36.1 C
New Delhi
Monday, June 27, 2022

सिक्खों की सर्वोच्च संस्था श्री अकाल तख्त के जत्थेदार को मिली Z सिक्योरिटी

नई दिल्ली /अदिति सिंह : केंद्र सरकार ने पंजाब के अमृतसर स्थित श्री अकाल तख्त साहिब के कार्यकारी जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह जो जैड सिक्योरिटी मुहैया करवाने का आदेश दिया है। जैड सिक्योरिटी के तहत एक स्कॉर्ट वाहन भी होगा। साथ ही 28 केंद्रीय सुरक्षा दल के जवान हर समय साथ रहेंगे। बता दें कि श्री अकात तख्त सिक्खों की सर्वोच्च संस्था है और उसके जत्थेदार का पद बहुत अहम माना जाता है। जत्थेदार साहिब की सुरक्षा में पहले पंजाब पुलिस की सुरक्षा थी। लेकिन पंजाब में बदली भगवंत मान की सरकार ने पंजाब के महत्वपूर्ण लोगों की सुरक्षा या तो वापस ले ली या फिर कटौती कर दी। जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह के पास 6 सुरक्षा कर्मी थे, इनसे 3 सुरक्षा कर्मी वापस ले लिए। इसके बाद जत्थेदार ने पंजाब सरकार को पत्र लिखकर बाकी बचे तीन सुरक्षा कर्मी को भी वापस भेजने की पेशकश कर दी।

-सुरक्षा में स्कार्ट वाहन भी रहेगा, 28 सुरक्षा कर्मी हर वक्त तैनात रहेंगे
-केंद्र सरकार ने पंजाब सरकार के नहले पर मारा दहला
-पंजाब सरकार ने लगाए थे 6 सुरक्षाकर्मी, 3 वापस लिए
–सुरक्षा एजेंसियों ने रिपोर्ट के आधार पर गृह मंत्रालय ने लिया फैसला

मामला तूल पकड़ा और सोशल मीडिया पर पंजाब सरकार की जमकर किरकिरी हुई। इसके बाद पंजाब सरकार ने बयान जारी कर कहा कि गलती से उनकी सिक्योटिरी में कटौती की गई है, इसे पुन: बहाल किया जाएगा। हालांकि, जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने सिक्योरिटी वापस लेने से मना कर दिया। इस बीच पंजाब के मानसा में पंजाबी गायब सिद्धू मूसेवाला की दिनदहाड़े हत्या हो गई। इस घटना के बाद एसजीपीसी ने अपने टास्क फोर्स से 10 लोगों को जत्थेदार की सुरक्षा में तैनात कर दिया। मामला तूल पकडऩे के बाद केंद्र सरकार ने प्रमुखता के आधार पर आज जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह को जैड सिक्योरिटी दे दिया।
सूत्रों के मुताबिक जत्थेदार हरप्रीत सिंह की सुरक्षा को लेकर केंद्र सरकार की सुरक्षा एजेंसियों ने एक रिपोर्ट केंद्रीय गृह मंत्रालय को सौंपी थी। इसके बाद आनन-फानन में उनकी सुरक्षा की समीक्षा की गई। इसके फौरन बाद केंद्र सरकार ने यह निर्णय लिया कि जत्थेदार हरप्रीत सिंह को फौरन जेड कैटेगरी की सुरक्षा मुहैया करा दी जाए।
सूत्रों ने बताया कि केंद्र सरकार ने इस बाबत केंद्रीय अर्धसैनिक बल सीआरपीएफ को उनकी सुरक्षा में तैनात किया है। जल्द ही सीआरपीएफ के जवान ज्ञानी हरप्रीत सिंह की सुरक्षा को टेकओवर करेंगे। बता दें, सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद पंजाब में सुरक्षा वापसी का मुद्दा गरमा गया था। पंजाब सरकार ने सिद्धू मूसेवाला की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों की संख्या में कमी कर दी थी। हालांकि जब मूसेवाला की हत्या हुई तब वह किसी भी सुरक्षाकर्मी को अपने साथ नहीं ले गए थे। बहरहाल, मूसेवाला की हत्या के बाद विपक्ष सत्ता पक्ष पर हमलावर हो गया। मामले में कई वीवीआइपी हाई कोर्ट पहुंच गए। हाई कोर्ट ने पंजाब सरकार से मामले की जानकारी मांगी। इस पर पंजाब सरकार ने कहा कि आपरेशन ब्लूस्टार की बरसी के कारण सुरक्षा में कमी की गई थी। 7 जून तक सभी 424 वीआइपी की सुरक्षा बहाल कर दी जाएगी।
जत्थेदार की सुरक्षा को लेकर केंद्र सरकार के त्वरित फैसले पर भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता सरदार आरपी सिंह, सिख नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने गृहमंत्री अमित शाह एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसके लिए धन्यवाद किया है।

Related Articles

epaper

Latest Articles