spot_img
30.1 C
New Delhi
Saturday, July 31, 2021
spot_img

UP : पुलिस एवं PAC के सैकडों कर्मचारियों को मिला दीवाली तोहफा

—पीएसी कर्मियों की पदोन्नति से वर्षाें से लम्बित समस्या का समाधान
—पहली बार इतनी बड़ी संख्या में प्रमोशन की कार्यवाही सम्पन्न
—पुलिस बल प्रदेश की जनता की सुरक्षा और कानून-व्यवस्था बनाये रखने के लिए अपनी पूरी क्षमता व दक्षता के साथ कार्य करें
—शहीद जवानों के परिवार को दी जाने वाली अनुग्रह राशि में वृद्धि भी की गयी
—6,107 पुलिस एवं पी0ए0सी0 कर्मियों को पदोन्नत किया गया

लखनऊ/ टीम डिजिटल : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज यहां अपने सरकारी आवास पर आयोजित एक संक्षिप्त कार्यक्रम में पीएसी के 10 कर्मियों को सम्मान स्वरूप प्रोन्नति आदेश प्रदान किये। इन कर्मियों में कांस्टेबल से हेड कांस्टेबल पद पर प्रोन्नत 06 कर्मी तथा हेड कांस्टेबल से प्लाटून कमाण्डर पद पर पदोन्नत 04 कर्मी सम्मिलित हैं। उल्लेखनीय है कि पुलिस बल में कुल 6,107 पुलिस एवं पीएसी कर्मियों को पदोन्नत किया गया है। पीएसी के 5,042 कर्मी मुख्य आरक्षी तथा 717 प्लाटून कमाण्डर के पद पर पदोन्नत किये गये हैं। इसके अलावा अन्य संवर्गाें में 348 पदोन्नतियां की गयी हैं।
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित किया। उन्होंने पुलिस व पी0ए0सी0 कर्मियों की पदोन्नति के लिए गृह विभाग सहित सम्बन्धित संगठनों की सराहना की। उन्होंने कहा कि देश के सबसे बड़े राज्य के पुलिस बल के मनोबल व व्यावसायिक दक्षता को पूरी ऊर्जा और क्षमता के साथ बनाये रखने के लिए समयबद्ध ढंग से कार्यवाही आवश्यक है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक राजकीय कर्मी को उसकी योग्यता और क्षमता के अनुरूप शासकीय व्यवस्था के अनुसार आगे बढ़ने का अवसर मिलना चाहिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पीएसी कर्मियों को एक संवर्ग से दूसरे संवर्ग में ले जाने के दृष्टिगत उनके मनोबल को बढ़ाने के लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। पीएसी कर्मियों की पदोन्नति से वर्षाें से लम्बित समस्या का समाधान हो गया है। सभी पदोन्नत कर्मियों को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए उन्होंने कहा कि पहली बार इतनी बड़ी संख्या में प्रमोशन की कार्यवाही सम्पन्न की गयी है। पुलिस बल भी प्रदेश की जनता की सुरक्षा और कानून-व्यवस्था बनाये रखने के लिए पूरी अपनी क्षमता व दक्षता के साथ कार्य करें।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वर्ष 2017 में वर्तमान सरकार के आने के बाद पीएसी की समाप्त कम्पनियों को पुनस्र्थापित किया गया है। आवश्यक भर्ती प्रक्रिया पूर्ण कर ली गयी है। सभी पीएसी कम्पनियां अपनी पूरी क्षमता के साथ कार्य कर रही हैं। उन्होंने कहा कि आपदा नियंत्रण के लिए प्रदेश के अपने बल के रूप में एसडीआरएफ का गठन किया गया है।

शहीद होने वाले पुलिस जवानों के आश्रितों को अनुग्रह राशि प्रदान

मुख्यमंत्री  ने कहा कि प्रदेश में सुरक्षा और कानून-व्यवस्था को बनाये रखने में पुलिस बल की बड़ी भूमिका है। पुलिस बल के योगदान के मद्देनजर उन्हें आवश्यक सुविधाएं भी सुलभ होनी चाहिए। वर्तमान राज्य सरकार द्वारा पुलिसकर्मियों के लिए अवस्थापना सुविधाएं यथा बैरक, आवासीय सुविधाएं आदि स्थापित की जा रही हैं। इस कार्य में बजट को बाधक नहीं बनने दिया जा रहा है। अधिकतर थाने, पुलिस लाइन अथवा पुलिस बल के ठहरने के स्थलों पर आवासीय सुविधा के लिए गुणवत्तापूर्ण बैरक या तो बन चुके हैं अथवा बनाये जा रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के पुलिस बल व पीएसी ने राज्य में कानून-व्यवस्था व सुरक्षा का बेहतर वातावरण बनाया है। प्रदेश में सुरक्षा और कानून-व्यवस्था बनाये रखने के लिए शहीद होने वाले पुलिस जवानों के आश्रितों को अनुग्रह राशि प्रदान करने एवं आश्रितों के सेवायोजन के लिए समयबद्ध व्यवस्था बनायी गयी है। शहीद जवानों के परिवार को दी जाने वाली अनुग्रह राशि में वृद्धि भी की गयी है।

सुरक्षा और प्रशासनिक कार्याें को आगे बढ़ाने में पुलिस बल की बड़ी भूमिका

अपर मुख्य सचिव गृह  अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा कि सुरक्षा और प्रशासनिक कार्याें को आगे बढ़ाने में पुलिस बल की बड़ी भूमिका है। पुलिस बल को आधुनिक बनाने और अवस्थापना सुविधाएं उपलब्ध कराने में कोई कमी नहीं होने दी जाएगी। पुलिस महानिदेशक हितेश सी अवस्थी ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री  पुलिस बल की आवश्यकताओं के प्रति संवेदनशील हैं। उनके मार्गदर्शन में वर्ष 2017 से अब तक पुलिस बल में हजारों की संख्या में नियुक्तियां और पदोन्नतियां की गयी हैं।
इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एम0एस0एम0ई0 श्री नवनीत सहगल, उ0प्र0 पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड के अध्यक्ष श्री आर0के0 विश्वकर्मा, अपर पुलिस महानिदेशक कानून-व्यवस्था श्री प्रशान्त कुमार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Related Articles

epaper

Latest Articles