spot_img
29.1 C
New Delhi
Wednesday, June 16, 2021
spot_img

PM मोदी का निर्देश, गांवों में जागरूकता बढ़ानी और बेहतर इलाज सुविधाओं से जोडऩा जरूरी

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यों के जिलाधिकारियों से की बात, दिए निर्देश
  • कोरोना के खिलाफ लड़ाई में फील्ड कमांडर हैं अधिकारी : मोदी
  • पीएम मोदी ने बताए कोरोना के खिलाफ कौन है हमारे मुख्य हथियार
  • लोकल कंटेनमेंट जोन, तेजी के साथ जांच, सही जानकारी और कालाबाजारी पर लगाम जरूरी
  • संक्रमण को रोकना है और दैनिक जीवन से जुड़ी सप्लाई को चलाना है
  • कालाबाजारी पर लगे लगाम, करने वालों पर हो सख्त कार्रवाई : पीएम

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में क्षेत्रीय और जिला अधिकारियों को फील्ड कमांडर बताते हुए कहा कि उन्हें योजनाओं और रणनीतियों को जमीनी स्तर पर इस्तेमाल करते हुए सभी उपाय रूपी हथियारों का समुचित इस्तेमाल करना है। पीएम ने कहा कि हमारी जिम्मेदारी संक्रमण को रोकने से फैलने की भी है। ये तभी संभव है जब हमें संक्रमण के स्केल की सही जानकारी होगी। टेस्टिंग, ट्रैकिंग, ट्रीटमेंट और कोरोना के लिए उचित व्यवहार इन सभी पर लगातार बल देते रहना जरूरी है।

उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ हमारे मुख्य हथियार हैं, लोकल कंटेनमेंट जोन, तेजी के साथ जांच, सही और पूरी जानकारी और कालाबाजारी पर लगाम।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को वीडियो कांफ्रेंस के जरिये कुछ राज्यों और केंद्र शासित राज्यों के जिला एवं क्षेत्रीय अधिकारियों के साथ कोरोना महामारी की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि देश में यह लड़ाई अधिकारियों के नेतृत्व में लड़ी जा रही है और सभी अधिकारी अपने यहां सर्वश्रेष्ठ अनुभवों तथा योजनाओं की सफलताओं को साझा करें जिससे कि इनका इस्तेमाल देश में दूसरी जगहों पर भी किया जा सके।

देश के हर जिले में अलग-अलग चुनौतियां

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान उन्होंने कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में उनके अनुभवों को जानने की कोशिश की। साथ ही उन्होंने कई सुझाव भी दिए। प्रधानमंत्री ने वायरस के खिलाफ हथियारों का भी जिक्र किया। पीएम ने कहा कि लोकल कन्टेनमेंट जोन, एग्रेसिव टेस्टिंग और लोगों तक सही और पूरी जानकारी इस लड़ाई के हथियार हैं। प्रधानमंत्री ने कहा, हमारे देश में जितने जिले हैं, उतनी ही अलग अलग चुनौतियां भी हैं। आप अपने जिले की चुनौतियों को अच्छे से समझते हैं। इसलिए जब आपका जिला जीतता है, तो देश जीतता है। आपका जिला कोरोना को हराता है, तो देश कोरोना को हराता है।

काला बाजारी पर सख्त कार्रवाई हो

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हॉस्पिटल में कितने बेड उपलब्ध हैं, कहां उपलब्ध हैं? ये जानकारी आसानी से उपलब्ध होने पर लोगों की सहूलियत बढ़ती है। इसी तरह काला बाजारी पर लगाम हो, ऐसे लोगों पर सख्त कार्रवाई हो। कालाबाजारी पर लगाम होनी चाहिए, ऐसा करने वालों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। फ्रंट लाइन कर्मचारियों का मोरल हाई रखकर उन्हें मोबलाइज करना, आपके ये प्रयास पूरे जिले को मजबूती देते हैं।
कोविड के अलावा आपको अपने जिले के हर एक नागरिक की ईज ऑफ लिविंग का भी ध्यान रखना है। हमें संक्रमण को भी रोकना है और दैनिक जीवन से जुड़ी जरूरी सप्लाई को भी बेरोकटोक चलाना है।

कोरोना की दूसरी लहर में ग्रामीण और दुर्गम क्षेत्रों पर ध्यान देना बेहद जरूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिलाधिकारियों से कहा कि कोरोना की इस दूसरी लहर में अभी ग्रामीण और दुर्गम क्षेत्रों में हमें बहुत ध्यान देना है। इसमें फील्ड में बिताया आपका अनुभव और आपकी कुशलता बहुत काम आने वाली है। हमें गांव-गांव में जागरूकता भी बढ़ानी और उन्हें बेहतर इलाज की सुविधाओं से भी जोडऩा है। कोरोना से निपटने से जुड़े अपने अच्छे अनुभव मुझे भेजिए, मेरे पास पहुंचाइए। मैं इसका दूसरे जिलों में कैसे उपयोग हो, इसको लेकर जरूर सोचूंगा। आपके इनोवेशन देश के काम आने चाहिए। बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षबर्धन, विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री, सदस्य (स्वास्थ्य) नीति आयोग, स्वास्थ्य सचिव, फार्मास्युटिकल सचिव और पीएमओ, केंद्र सरकार के मंत्रालयों और विभागों के अन्य अधिकारी शामिल हुए।

टीकाकरण से जुड़े हर भ्रम को मिलकर दूर करना जरूरी

पीएम ने कहा कि टीकाकरण (Vaccination) कोविड से लड़ाई का एक सशक्त माध्यम है, इसलिए इससे जुड़े हर भ्रम को हमें मिलकर दूर करना है। कोरोना के टीके की सप्लाई को बहुत बड़े स्तर पर बढ़ाने के निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं।
इसके अलावा जिलों में मेडिकल के साथ ही हर चीज की सप्लाई पर्याप्त हो, ये सुनिश्चित करना भी जरूरी है। आपको अपनी जरूरतों को तेजी से रेखांकित करके, उनका प्रबंध करना है। चुनौती जरूर बड़ी है, लेकिन हमारा हौसला उससे भी बड़ा है। कोशिश है कि टीकाकरण के तहत टीकों की सप्लाई का राज्यों को 15 दिन का शेड्यूल एडवांस में मिल जाए। आपको भी पता चल जाएगा कि कितने लोगों के लिए वैक्सीन उपलब्ध होने वाली है। कोशिश की जा रही है कि बड़े स्तर पर वैक्सीन की सप्लाई बढ़ाई जाए। वैक्सिंग की वेस्टेज को रोकने के लिए पहल होनी चाहिए।

अस्पतालों में आक्सीजन संयंत्र लगाने पर दिया जोर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पीएम केयर्स के माध्यम से देश के हर जिले के अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट्स (Oxygen plants) लगाने पर तेजी से काम किया जा रहा है। कई अस्पतालों में ये प्लांट काम करना शुरु भी कर चुके हैं। जिन जिलों को ये प्लांट आवंटित होने वाले हैं, वहां जरूरी तैयारी पहले से पूरी हों, ताकि ये प्लांट जल्द लग सके।

Related Articles

epaper

Latest Articles