spot_img
29.1 C
New Delhi
Tuesday, July 27, 2021
spot_img

महिलाओं की सुरक्षा के प्रति पुलिस कर्मियों को संवेदनशील बनाने की बड़ी पहल

–राष्ट्रीय महिला आयोग और पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो मिलकर करेंगे काम
–दोनों संस्थानों के बीच हुआ समझौता, चलेगा देशव्यापी प्रशिक्षण कार्यक्रम

नयी दिल्ली/ खुशबू पाण्डेय : राष्ट्रीय महिला आयोग ने देशभर में पुलिस कर्मियों को लैंगिक समानता के प्रति संवेदनशील बनाने के लिए पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के साथ मिलकर एक बड़ी पहल की है। दोनों संस्थान मिलकर देशव्यापी प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू करने जा रहे हैं। इसके जरिये महिलाओं से संबंधित कानूनों और नीतियों के संदर्भ में लैंगिक समानता के प्रति पुलिस कर्मियों की संवेदनशीलता को सुनिश्चित किया जाएगा। साथ ही महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों से निपटने के दौरान पुलिस अधिकारियों के रवैये और व्यवहार में बदलाव लाया जाएगा। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम को विशेष तौर पर आवासीय मोड में एक लघु गहन पाठ्यक्रम के रूप में 18-24 घंटे के अपेक्षित प्रशिक्षण के साथ तीन से लेकर पांच दिनों की अवधि के लिए आयोजित किया जाएगा। इसमें लैंगिक समानता से जुड़े मुद्दों, महिला संबंधी कानूनों, कार्यान्वयन एजेंसियों की भूमिका के साथ-साथ सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।


इसके अलावा महिला शिकायतकर्ताओं का पुलिस पर भरोसा बनाने के लक्ष्य को हासिल करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय महिला आयोग नियमित रूप से पुलिस अधिकारियों को लैंगिक समानता के प्रति संवेदनशील बनाने संबंधी कार्यक्रम आयोजित करता रहा है। इसी उद्देश्य के साथ राष्ट्रीय महिला आयोग ने लैंगिक समानता से जुड़े मुद्दों पर अधिकारियों को संवेदनशील बनाने और विशेष रूप से लैंगिक आधार पर होने वाले अपराधों के मामलों में पक्षपात एवं पूर्वाग्रह के बिना अपने कर्तव्यों को प्रभावी ढंग से निभाने के लिए उन्हें सशक्त बनाने के इरादे से देशभर में एक कार्यक्रम शुरू करने का निर्णय लिया है।
इसको लेकर दिल्ली में शुक्रवार को दोनों संस्थानों के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया है। इस मौके पर राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा, पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के महानिदेशक वी.एस.के. कौमुदी, एडीजी नीरज सिन्हा और डीआईजी (प्रशिक्षण) वंदन सक्सेना मौजूद रहे।

पुलिस को लैंगिक दृष्टिकोण से संवेदनशील होकर कार्य करने की जरूरत : रेखा शर्मा

इस मौके पर राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि विभिन्न सामाजिक-आर्थिक कारकों की वजह से महिला पीडि़तों के प्रति उनके पुरुष समकक्षों की तुलना में एक अलग रूख रखा जाता है और इसलिए महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा से संबंधित सभी मामलों में पुलिस को लैंगिक दृष्टिकोण से संवेदनशील होकर कार्य करने की जरूरत है। रेखा शर्मा ने कहा, महिलाओं के खिलाफ हिंसा के मामलों से अधिक कारगर ढंग से निपटने के लिए पुलिस अधिकारियों में आवश्यक कौशल और रवैया विकसित करने के लिए यह जरूरी है कि सभी राज्यों के पुलिस संगठन सभी स्तरों पर पुलिस कर्मियों को संवेदनशील बनाने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करने सहित सभी उपयुक्त पहल करें।

एक नये चरण की शुरूआत : VSK कौमुदी

पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के महानिदेशक वी.एस.के. कौमुदी ने कहा कि राष्ट्रीय महिला आयोग और पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के बीच इस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर महिलाओं की सुरक्षा के प्रति पुलिस कर्मियों को संवेदनशील बनाने की दिशा में सहयोग के एक नए चरण की शुरुआत है। यह कार्यक्रम, जिसका उद्देश्य लैंगिक समानता से जुड़े मुद्दों पर पुलिस कर्मियों को संवेदनशील बनाना है, पूरी तरह से आयोग द्वारा प्रायोजित किया जाएगा और इसे बीपीआरएंडडी द्वारा अपनी इकाइयों एवं अन्य हितधारकों के साथ समन्वय बनाते हुए एक विशेष मॉड्यूल के जरिए आगे बढ़ाया जाएगा।

Related Articles

epaper

Latest Articles