spot_img
21.1 C
New Delhi
Monday, October 18, 2021
spot_img

देशभर में मनेगा आजादी का अमृत महोत्सव, शुरू करेंगे प्रधानमंत्री

—देशभर में 164 कार्यक्रम आयोजित होंगे, अकेले गुजरात में 92 आयोजन
— मुख्य कार्यक्रम अहमदाबाद के साबरमती आश्रम में होगा, PM मोदी भाग लेंगे
—साबरमती आश्रम से नाडियाड तक 75 किलोमीटर की पदयात्रा निकाली जाएगी

नई दिल्ली/ अदिति सिंह : देश की स्वतंत्रता की 75वी वर्षगांठ आजादी का अमृत महोत्सव शुक्रवार से शुरू हो रहा है, जिसमें गुजरात में 92 कार्यक्रम आयोजित होंगे। इसके अलावा देश के कोने—कोने में 164 कार्यक्रम किए जाएंगे। मुख्य कार्यक्रम अहमदाबाद के साबरमती आश्रम में होगा, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाग लेंगे। केंद्रीय संस्कृति मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने आज यहां पत्रकारों को यह जानकारी दी। पटेल कल साबरमती आश्रम से नाडियाड तक 75 किलोमीटर की पदयात्रा करेंगे जो 4 दिन बाद 16 मार्च को पूरी होगी।

केंद्रीय मंत्री पटेल ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी साबरमती आश्रम में आयोजित मुख्य कार्यक्रम में इंडिया एट—75 का प्रतीक चिन्ह एवं वेबसाइट जारी करेंगे। वह वोकल फॉर लोकल के लिए चरखा अभियान, आत्मनिर्भर इनक्यूबेटर, का शुभआरंभ करने के बाद पद यात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। इसमें 81 युवकों का एक दल साबरमती से दांडी तक जाएगा। उन्होंने कहा कि संस्कृति मंत्रालय, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग, क्षेत्रीय सांस्कृतिक केंद्र एवं टारइफेड सहित देश के 36 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के 164 स्थानों पर इंडिया एट—75 के विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करेगा। इसके अलावा 20 स्थानों पर विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। इन कार्यक्रमों का मुख्य रूप से आयोजन दिल्ली, शिमला, सिवान, पटना, नीलगंज ( पश्चिम बंगाल) झांसी, लखनऊ, सारनाथ, जबलपुर, पुणे, डीग महल ( राजस्थान) पोरबंदर, गोवा, वेल्लोर (तमिलनाडु) तिरुपति, शंकरअम (आंध्र प्रदेश) हंपी (कर्नाटक) और त्रिचुर, केरल, अरुणाचल प्रदेश में पासीघाट, बारामूला एवं सांबा (जम्मू कश्मीर) कारगिल एवं लेह (लद्दाख), गंगटोक आदि में आयोजित किया जाएगा।

कार्यक्रम की रूपरेखा 20 सप्ताह की कड़ी मशक्कत के बाद तैयार

केंद्रीय मंत्री पटेल के मुताबिक इस पूरे कार्यक्रम की रूपरेखा 20 सप्ताह की कड़ी मशक्कत के बाद तैयार की गई है। गौरतलब है कि महात्मा गांधी ने 12 मार्च 1930 को ऐतिहासिक दांडी यात्रा शुरू की थी जो 6 अप्रैल 1930 को पूरी हुई थी। यह भी संयोग है कि 15 अगस्त 2022 को आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने के पहले 75 सप्ताह की अवधि 12 मार्च से आरंभ होगी। बता दें कि इन कार्यक्रमों के साथ-साथ देश की अदम्य भावना के उत्सव दिखाने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे। इनमें संगीत, नृत्य, प्रवचन, प्रस्तावना पठन (प्रत्येक पंक्ति देश के विभिन्न क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करने वाली विभिन्न भाषाओं में) शामिल हैं। युवाशक्ति को भारत के भविष्य के रूप में दिखाते हुए गायकवृन्द में 75 स्वर के साथ-साथ 75 नर्तक होंगे।

Related Articles

epaper

Latest Articles