35 C
New Delhi
Sunday, May 22, 2022

कश्मीरी सिख लड़की को दिल्ली में मिली ‘पनाह’, गुरुद्वारा कमेटी बनी ‘पालनहार’

-गुरुद्वारा कमेटी ने लड़की मनमीत कौर व उसके पति को दी नौकरी
-कमेटी ने दिखाई दरियादिली, रहने के लिए क्वार्टर भी एलाट किया
–सिख लड़की मनमीत कौर को कश्मीर में अगवा कर किया गया था धर्म परिवर्तन

नई दिल्ली /मोक्षिता : दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने कश्मीर की सिख लड़की मनमीत कौर व उसके पति सुखप्रीत सिंह को कमेटी में नौकरी दे दी है। सिख बच्ची मनमीत कौर को कमेटी में बतौर क्लर्क नियुक्त किया गया है, जबकि उसके पति सुखप्रीत सिंह को जेईएसी के रूप में नियुक्त किया गया है। दोनों का प्रबोशन पीरियड एक वर्ष का होगा। गुरुद्वारा कमेटी ने नौकरी के साथ ही इस जोड़े ही रिहाईश गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब परिसर में स्टाफ क्वार्टर में कर दी है। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के इतिहास का शायद यह पहला मामला होगा, जब दूसरे राज्य की लड़की एवं लड़के को लाकर यहां नौकरी दी गई होगी। हालांकि यह काम एसजीपीसी के दायरे में आता है। लेकिन दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने बड़ी पहल करते हुए लड़की को कश्मीर से लाकर दिल्ली में पनाह दी है।
बता दें कि सिख लड़की मनमीत कौर को कश्मीर में अगवा कर जबरन धर्म परिवर्तन किया गया था। जब कश्मीरी सिखों ने इसका विरोध किया था तो पुलिस ने यह लड़की परिवार के हवाले कर दी थी जिसका सुखप्रीत सिंह के साथ गुरु मर्यादा के अनुसार विवाह कर दिया गया था।
इस सबंध में कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा व महासचिव हरमीत सिंह कालका ने बताया कि दोनों प्रसन्नता के साथ रह रहे हैं और गुरु साहिब के आर्शीवाद से इन नौकरियों के कारण एक बेहतर जीवन का निर्वाह कर सकेंगे।
सिरसा ने कहा कि हमनें संगत द्वारा सौंपी गई सेवा के अनुसार अपनी जिम्मेवारी निभाई है और आगे भी संगत की सेवा करते रहेंगे। कश्मीरी सिखों के लिए डट कर खड़े होना हम सबका फर्ज था क्योंकि हम सिख कौम द्वारा दी गई सेवा के अनुरूप काम कर रहे हैं। हम ना कभी पहले पीछे हटे हैं और ना ही आगे हटेंगे। हमेशा जहां कहीं भी सिख कौम आवाज देगी वहीं सिखों के लिए डट कर जाएंगे।
सिरसा ने कहा कि गुरु तेग बहादुर साहिब की अपार बख्शीश के कारण सिख लड़की मनमीत कौर का घर भी बस गया है और नौकरी भी मिल गई है। अपनी बेटियों का ख्याल रखना हम सबका फर्ज है और अकाल पुरख ने बख्शीश की है कि हम यह जिम्मेवारी निभाने में सफल हुए हैं।

Related Articles

epaper

Latest Articles