spot_img
28.1 C
New Delhi
Friday, October 22, 2021
spot_img

स्कूल में 27 साल की महिला केयरटेकर नाबालिग लड़के का करती रही यौन शोषण

—अदालत ने महिला को यौन शोषण का पाया दोषी, हुई 20 साल की जेल
—महिला को 20 हजार रुपये का जुर्माना भी अदालत ने ठोंका
—एक नामचीन स्कूल की केयरटेकर थी महिला, दी थी बच्चे को धमकी

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : देश में महिलाओं एवं लड़कियों के साथ यौन शोषण की खबरें तो आप रोजाना पढते एवं सुनते होंगे, लेकिन एक 27 साल की महिला नाबालिग लड़के का लंबे समय तक यौन शोषण करती रहे, ऐसी खबर आपने नहीं सुनी होगी। जी हां, यह सौ फीसदी सच खबर है। और नाबालिग लड़के का यौन शोषण करने के जुर्म में उक्त महिला को 20 साल की सजा हो गई है। सजा के अलावा महिला पर 20 हजार रुपये का जुर्माना भी अदालत ने ठोंका है। यह मामला दक्षिण भारत के हैदराबाद से जुडा है।
यहां की अदालत ने पॉक्सो एक्ट से संबंधित केसों से जुड़े एक फास्ट ट्रैक स्पेशल कोर्ट ने महिला को बच्चे के यौन उत्पीड़न का दोषी पाया। महिला के बारे में बताया जा रहा है कि वो एक स्कूल में केयरटेकर के तौर पर काम करती थी। इस मामले में बच्चे के पिता की शिकायत पर पुलिस ने दिसंबर 2017 में थाने में शिकायत दर्ज की थी।

यह भी पढें… DSP संग स्विमिंग पूल में सेक्सुअल गतिविधियां करने वाली महिला कांस्टेबल गिरफ्तार

शिकायत दर्ज होने के बाद पुलिस ने इस मामले में पॉक्सो एक्ट के अलावा भारतीय दंड संहिता की अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज किया था। अपनी शिकायत में पीड़ित बच्चे के पिता ने पुलिस को बताया था कि उन्हें अपने बेटे के शरीर पर जलने के निशान मिले थे। इसके बाद उन्होंने इसकी पड़ताल शुरू की थी। जांच-पड़ताल में पता चला कि स्कूल की केयरटेकर उनके बच्चे को गलत तरीके से छूती थीं। लड़के ने अपने पिता को बताया कि उस महिला ने हाल ही में स्कूल ज्वाइन किया है और कई बार उसके साथ उन्होंने गलत व्यवहार किया।

यह भी पढें…विवाहित पत्नी के साथ यौन संबंध या कोई भी यौन कृत्य बलात्कार नहीं

पुलिस के मुताबिक लड़के ने अपने पिता को बताया था कि यह महिला उसे धमकियां भी दिया करती थी। यहां तक कि उसने बच्चे को सिगरेट से जलाया भी था।
बच्चे का यह भी आरोप था कि महिला ने कई बार उसका यौन शोषण किया। महिला ने बच्चे को धमकी दी थी कि अगर उसने अपने पिता या किसी अन्य रिश्तेदार को यह सबकुछ बताया तो उसे गंभीर परिणाम भुगतना होगा। पुलिस की जांच में मिले सबूत और अदालत में सहायक पब्लिक प्रॉसिक्यूटर आयशा राफाथ की दलीलों को सुनने के बाद कोर्ट ने महिला को दोषी मानते हुए उसे 20 साल की सजा सुनाई।

Related Articles

epaper

Latest Articles