spot_img
29.1 C
New Delhi
Monday, July 26, 2021
spot_img

कोरोना वैक्सीनेशन के लिए ‘जान है तो जहान है ‘ बताएंगे धर्मगुरू

-21 जून से शुरू होगा बड़ा अभियान, ग्रामीण क्षेत्रों पर पूरा फोकस
-हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई आदि धर्मों के प्रमुख करेंगे अगुवाई
-केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने संभाला मोर्चा, सभी को किया एकजुट
-देश के सभी धर्मों के धर्म गुरू अभियान का बनेंगे हिस्सा, देंगे संदेश
-दिल्ली में जामा मस्जिद, फतेहपुरी मस्जिद, अजमेर शरीफ, दरगाह शरीफ के प्रमुख शामिल
-गुरुद्वारा कमेटी, चर्च के प्रमुख, जैन धर्म, बौद्व धर्म के प्रमुख बनेंगे वाहक

नई दिल्ली/ खुशबू पाण्डेय : देश भर के ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना वैक्सीनेशन के प्रति जागरूकता लाने एवं आशंकाओं-अफवाहों को रोकने के लिए एक बड़ा अभियान ‘जान है तो जहान है ‘ शुरू होने जा रहा है। यह अभियान भारत सरकार के अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की ओर से 21 जून से शुरू किया जा रहा है, जिसमें हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, जैन धर्म, बौद्व धर्म सहित सभी धर्मों के प्रमुख शामिल होंगे। राजधानी दिल्ली सहित देशभर में सभी धर्म गुरूओं के अलावा फिल्म-टेलीविजन क्षेत्र की हस्तियां लोगों में वैक्सीनेशन के प्रति जागरूकता का प्रभावी सन्देश देंगें। इसके अलावा विभिन्न सामाजिक, शैक्षिक संस्थाओं, स्वयं सहायता समूहों, महिला सेल्फ हेल्प ग्रुपों को शामिल किया गया है। साथ ही विभिन्न धार्मिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, शैक्षिक, मेडिकल एवं विज्ञान एवं अन्य क्षेत्रों के प्रमुख लोगों के सन्देश, नुक्कड़ नाटक आदि के जरिये सकारात्मक सन्देश दिया जायेगा। इसकी अगुवाई खुद केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी कर रहे हैं।

यह भी पढैं…PM मोदी ने किया आगाह, कोरोना वायरस मौजूद है हमें तैयार रहना होगा

अभियान का श्रीगणेश अल्पसंख्यक बाहुल्य जिला रामपुर (यूपी) से होगा। साथ ही अभियान देश के विभिन्न स्थानों पर एक साथ शुरू होगा। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बताया कि कुछ निहित स्वार्थी तत्वों ने देश के कुछ क्षेत्रों में कोरोना वैक्सीन को लेकर अफवाहों और आशंकाओं का माहौल बनाने की कोशिश की है। ऐसा भ्रम पैदा करने वाले लोगों की सेहत-सलामती के दुश्मन हैं। देश के वैज्ञानिकों के परिश्रम के परिणाम स्वरूप दो ‘मेड इन इंडिया ‘ कोरोना वैक्सीन तैयार हुई हैं, वैज्ञानिक रूप से यह साबित हो चुका है कि ये वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित हैं और कोरोना संक्रमण से बचाव का प्रमुख हथियार हैं।

यह भी पढैं…प्रवासी कामगारों को ढोने में जुटी रेलवे, 29.15 लाख यात्रियों ने कराई बुकिंग

नकवी ने कहा कि भारत में चल रहे दुनिया के सबसे बड़े कोरोना वैक्सिनेशन को लेकर आशंकाओं और अफवाहों को दूर करने के लिए ‘जान है तो जहान है ‘ अभियान में राज्य की हज कमेटियां, वक्फ बोर्ड, वक्फ से जुड़े शैक्षणिक संस्थान, केंद्रीय वक्फ काउंसिल, मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन, अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की नई रोशनी योजना के अंतरगर्त कार्यरत महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप एवं स्वयं सहायता समूह शामिल होंगे। केंद्रीय मंत्री नकवी ने कहा कि सरकार और समाज ने सावधानी, संवेदनशीलता, संयम के संकल्प के साथ इस कोरोना महामारी के खिलाफ मजबूती से लड़ाई लड़ी है। इसी का नतीजा है कि भारत इस आपदा से बाहर निकल रहा है।
‘जान है तो जहान है ‘ अभियान में दिल्ली जामा मस्जिद के शाही इमाम सय्यद अहमद बुखारी, फतेहपुरी मस्जिद, दिल्ली के इमाम डा. मुफ़्ती मुक्कर्रम अहमद, जैन धर्म गुरु आचार्य लोकेश मुनि, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा, अजमेर शरीफ दरगाह के सज्जादानशीन सय्यद जैनुल आबेदीन, अंजुमन सैयद जादगान, दरगाह शरीफ, अजमेर के अध्यक्ष हाजी सय्यद मोईन हुसैन,

यह भी पढैं…बीच में कैरियर छोड़ चुकी 100 महिला वैज्ञानिकों ने फिर की वापसी

खादिम दरगाह अजमेर शरीफ गुलाम किब्रिया दस्तगीर, आल इंडिया सूफी सज्जादानशीन कौंसिल के चेयरमैन सय्यद नसरुद्दीन चिश्ती, दरगाह निजामुद्दीन, दिल्ली के सज्जादानशीन सय्यद हम्माद निजामी, शिया मस्जिद दिल्ली के शाही इमाम मौलाना मोहम्मद अली मोहसिन तकवी, इंटर फेथ हारमनी फाउंडेशन ऑफ इंडिया के फाउंडर डा. ख्वाजा इफतिखार अहमद, अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के वाईस चांसलर डा. तारिक मंसूर, ऑल इंडिया इमाम ऑर्गनाईजेशन के चीफ इमाम डा. उमेर अहमद इलियासी, जाने माने न्यूरोसर्जन डा. माजदा तुरेल, डायरेक्टर, यूनेस्को पारजोर और जियो पारसी डा. शेरनाज कामा, विभिन्न ईसाई एवं बौद्ध धर्म गुरु, फिल्म-टेलीविजन क्षेत्र की हस्तियां आदि लोगों में वैक्सीनेशन के प्रति जागरूकता का प्रभावी सन्देश देंगें।

Related Articles

epaper

Latest Articles