36.8 C
New Delhi
Wednesday, May 29, 2024

North East Express एक्सीडेंट के पीछे बडी साजिश का अंदेशा, गेटमैन ने सुनी आवाज

नई दिल्ली /अदिति सिंह: राजस्थान के चित्तौड़गढ़ के सोनियाणा व गंगरार के बीच पिछले सप्ताह सोमवार को वीआईपी ट्रेन वंदे भारत को पलटाने की साजिश के बाद आज बिहार में लगभग उसी अंदाज में ट्रेन एक्सीडेंट हो गया। बिहार में दिल्ली-हावड़ा रेल रूट पर 12506 नार्थ ईस्ट एक्सप्रेस डिरेल हो गई है। ट्रेन की सभी बोगियां पटरी से उतर गईं। दो बोगी पलटी है। हादसे में 4 यात्रियों की मौत हुई है। अब तक 100 से ज्यादा घायलों को निकालकर अस्पताल भेजा गया है। इनमें से कई गंभीर रूप से घायल हैं। बुधवार की रात ट्रेन जिस तरीके से दुर्घटनाग्रस्त हुई है उससे किसी शरारती तत्वों की शाजिश से इनकार नहीं किया जा सकता है। ऐसा लगता है कि पूरी साजिश के तहत ट्रेन को डिरेल करवाया गया है। हालांकि यह तो जांच के बाद पता चल पाएगा, लेकिन पहली नजर में प्रतीत होता है कि इसमें किसी बाहरी तत्वों का हाथ हो सकता है। वैसे भी पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार, भोजपुर में नक्सली आंदोलन जिले के सोलह में से नौ ब्लॉकों में फैला हुआ था और कुल 150 गांव सशस्त्र विद्रोह से प्रभावित थे। सूत्रों के मुताबिक घटनास्थल के पास रघुनाथपुर लेवल क्रासिंग है, जब ट्रेन वहां से गुजरी है तो पायलट को एक झटका महसूस हुआ है। लेवल क्रासिंग के गेटमैन के मुताबिक उसने भी एक आवाज हुई और उसके तुरंत बाद ट्रेन पलट गई। गेटमैन का कहना है कि इंजन के साथ 8 coach सही सलामत निकल गए थे ।  कुछ आवाज़ हुआ और चिंगारी आयी और धुवाँ भर गया । पीछे के कोच डेरेल हो गये , गेट के पास पार्टिंग भी हो गयी । इससे अंदेशा जताया जा रहा है कि कहीं न कहीं इसमें को​ई बडी साजिश हो सकती है।

—किसी शरारती तत्वों की शाजिश से इनकार नहीं किया जा सकता
—रघुनाथपुर लेवल क्रासिंग से जब ट्रेन गुजरी है तो डाइवर को एक झटका महसूस हुआ
—राजस्थान में वंदेभारत की पिछले सप्ताह हुई थी पलटाने की साजिश

यह तो अच्छी बात है कि एलएचबी कोच होने के कारण ट्रेन की बोगी एक दूसरे पर नहीं चढ़ी। वरना हादसा और ज्यादा भयानक होता। और कैजुअल्टी बहुत ज्यादा होती।
इस बीच रेल मंत्रालय में आनन फानन में सभी जिम्मेदार अधिकारी बोर्ड पहुंच गए और वार रूम से पल पल की जानकारी लेने लगे।

इस बीच रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने बताया कि बक्सर डिरेलमेंट साइट पर युद्ध स्तर पर रेस्क्यू ऑपरेशन चल रहा है। एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, जिला प्रशासन, रेलवे अधिकारी और स्थानीय निवासी सभी एक टीम के रूप में काम कर रहे हैं। घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया और वार रूम संचालित हो रहा है।
बता दें कि हादसा बुधवार रात 9 बजकर 35 मिनट पर बक्सर-आरा के बीच रघुनाथपुर स्टेशन के पास हुआ। ट्रेन दिल्ली से गुवाहाटी जा रही थी। हादसे के बाद जगह-जगह ट्रेनें फंस गईं। इन्हें गया रूट से निकाला गया।

हेल्पलाइन नंबरों पर संपर्क करें।

पटना हेल्पलाइन:-9771449971
दानापुर हेल्पलाइन:-8905697493
कमर्शियल कंट्रोल :-7759070004
आरा हेल्पलाइन:-8306182542

राजस्थान में पटरियों के पास लोहे के छोटे सरिए भी फंसा था

उदयपुर से जयपुर जा रही वंदे भारत ट्रेन के लोको पायलट की सजगता से सोमवार को बड़ा हादसा टल गया। सोमवार सुबह 9.55 पर वंदे भारत चित्तौड़गढ़ के सोनियाणा व गंगरार के बीच से निकल रही थी। इसी दौरान लोको पायलट को रेल की पटरियों पर पत्थर दिखाई दिए। साथ ही पटरियों के पास लोहे के छोटे सरिए भी फंसा रखे थे। इस पर लोको पायलट ने ट्रेन को 50 मीटर की दूरी पर इमरजेंसी ब्रेक लगाकर रोक दिया। ट्रेन स्टाफ ने नीचे उतरकर पत्थर व लोहे सरियो को पटरियों से हटाया। करीब दस मिनट तक ट्रेन खड़ी रही। अज्ञात बदमाशों की हरकत से कई जानें भी जा सकती थी, लेकिन लोको पायलट मुबारिक हुसैन की सजगता से हादसा टल गया। जैसे ही अचानक ट्रेन रुकी तो इसमें सवार यात्री भी एक बार के लिए तो घबरा गए, लेकिन बाद में ट्रेन रवाना हुई तो राहत की सांस ली। इस घटना पर रेलवे के अधिकारियों ने अज्ञात जनों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कर लिया है।

—केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने ट्वीट करके कहा कि रेस्क्यू ऑपरेशन युद्धस्तर पर चलाया जा रहा है। इसे जल्द पूरा कर दिया गया है।
—अप-डाउन की फंसी 18 ट्रेनों को गया रूट से निकाला गया। पटना-बनारस, बनारस पटना जन शताब्दी को रद्द कर दिया गया है।
—केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से बातचीत कर हादसे की जानकारी दी। वह नवगछिया से घटनास्थल पर पहुंच रहे हैं।
—बिहटा से एनडीआरएफ, भोजपुर से एसडीआरएफ की टीम बचाव कार्य के लिए भेजी गई है।
—घायलों को लाने के लिए पटना, बक्सर, आरा से 30 से ज्यादा एंबुलेंस भेजी गई।
—घटना स्थल से यात्रियों को लाने के लिए पटना से दो लोकल ट्रेनें रवाना की गई हैं।

latest news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

epaper

Latest Articles