spot_img
29.1 C
New Delhi
Monday, July 26, 2021
spot_img

ड्रोन विरोधी स्वदेशी प्रणाली के साथ जल्द ही सीमाओं पर तैनाती बढ़ेगी

-जिस देश की सीमाएं सुरक्षित नहीं, वो राष्ट्र सुरक्षित नहीं रह सकता
–सीमा सुरक्षा का मतलब है राष्ट्रीय सुरक्षा : अमित शाह
–अमित शाह ने बीएसएफ के 18 वें अलंकरण समारोह में कार्मिकों को किया अलंकृत
-सीमाओं पर गैप्स भरने के लिए सरकार ने बात, संवाद करके अड़चनों को दूर किया
-वर्ष 2022 से पहले सीमा पर फेंसिंग में कोई गैप नहीं रह जाएगा

नई दिल्ली /खुशबू पाण्डेय : केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज यहां कहां कि सीमा सुरक्षा का मतलब है राष्ट्रीय सुरक्षा और जिस देश की सीमाएं सुरक्षित नहीं, वो राष्ट्र सुरक्षित नहीं रह सकता है। घुसपैठ, मानव तस्करी, गौ तस्करी, हथियारों की तस्करी, ड्रोन जैसी चुनौतियों का जिक्र करते हुए अमित शाह ने देश की पैरामिलिट्री फोर्सेस की सजगता, समयानुकूल बदलाव लाने की उनकी क्षमता पर विश्वास जताया और कहा कि इन सब चुनौतियों को पार करके हम अपनी सीमाओं को सुरक्षित करेंगे। गृह मंत्री ने कहा कि सीमा सुरक्षा बल (BSF) ने कई सुरंगों का पता लगाकर उनका वैज्ञानिक एनालिसिस करके एक बहुत अच्छा काम किया है। उन्होंने कहा कि ड्रोन के बढ़ते खतरे के खिलाफ हमारी मुहिम आज बहुत महत्वपूर्ण है और इसे कम करने के लिए डीआरडीओ और अन्य एजेंसियां स्वदेशी तकनीक पर काम कर रही हैं और जल्द ही ड्रोन विरोधी स्वदेशी प्रणाली के साथ सीमाओं पर तैनाती बढ़ेगी।


गृह मंत्री अमित शाह शनिवार को सीमा सुरक्षा बल (BSF) के 18 वें अलंकरण समारोह में अदम्य साहस,शौर्य,वीरताव उत्कृष्ट सेवा के लिए बल के बहादुर अधिकारियों और कार्मिकों को अलंकरण प्रदान किए। गृह मंत्री ने रुस्तमजी स्मारक व्याख्यान भी दिया। इस अवसर पर सीमा सुरक्षा बल पर एक वृत्तचित्र ‘बावा का प्रदर्शन भी किया गया। अमित शाह ने बीएसएफ के पहले महानिदेशक के एफ रुस्तम को श्रद्धांजलि देते हुए देश के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले शहीदों को सलाम किया। कार्यक्रम में केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानन्द राय, केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार, केन्द्रीय गृह सचिव, आसूचना ब्यूरो निदेशक, रॉ प्रमुख,सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हुए।
गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि सीमाओं पर गैप्स को भरने के लिए मोदी सरकार ने संवाद करके अड़चनों को दूर किया।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 से पहले सीमा पर फेंसिंग में कोई गैप नहीं रह जाएगा। ये तीन प्रतिशत गैप ही घुसपैठ के लिए संभावनाएं छोड़ता है और बाकी 97 प्रतिशत फेंसिंग को बेकार कर देता है। अमित शाह ने भविष्य में सीमापार से आर्टीफिशियल इंटेलीजेंस और रोबोटिक्स तकनीक के इस्तेमाल के खतरे के प्रति भी आगाह किया। साथ ही इसके खिलाफ एक दीर्घकालिक योजना बनाने की जरूरत पर बल दिया। शाह ने कहा कि सुरक्षा बलों ने नक्सलविरोधी अभियान में भी बहुत अच्छा काम किया है। इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को डिटेक्ट करना, सुरंगों का पता लगाना, पोर्टेबल एनक्रिप्टिड सामरिक मोबाइल संचार, एंटी-ड्रोन तकनीक जैसे विषयों पर एक सीरीज आफ हैकाथॉन से फायदा मिलेगा।

उन्होंने कहा कि सीमा सुरक्षा के बारे में सभी जरूरी चीजों और तकनीक के बारे में हम आत्मनिर्भर बनना चाहते हैं और हैकाथॉन सीरीज से इसमें भी फायदा मिलेगा। अमित शाह ने सुरक्षा बलों की उपलब्धियों का जिक्र भी किया। साथ ही बताया कि सुरक्षा बलों ने 15 अरब रूपए के नारकोटिक्स पकड़े हैं, साढ़े चार करोड़ रूपए के सोना-चांदी को पकड़ा है, 15 आतंकियों को मार गिराया है और लगभग 2000 आतंकियों और घुसपैठियों को पकड़ा है।
गृह मंत्री ने कहा कि सीमा सुरक्षा बल (BSF) और देश के अन्य अर्धसैनिक बलों के कारण ही भारत विश्व के नक्शे पर अपनी गौरवमयी उपस्थिति दर्ज करा पा रहा है। बीएसएफ के नाम मात्र से ही दुश्मनों का दिल दहल जाता है और इसी कारण देश लोकतंत्र के अपनाए हुए विकास के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है। अमित शाह ने कहा कि दुनिया के नक्शे पर भारत अपना स्थान मजबूत कर रहा है उसमें आप सभी का योगदान बहुत महत्वपूर्ण और अग्रिम पंक्ति में है। केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि उन बलिदानियों, वीरों और योद्धाओं को कभी भुलाया नहीं जा सकता जो आज भी, चाहे – 45 डिग्री तापमान हो या 45 डिग्री की गर्मी हो, चाहे लद्दाख की सीमाएं हों या रेगिस्तान की गर्मी हो, चाहे पूर्वी सीमा में नदी-नाले, जंगल, पहाड़ हों, बीएसएफ और पैरामिलिट्री फोर्सेस, सीमा सुरक्षा के काम में लगी हैं, उन्हीं के कारण आज भारत विश्व के नक्शे पर गौरवमयी स्थान उपस्थित करा रहा है। उन्होंने कहा कि 1965 की लड़ाई के बाद सीमावर्ती क्षेत्र के राज्यों की 25 बटालियनों के साथ एक बीज के रूप में सीमा सुरक्षा बल की शुरूआत हुई जो आज एक वटवृक्ष बन चुका है और पौने 3 करोड़ लोगों का परिवार बनकर देश को सुरक्षा मुहैया करा रहा है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार से पहले देश की स्वतंत्र रक्षा नीति ही नहीं थी, अच्छी रक्षा नीति के बिना ना तो देश का विकास हो सकता है और ना ही लोकतंत्र पनप सकता है

BSF ने उच्च बलिदान की परंपरा को स्थापित किया

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि बीएसएफ ने एक उच्च बलिदान की परंपरा को स्थापित किया है। बीएसएफ की स्थापना के 6 साल बाद ही जब उस समय के पूर्वी पाकिस्तान में सभी तरह के मानवाधिकारों का हनन हो रहा था, अकल्पनीय यातनाएं दी जाती थीं, और जब स्थिति असहनीय हो गई तब उस स्थिति में भारत ने निर्णय किया और बीएसएफ के जवानों ने एक अहम भूमिका निभाई और आज बांग्लादेश एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में दुनिया के नक्शे पर अस्तित्व में है। अमित शाह ने कहा कि चाहे युद्ध काल हो या शांति काल हो, बीएसएफ के जवानों ने हमेशा अपने कर्तव्य को निभाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी और इसी का परिणाम है कि सीमा सुरक्षा बल को अनेकों वीरता पुरस्कारों से अलंकृत किया गया है।

मोदी सरकार ने सीमाओं पर इन्फ्रास्ट्रक्चर को प्राथमिकता से दिया

गृह मंत्री अमित शाह ने कि मोदी सरकार ने सीमाओं पर इन्फ्रास्ट्रक्चर के काम को प्राथमिकता से लिया। अगर तुलनात्मक तरीके से देखें तो वर्ष 2008 से 2014 तक 3,610 किलोमीटर सड़क निर्माण हुआ जबकि वर्ष 2014 से 2020 तक 4,764 किलोमीटर सड़क निर्माण हुआ। इसी प्रकार सड़क निर्माण का बजट 2008-2014 के दौरान 23,000 करोड़ रूपए से बढ़कर 2014-20 के दौरान लगभग 44,000 करोड़ रूपए हो गया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का ये दृष्टिकोण है कि जब तक सीमाओं का मूलभूत ढांचा ठीक नहीं करेंगे, तो वहां से पलायन होता रहेगा और अगर वहां आबादी नहीं होगी तो सीमाओं की सुरक्षा करना बहुत कठिन हो जाएगा।
अमित शाह ने कहा वर्ष 2008 से 2014 के दौरान 7,270 मीटर लंबे पुलों का निर्माण हुआ जबकि वर्ष 2014 से 2020 के दौरान ये दोगुना होकर 14,450 मीटर हो गया। वर्ष 2008-14 के दौरान मात्र एक सुरंग का निर्माण हुआ जबकि वर्ष 2014-2020 के बीच छह नई सुरंगें छेडख़ा बन चुकी हैं और 19 अन्य पर निर्माण कार्य जारी है।

गांवों का विकास होगा और वहां से पलायन रुकेगा

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने सीमांत क्षेत्रों के विकास और वहां से पलायन को रोकने के लिए भी ढेर सारी योजनाओं की शुरूआत की। इनके तहत दो वर्षों के लिए 888 करोड़ रुपये की सीमा विकास योजनाएँ शुरू की गई हैं। उन्होंने कहा कि सभी अर्धसैनिक बलों को नोडल एजेंसी बनाने का काम मोदी सरकार ने किया। एक सीमांत विकासोत्सव की शुरूआत गुजरात के कच्छ से हुई। इसके अंतर्गत कच्छ की सीमा से सटे गांवों के सरपंच, तहसीलदारों को बुलाकर उनके विकास के प्रश्नों को समझा गया। इससे निश्चित तौर पर गांवों का विकास होगा और वहां से पलायन रुकेगा। अमित शाह ने कहा कि सरकार ने सीमाओं के क्षेत्रों को मजबूत इन्फ्रास्ट्रक्चर दिया, गांवों को विकसित किया, सभी पैरामिलिट्री फोर्सेस को अच्छा माहौल दिया, उनकी जरुरतों को समझा, वहां रिक्त पदों को भरना जैसे काम किए और एक सुनियोजित योजना के साथ आगे बढ़े हैं।

Related Articles

epaper

Latest Articles