spot_img
22.1 C
New Delhi
Wednesday, October 20, 2021
spot_img

DSGMC: गुरुद्वारा कमेटी में सियासी भगदड़, अब दो वरिष्ठ सदस्यों ने छोड़ी पार्टी

–सरना दल में शामिल हुए हरिंदरपाल सिंह एवं जतिंदर सिंह साहनी
-वर्षों से अकाली दल के साथ थे जुड़े, भ्रष्टाचार बताई छोडऩे की वजह
–सरना बंधुओं ने कराई ज्वाइनिंग, कहा-पार्टी होगी और ज्यादा मजबूत

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के दो वरिष्ठ सदस्यों हरिंदरपाल सिंह और जतिंदर सिंह साहनी ने आज बुधवार को शिरोमणि अकाली दल बादल को झटका देते हुए परमजीत सिंह सरना की अगुवाई वाली शिरोमणि अकाली दल (दिल्ली) में शामिल हो गए। दोनों के साथ क्षेत्र के दर्जनों कार्यकर्ता भी शामिल हो गए। पार्टी के अध्यक्ष परमजीत सिंंह सरना एवं महासचिव हरविंदर सिंह सरना ने दोनों वरिष्ठ पदाधिकारियों को सिरोपा डालकर ज्वाइन कराया। दोनों सदस्यों में गुरुद्वारा कमेटी में करप्शन से तंग आकर कुछ दिन पहले ही पार्टी छोडऩे का ऐलान किया था। दोनों सदस्य अकाली दल के बहुत पुराने पदाधिकारी भी थे। इन लोगों पार्टी और कमेटी के खिलाफ तभी से लामबंद हो गए थे जब कमेटी अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ केस दर्ज हुआ था। सरना दल को ज्वाइन करने के बाद हरिंदर पाल सिंह एवं साहनी ने कहा कि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में करप्शन की वजह से कमेटी बर्बादी की कगार पर है। हालात यह हो गई है कि संगत के बीच समझाना मुश्किल हो गया है। इसके अलावा गुरुद्वारा कमेटी में पंथक मर्यादाएं तार-तार हो रही है। कर्मचारियों को समय पर वेतन नहीं मिल रहा है और उनकी कोई सुनवाई भी नहीं है। ऐसे में एक पंथक व्यक्ति के लिए यह सब बर्दाश्त करना मुश्किल हो रहा था। नतीजन मजबूर होकर पार्टी छोड़ दी।
इस मौके पर पार्टी प्रधान परमजीत सिंह सरना ने नए सदस्यों का स्वागत करते हुए कहा कि बादल पार्टी को अब अकाली ना बोले। इन्होंने सिखों और पंजाबियों की भावनाओं के साथ सिर्फ खिलवाड़ किया हैं। इन्होंने दिल्ली की सिख धरहरों के साथ पूरे पंजाब को बरबादी के कगार पर धकेला है। लिहाजा वह दिन दूर नहीं जब पार्टी देश की राजनीतिक पटल से गायब हो जाएगी।

बादल दल दिल्ली और पंजाब में साफ हो जाएगी : सरना

गुरुद्वारा कमेटी के पूर्व अध्यक्ष हरविंदर सिंह सरना ने दावा किया कि इस वर्ष बादल दल दिल्ली कमेटी और अगले साल पंजाब विधानसभा चुनाव में साफ हो जाएगी। उन्होंने कहा कि 2013 में जब वह सत्ता छोड़ कर गए थे तब 123 करोड़ रुपये खजाने में छोड़ा था, जो अब खत्म हो चुका है। उनके कार्यकाल में 30 तारीख को कर्मचारियों को वेतन मिल जाता था और स्कूल-कॉलेजों के हालात अच्छे थे। साथ ही पन्थक मर्यादाओं का पालन भी होता था। लेकिन, आज सिर्फ खोखले प्रचार के नाम पर बरगलाया जा रहा है।

गुरमीत सिंह शंटी ने सभी सदस्यों का सिरोपा देकर स्वगात किया

इस मौके पर पार्टी के महासचिव गुरमीत सिंह शंटी ने सभी सदस्यों का सिरोपा देकर स्वगात किया। साथ ही कहा कि दोनों वरिष्ठ सदस्यों ने अतीत में गुरु और संगत की खातिर बादल दल के साथ जुड़े थे।
इस मौके पर यूथ विंग प्रधान रमनदीप सिंह, तरसेम सिंह खालसा, मंजीत सिंह सरना,कुलतारन सिंह,जत्थेदार बलदेव सिंह , मनमोहन सिंह कोचर, सुखबीर सिंह कालरा, करतार सिंह चावला, गुरप्रीत सिंह खन्ना, हरविंदर सिंह ,कुलदीप सिंह, मनिंदर सिंह, परविंदर सिंह, भुपिंदर सिंह, एचपी सिंह सहित भारी संख्या में लोग मौजूद रहे।

Related Articles

epaper

Latest Articles