट्रेनों को यात्री नहीं मिल रहे थे, नतीजन कंपनी को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा था। इसी को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने 23 नवंबर से अगले आदेश तक ट्रेन को निरस्त करने के लिए आदेश दिए हैं। इसके तहत दिल्ली से लखनऊ के बीच चलने वाली तेजस एक्सप्रेस को सोमवार से एवं अहमदाबाद से मुबंई के बीच चलने वाली तेजस 24 नवम्बर से नहीं चलेगी। ट्रेनों का संचालन करने वाली कंपनी आईआरसीटीसी ने कहा है कि आगे दिसम्बर महीने में ट्रेनों का संचालन पुर्नजीवित करने के लिए समीक्षा की जाएगी।

यह भी पढें…2022 में संसद का शीत कालीन सत्र नये भवन में होगा

सूत्रों के मुताबिक 23 नवंबर के बाद 20 से 30 यात्री ही रोजाना सीटों की बुकिंग करा रहे थे। ऐसे में यात्री आभाव और फ्लेक्सी किराया से महंगा सफर यात्रियों को राहत नहीं दे सका। जबकि ट्रेन में ढेरों यात्री सुविधाएं थी। बावजूद रेलवे प्रशासन यात्रियों को आकर्षित नहीं कर सके। ऐसे में रेलवे बोर्ड ने आईआरसीटीसी को 23 नवंबर से अगले आदेश तक ट्रेन को निरस्त करने के लिए आदेश दिए हैं। पहली बार लखनऊ से तेजस ट्रेन का संचालन चार अक्तूबर 2019 को शुरू हुआ था। अंतिम बार तेजस ट्रेन 22 नवंबर की सुबह साढ़े छह बजे लखनऊ से नई दिल्ली 200 करीब यात्री लेकर रवाना हुई। बता दें कि मार्च में लॉकडाउन होने के बाद तेजस ट्रेन का संचालन 17 अक्तूबर को शुरू हुआ था। उम्मीद थी दीपावली में यात्री मिलेंगे। पर, ऐसा हो नहीं सका।

यह भी पढें…UP: विंध्याचल के हजारों गांवों में पाइप से पानी पहुंचेगा, बदलेगी जिंदगी

जबकि एडवांस में 10 दिन का आरक्षण बढ़ाकर एक महीने कर दिया गया। बावजूद यात्री नहीं मिलने वाली वजह से तेजस को रद्द करना पड़ा। सूत्रों के मुताबिक लखनऊ-दिल्ली के बीच यात्रियों की कम संख्या की वजह से शताब्दी, लखनऊ मेल व एसी स्पेशल जैसे वीआईपी ट्रेनों का हाल खराब है। इन सभी ट्रेनों में हर चेयरकार से लेकर स्लीपर तक के खीटें खाली चल रही है। इन ट्रेनों में यात्री न मिलने की वजह डायनमिक फेयर लागू करना। इससे ट्रेनों में 40 फीसदी ही सीटों की बुकिंग हो रही है।

Related Articles

epaper

Latest Articles